Current Affairs Hindi – June 6 2019

हैलो दोस्तों, affairscloud.com में आपका स्वागत है। हम यहां आपके लिए 6 जून ,2019 के महत्वपूर्ण करंट अफेयर्स को विभिन्न अख़बारों जैसे द हिंदू, द इकोनॉमिक टाइम्स, पीआईबी, टाइम्स ऑफ इंडिया, इंडिया टुडे, इंडियन एक्सप्रेस, बिजनेस स्टैंडर्ड,जागरण से चुन करके एक अनूठे रूप में पेश करते हैं। हमारे Current Affairs से आपको बैंकिंग, बीमा, यूपीएससी, एसएससी, सीएलएटी, रेलवे और अन्य सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

Click here to Read Current Affairs Today in Hindi – 5 June 2019Current Affairs June 6 2019

INDIAN AFFAIRS

केंद्र सरकार ने आठ प्रमुख कैबिनेट समितियों का पुनर्गठन किया:Eight key cabinet committees6 जून, 2019 को, व्यापार नियमों के तहत, केंद्र सरकार ने आठ प्रमुख कैबिनेट समितियों का पुनर्गठन किया है। इनमें शामिल हैं -अपॉइंटमेंट कमेटी, कमेटी ऑन एकोमोडेशन, इकोनॉमिक अफेयर्स, पार्लियामेंट्री अफेयर्स, पॉलिटिकल अफेयर्स, सिक्योरिटी, इन्वेस्टमेंट एंड ग्रोथ और कैबिनेट कमेटी ऑन एंप्लॉयमेंट एंड स्किल डेवलपमेंट।
प्रमुख बिंदु:
-केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में निवेश और रोजगार को बढ़ावा देने के लिए निवेश और विकास पर कैबिनेट समिति और रोजगार और कौशल संबंधी कैबिनेट समिति नामक दो नई कैबिनेट समितियों का गठन किया।
मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति (अपॉइंटमेंट कमेटी) में प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्रालय के मंत्री श्री अमित शाह है। इसकी अध्यक्षता पीएम नरेंद्र मोदी करेंगे।
आवास पर कैबिनेट समिति (कमेटी ऑन एकोमोडेशन) में श्री अमित शाह (गृह मामलों के मंत्री), नितिन जयराम गडकरी (सड़क और राजमार्ग मंत्री, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री), निर्मला सीतारमण, (वित्त मंत्री, कॉर्पोरेट मामलों की मंत्री) और श्री पीयूष गोयल, (रेल मंत्री, वाणिज्य और उद्योग मंत्री) होंगे। इसकी अध्यक्षता अमित शाह करेंगे। विशेष आमंत्रित सदस्य जितेंद्र सिंह और हरदीप सिंह पुरी हैं।
आर्थिक मामलों (इकोनॉमिक अफेयर्स) की कैबिनेट समिति में प्रधान मंत्री, श्री राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री श्री अमित शाह, गृह मंत्री श्री नितिन जयराम गडकरी, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री, श्री डी.वी.सदानंद गौड़ा, रसायन और उर्वरक मंत्री, श्रीमती निर्मला सीतारमण, वित्त मंत्री, कॉर्पोरेट मामलों की मंत्री, श्री नरेंद्र सिंह तोमर, कृषि और किसान कल्याण मंत्री, ग्रामीण विकास मंत्री और पंचायती राज मंत्री, श्री रविशंकर प्रसाद, संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री, और कानून और न्याय मंत्री, श्रीमती हरसिमरत कौर बादल, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री, डॉ.सुब्रह्मण्यम जयशंकर, विदेश मंत्री, श्री पीयूष गोयल, रेल मंत्री, वाणिज्य और उद्योग मंत्री, श्री धर्मेन्द्र प्रधान, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और इस्पात मंत्री शामिल है। इसकी अध्यक्षता पीएम नरेंद्र मोदी करेंगे।
संसदीय मामलों (पार्लियामेंट्री अफेयर्स) की मंत्रिमंडलीय समिति में गृह मामलों के मंत्री श्री अमित शाह, श्रीमती निर्मला सीतारमण, वित्त मंत्री, कॉर्पोरेट मामलों की मंत्री, श्री रामविलास पासवान, उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री, श्री नरेंद्र सिंह तोमर, कृषि और किसान कल्याण मंत्री, ग्रामीण विकास मंत्री और पंचायती राज मंत्री, श्री रविशंकर प्रसाद, संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री और कानून और न्याय मंत्री, श्री थावर चंद गहलोत, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री, श्री प्रकाश जावड़ेकर, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री, सूचना और प्रसारण मंत्री, श्री प्रह्लाद जोशी, संसदीय कार्य मंत्री, कोयला और खान मंत्री शामिल है। इसकी अध्यक्षता राजनाथ सिंह करेंगे। विशेष आमंत्रित सदस्य अर्जुन राम मेघवाल और वी मुरलीधरन हैं।
राजनीतिक मामलों (पॉलिटिकल अफेयर्स) की मंत्रिमंडलीय समिति में प्रधान मंत्री, श्री अमित शाह, गृह मंत्री, श्री नितिन जयराम गडकरी, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री, श्रीमती निर्मला सीतारमण, वित्त मंत्री, कॉर्पोरेट मामलों की मंत्री, श्री रामविलास पासवान, उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री, श्री नरेंद्र सिंह तोमर, कृषि और किसान कल्याण मंत्री, ग्रामीण विकास मंत्री और पंचायती राज मंत्री, श्री रविशंकर प्रसाद, संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री और कानून और न्याय मंत्री, श्रीमती हरसिमरत कौर बादल, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री, डॉ.हर्षवर्धन, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री और पृथ्वी विज्ञान मंत्री, श्री पीयूष गोयल, रेल मंत्री, वाणिज्य और उद्योग मंत्री, श्री अरविंद गणपत सावंत, भारी उद्योग और सार्वजनिक उपक्रम मंत्री, श्री प्रहलाद जोशी, संसदीय कार्य मंत्री, कोयला और खान मंत्री शामिल है। इसकी अध्यक्षता पीएम नरेंद्र मोदी करेंगे।
सुरक्षा (सिक्योरिटी) पर कैबिनेट समिति में प्रधान मंत्री, श्री राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री, श्री अमित शाह, गृह मंत्री, श्रीमती निर्मला सीतारमण, वित्त और कॉर्पोरेट मामलों की मंत्री, डॉ.सुब्रह्मण्यम जयशंकर, विदेश मंत्री शामिल है। इसकी अध्यक्षता पीएम नरेंद्र मोदी करेंगे।
निवेश और विकास (इन्वेस्टमेंट एंड ग्रोथ) संबंधी कैबिनेट समिति में प्रधान मंत्री, श्री अमित शाह, गृह मंत्री, श्री नितिन जयराम गडकरी, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री, सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्यम मंत्री, श्रीमती निर्मला सीतारमण, वित्त और कॉर्पोरेट मामलों की मंत्री, श्री पीयूष गोयल, रेल मंत्री और वाणिज्य और उद्योग मंत्री शामिल है। इसकी अध्यक्षता पीएम नरेंद्र मोदी करेंगे।
रोजगार और कौशल विकास (एंप्लॉयमेंट एंड स्किल डेवलपमेंट) समिति में प्रधान मंत्री, श्री अमित शाह, गृह मंत्री, श्रीमती निर्मला सीतारमण, वित्त और कॉर्पोरेट मामलों की मंत्री, श्री नरेंद्र सिंह तोमर, कृषि और किसान कल्याण मंत्री, ग्रामीण विकास मंत्री और पंचायती राज मंत्री, श्री पीयूष गोयल, रेल और उद्योग और वाणिज्य मंत्री, श्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’, मानव संसाधन विकास मंत्री, श्री धर्मेंद्र प्रधान, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री और इस्पात मंत्री, डॉ.महेंद्र नाथ पांडे, कौशल और उद्यमिता विकास मंत्री, श्री संतोष कुमार गंगवार, राज्य मंत्री (स्वंतत्र प्रभार) श्रम और रोजगार, श्री हरदीप सिंह पुरी, आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के राज्य मंत्री (स्वंतत्र प्रभार), नागरिक उड्डयन मंत्रालय के राज्य मंत्री (स्वंतत्र प्रभार) और वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय में राज्य मंत्री। इसकी अध्यक्षता पीएम नरेंद्र मोदी करेंगे। विशेष आमंत्रित सदस्य नितिन गडकरी, हरसिमरत कौर बादल, स्मृति ईरानी, ​​प्रहलाद सिंह पटेल हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिल्ली में आयोजित संशोधित राष्ट्रीय तपेदिक नियंत्रण कार्यक्रम (आरएनटीसीपी) की स्थिति की समीक्षा के लिए बैठक की अध्यक्षता की:
4 जून, 2019 को केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ.हर्षवर्धन ने नई दिल्ली में संशोधित राष्ट्रीय तपेदिक नियंत्रण कार्यक्रम (आरएनटीसीपी) की स्थिति की समीक्षा के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक की।
प्रमुख बिंदु:
i.बैठक में, मंत्रालय ने सभी अधिकारियों को टीबी (क्षय रोग) को खत्म करने के लिए ‘मिशन मोड’ के रूप में एक आवश्यक कदम उठाने का निर्देश दिया।
ii.मिशन में 2025 तक भारत को तपेदिक मुक्त बनाने के लिए सभी हितधारकों को एक साथ आना शामिल है।
iii.मंत्रालय ने आगे सुझाव दिया कि टीबी को संबोधित करने के लिए अभिनव दृष्टिकोण अपनाए जाने चाहिए। टीबी मुक्त भारत का नारा ‘टीबी हारेगा देश जीतेगा’ है।
संशोधित राष्ट्रीय तपेदिक नियंत्रण कार्यक्रम के बारे में:
i.भारत सरकार ने 1962 में राष्ट्रीय टीबी कार्यक्रम शुरू किया।
ii.संशोधित राष्ट्रीय तपेदिक नियंत्रण कार्यक्रम (आरएनटीसीपी), अंतर्राष्ट्रीय रूप से अनुशंसित डायरेक्टली ओब्जेर्वड ट्रीटमेंट शॉर्ट-कोर्स (डॉट्स) रणनीति के आधार पर, 1997 में शुरू किया गया था।
iii.2006 तक इसका देश भर में विस्तार हुआ।
iv.2007 में, भारत सरकार ने ड्रग रेजिस्टेंस से निपटने के लिए प्रोग्राममैटिक मैनेजमेंट ऑफ़ ड्रग रेजिस्टेंट टीबी (पीएमडीटी) की शुरुआत की और 2013 तक पूरी भौगोलिक कवरेज हासिल की।

सूचना के आदान-प्रदान के लिए भारत और मार्शल द्वीप समूह के बीच समझौता:
करों के संबंध में सूचना के आदान-प्रदान के लिए भारत सरकार और मार्शल द्वीप समूह के बीच समझौते पर हस्ताक्षर 18 मार्च, 2016 को माजुरो, रिपब्लिक ऑफ द मार्शल द्वीप समूह में किए गए थे। इंडियन-मार्शल टैक्स इंफॉर्मेशन एक्सचेंज एग्रीमेंट (टीआईईए) को भारत के राजपत्र में अधिसूचित किया गया था।
प्रमुख बिंदु:
i.समझौता कर मामलों में सूचना के आदान-प्रदान के लिए एक रूपरेखा प्रदान करता है जो कर चोरी और कर से बचाव वाले मामलों में मदद करता है।
ii.यह कर उद्देश्यों के लिए दो देशों के बीच बैंकिंग और स्वामित्व जैसी जानकारी प्रदान करता है।
मार्शल द्वीप के बारे में:
♦ राजधानी – माजुरो
♦ मुद्रा – संयुक्त राज्य अमेरिका डॉलर
♦ राष्ट्रपति – हिल्डा कैथी हेइन
♦ प्रधान मंत्री – स्टीफन लोफवेन

INTERNATIONAL AFFAIRS

मुंबई दुनिया के सबसे भीड़भाड़ वाले शहर में पहले स्थान पर, दिल्ली चौथे स्थान पर: ट्रैफिक इंडेक्स 2018world-traffic-index-20185 जून, 2019 को, हालिया अध्ययन ‘ट्रैफिक इंडेक्स 2018’, स्थान प्रौद्योगिकी विशेषज्ञ टॉमटॉम द्वारा यातायात गतिशीलता की वर्तमान स्थिति का विश्लेषण किया गया था।
मुख्य निष्कर्ष:
i.निष्कर्षों के अनुसार, 56 देशों के 403 शहरों में मुंबई सबसे अधिक यातायात-भीड़भाड़ वाला शहर है, जिसमें 65 प्रतिशत की भीड़ है, जबकि नई दिल्ली 58 प्रतिशत की भीड़ के साथ चौथे स्थान पर है।
ii.भीड़भाड़ वाले शहरों की सूची में अन्य शीर्ष शहरों में बोगोटा (63 प्रतिशत), पेरू में लीमा (58 प्रतिशत), रूस में मास्को (56 प्रतिशत), ब्रुसेल्स (37 प्रतिशत), लंदन (37 प्रतिशत) और पेरिस (36 प्रतिशत) हैं।
iii.शीर्ष पांच सबसे भीड़भाड़ वाले उत्तर अमेरिकी सूची में मेक्सिको सिटी (52 प्रतिशत), लॉस एंजिल्स (41 प्रतिशत), वैंकूवर (38 प्रतिशत), न्यूयॉर्क (36 प्रतिशत) और सैन फ्रांसिस्को (34 प्रतिशत) हैं।

BANKING & FINANCE

आरबीआई की 2019-20 की दूसरी द्वि-मासिक मौद्रिक नीति:Bi-monthly Monetary Policyभारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) ने 6 जून, 2019 को मुंबई में 2019-20 के लिए अपनी दूसरी द्विमासिक मौद्रिक नीति दरों की घोषणा की। मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) के छह सदस्यों द्वारा तीन दिवसीय नीति समीक्षा बैठक आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास की अध्यक्षता में सदस्यों डॉ.चेतन घाटे, डॉ.पामी दुआ, डॉ.रविंद्र एच.ढोलकिया, डॉ.माइकल देवव्रत पात्रा, डॉ.विराल वी.आचार्य के साथ की गई। अगली मौद्रिक नीति वक्तव्य 5-7 अगस्त, 2019 को निर्धारित है।
बैठक की मुख्य विशेषताएं:
बैठक में निम्नलिखित घोषणाएँ की गईं:
दुर्लभ 6-0 बहुमत में, रेपो रेट (दर) लिक्विडिटी एडजस्टमेंट फैसिलिटी (एलएएफ) के तहत 25 बीपीएस घटकर लगातार तीसरी बार 5.75 प्रतिशत हो गई। यह सितंबर 2010 के बाद से 9 वर्षों में पहली बार 6% से नीचे आ गई।
वर्तमान नीति दरें:

रेपो रेट5.75%
रिवर्स रेपो रेट5.50
मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी (एमएसएफ) रेट6.0%
बैंक रेट6.0%

रिज़र्व रेश्यो:

कैश रिज़र्व रेश्यो (सीआरआर)4%
स्टेचूरी लिक्विडिटी रेश्यो (एसएलआर)19%

-आरबीआई ने नीतिगत रुख को ‘न्यूट्रल’ से ‘एकोमोडेटिव’ कर दिया।
-डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए आरटीजीएस और एनईएफटी शुल्क माफ किए गए।
-बैंकों द्वारा लगाए गए एटीएम शुल्क और शुल्क की समीक्षा के लिए एक पैनल गठित किया गया।
-इसने अगस्त तक छोटे वित्त बैंकों के ‘टैप’ लाइसेंस के लिए मसौदा दिशानिर्देश जारी करने पर जोर दिया।
-इसने निवेश में तेज मंदी, निजी खपत में कम वृद्धि को चिंता के रूप में देखा।
-जून की शुरुआत में सिस्टम में औसत दैनिक अधिशेष तरलता 66,000 करोड़ रूपये थी।
-31 मई, 2019 को विदेशी मुद्रा भंडार 421.9 अरब डॉलर था।

आरबीआई ने ‘बेंचमार्किंग इंडियाज पेमेंट सिस्टमस’ पर रिपोर्ट जारी की:RBI releases report on Benchmarking India's Payment Systems4 जून, 2019 को, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने ‘बेंचमार्किंग इंडियाज पेमेंट सिस्टमस’ पर एक रिपोर्ट जारी की। यह भारत में भुगतान प्रणाली पारिस्थितिकी तंत्र की तुलनात्मक स्थिति प्रदान करता है। आरबीआई ने जुलाई में अपनी मौद्रिक नीति बयान में कहा था कि भारत की भुगतान प्रणालियों को बेंचमार्क करना आवश्यक था। परिणामस्वरूप, रिपोर्ट जारी की गई।
प्रमुख बिंदु:
-आरबीआई ने उन्नत अर्थव्यवस्थाओं, एशियाई अर्थव्यवस्थाओं और ब्रिक्स देशों की भुगतान प्रणालियों की तुलना में भारत के भुगतान प्रणाली को बेंचमार्क करने की कवायद की थी।
-विश्लेषण 41 संकेतकों के तहत आयोजित किया गया था। इसमें विनियमन, ओवरसाइट, भुगतान प्रणाली, भुगतान उपकरण, भुगतान बुनियादी ढांचा, उपयोगिता भुगतान, सरकारी भुगतान, ग्राहक संरक्षण और शिकायत निवारण, प्रतिभूति निपटान और समाशोधन प्रणाली और सीमा पार व्यक्तिगत प्रेषण सहित 21 व्यापक क्षेत्र शामिल हैं।
-रिपोर्ट के अनुसार, भारत में एक मजबूत नियामक प्रणाली और मजबूत बड़े मूल्य और खुदरा वाली भुगतान प्रणाली हैं, जिन्होंने भुगतान प्रणालियों में लेनदेन की मात्रा में तेजी से वृद्धि में योगदान दिया है।
-देश को डिजिटल भुगतान बढ़ाने के लिए कागजी समाशोधन की मात्रा को कम करने और स्वीकृति बुनियादी ढांचे को बढ़ाने के लिए और प्रयास करने की आवश्यकता है।
-इसने बताया कि भारत प्रति व्यक्ति आवश्यक कानून और नकदी रखने जैसे क्षेत्रों में मजबूत है। लेकिन कुछ मापदंडों में कमजोर है जैसे चेक के उपयोग में गिरावट, भुगतान प्रणालियों में कार्ड भुगतान का हिस्सा और प्रचलन में नकदी की मात्रा की तुलना में कार्ड भुगतान का मूल्य।
-प्रचलन में उच्च स्तर की नकदी भुगतान के डिजिटलीकरण के उच्च स्तर के लिए गुंजाइश रखती है और इससे चेक उपयोग में गिरावट धीमी हो गई है।
-उपयोगिता बिलों का डिजिटल भुगतान बहुत कम है। हालाँकि, भारत बिल भुगतान प्रणाली, एक एकीकृत इंटरऑपरेबल बिल भुगतान प्रणाली है, जिसने 12 अक्टूबर, 2017 को परिचालन शुरू किया, और इससे बिजली, दूरसंचार, डायरेक्ट-टू-होम, गैस और पानी जैसे उपयोगिता बिलों के डिजिटल भुगतान की सुविधा की उम्मीद है।
-इसमें कहा गया है कि भारत भुगतान प्रणाली, जारी किए गए डेबिट कार्डों की संख्या और स्वचालित टेलर मशीनों की विनियमन में एक ‘लीडर’ है।
भारतीय रिजर्व बैंक के बारे में:
♦ मुख्यालय: मुंबई
♦ राज्यपाल: शक्तिकांत दास
♦ उप राज्यपाल: बीपी कनूनगो, एन एस विश्वनाथन, विराल आचार्य और महेश कुमार जैन

आरटीजीएस और एनईएफटी लेनदेन के लिए आरबीआई ने शुल्क हटा दिया:
भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (आरटीजीएस) और नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (एनईएफटी) लेनदेन पर लगाए गए शुल्कों को हटा दिया है।
प्रमुख बिंदु:
i.वर्तमान में, बैंक आरटीजीएस प्रणाली के माध्यम से बड़े मूल्य (2 लाख रुपये और अधिक) के लिए किए गए लेनदेन और अन्य फंड ट्रांसफर (2 लाख रुपये से नीचे) के लिए एनईएफटी सिस्टम के लिए न्यूनतम शुल्क लेते हैं।
ii.आरबीआई ने भारतीय बैंक संघ (आईबीए) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओं) वी.जी.कन्नन की अध्यक्षता में स्वचालित टेलर मशीनों (एटीएम) के शुल्क और शुल्क के दायरे की जांच करने के लिए एक समिति गठित करने का निर्णय लिया है। समिति को अपनी पहली बैठक के दो महीने के भीतर अपनी सिफारिशें प्रस्तुत करनी है और एक सप्ताह के भीतर कम्पोजीशन और टर्म्स ऑफ़ रेफेरेंस (संदर्भ की शर्तें) जारी की जाएंगी।
आरटीजीएस के बारे में:
आरटीजीएस निधियों (फंड्स) का निरंतर (वास्तविक समय) निपटान है जो ऑर्डर (नेटिंग के बिना) के आधार पर व्यक्तिगत रूप से स्थानांतरित किया जाता है। ‘रियल टाइम’ इसका मतलब यह है कि उसी समय मिलते ही निर्देशों का प्रसंस्करण करना बजाय उन्हें बाद में करने के, ‘ग्रॉस सेटलमेंट ‘का अर्थ है कि धन हस्तांतरण निर्देशों का निपटान व्यक्तिगत रूप से होता है। आरटीजीएस के माध्यम से भेजे की जाने वाली न्यूनतम राशि 2 लाख रुपये है। आरटीजीएस लेनदेन के लिए कोई ऊपरी सीमा नहीं है।
एनईएफटी के बारे में:
इस योजना के तहत, व्यक्ति, फर्म और कॉरपोरेट किसी भी बैंक शाखा से किसी भी व्यक्ति, फर्म या कॉरपोरेट को किसी भी बैंक शाखा में खाता रखने वाले देश में किसी भी अन्य बैंक शाखा में धनराशि का हस्तांतरण कर सकते हैं।
आरबीआई की वेबसाइट के अनुसार, एनईएफटी के लिए ग्राहक पर लगाए जाने वाले शुल्कों की सूची नीचे दी गई है:
♦ गंतव्य बैंक शाखाओं में आवक लेनदेन (लाभार्थी खातों के क्रेडिट के लिए): लाभार्थियों पर मुफ्त, कोई शुल्क नहीं लगाया जाएगा
♦ ओरिजिनेटिंग बैंक शाखाओं से बाहरी लेनदेन – भेजने वाले के लिए लागू शुल्क
-10,000 रुपये तक के लेनदेन के लिए: 2.50 रूपये से अधिक नहीं (+ लागू जीएसटी)
-10,000 रुपये से ऊपर और 1 लाख रुपये तक के लेनदेन पर: 5 रुपये से अधिक नहीं (+ लागू जीएसटी)
-1 लाख रुपये से अधिक और 2 लाख रुपये तक के लेन-देन के लिए: 15 रुपये से अधिक नहीं (+ लागू जीएसटी)
-2 लाख रुपये से अधिक के लेनदेन के लिए: 25 रुपये से अधिक नहीं (+ लागू जीएसटी)

आरबीआई की एमपीसी द्वारा वित्त वर्ष 2020 के लिए जीडीपी वृद्धि का अनुमान 7.2% से घटकर 7% किया गया:
आरबीआई की एमपीसी (मोनेटरी पालिसी कमेटी) ने घरेलू गतिविधियों में सुस्ती और वैश्विक व्यापार युद्ध में वृद्धि के कारण वित्त वर्ष 20 के लिए अपने सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के वृद्धि दर अनुमान को 7.2% से 7% तक कम कर दिया।
i.अप्रैल की मौद्रिक नीति में, 2019-20 के लिए सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि 7.2% पर अनुमानित थी – वित्त वर्ष की पहली छमाही के लिए 6.8-7.1% की सीमा में और दूसरी छमाही के लिए 7.3-7.4% की सीमा में – समान रूप से संतुलित जोखिमों के साथ।
ii.जनवरी-मार्च तिमाही 2018-19 के लिए डेटा ने संकेत दिया कि घरेलू निवेश गतिविधि कमजोर हो गई है और समग्र मांग को निर्यात कम करके कम किया गया है।
अतिरिक्त जानकारी:
♦ रेपो रेट: यह वह दर है जिस पर आरबीआई वाणिज्यिक बैंकों को पैसा उधार देता है।
♦ रिवर्स रेपो रेट: यह वह दर है जिस पर आरबीआई वाणिज्यिक बैंकों से पैसा उधार लेता है।
♦ कैश रिज़र्व रेश्यो (सीआरआर): शुद्ध माँग और समय देनदारियों (जमा) का हिस्सा जो बैंकों को रिज़र्व बैंक के पास नकद शेष रखना चाहिए।
♦ स्टेचूरी लिक्विडिटी रेश्यो (एसएलआर): शुद्ध मांग और समय देनदारियों (जमा) का हिस्सा जो बैंकों को सुरक्षित और तरल संपत्ति, जैसे कि, सरकारी प्रतिभूतियों, नकदी और सोने में बनाए रखना चाहिए।
♦ बैंक रेट: यह वह दर है जिस पर रिज़र्व बैंक दीर्घावधि के लिए कमर्शियल पेपर्स को खरीदने या बिल्स ऑफ़ एक्सचेंज को रीडिस्काउंट करने के लिए तैयार होता है।
♦ मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी (एमएसएफ) रेट: वह दर जिस पर अनुसूचित बैंक अनुमोदित सरकारी प्रतिभूतियों के बदले रातोंरात आरबीआई से निधियों को उधार ले सकते हैं, इसे एमएसएफ रेट कहा जाता है।

अशोक लेलैंड ने वाहन ऋण के लिए सूर्योदय स्माल फाइनेंस बैंक के साथ भागीदारी की:
4 जून, 2019 को, अशोक लेलैंड, हिंदुजा समूह की प्रमुख फर्म, ने वाहन ऋण प्रदान करने के लिए सूर्योदय स्माल फाइनेंस बैंक के साथ भागीदारी की।
प्रमुख बिंदु:
i.इस साझेदारी के तहत, सूर्योदय स्माल फाइनेंस बैंक, भारत भर में ऑटो ऋण के लिए अशोक लेलैंड के ग्राहकों को एंड-टू-एंड वित्तीय समाधान प्रदान करेगा।
ii.रणनीतिक वित्तपोषण साझेदारी समझौते पर 3 साल के लिए हस्ताक्षर किए गए।

BUSINESS & ECONOMY

सीआईआई ने राजकोषीय प्रदर्शन को मापने के लिए नए सूचकांक का अनावरण किया:CII unveiled new Indexभारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) ने राजकोषीय प्रदर्शन को मापने के लिए एक नया सूचकांक लॉन्च किया है जिसका शीर्षक है ‘राजकोषीय प्रदर्शन सूचकांक’ या ‘फिस्कल परफॉरमेंस इंडेक्स’ (एफपीआई)। यह केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा प्रस्तुत बजट की गुणवत्ता का आकलन करने के लिए कई संकेतकों का उपयोग करता है।
प्रमुख बिंदु:
-एफपीआई का निर्माण संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) मानव विकास सूचकांक पद्धति का उपयोग करके किया गया है। इसमें 6 घटक शामिल हैं।
-नए सूचकांक के अनुसार, बुनियादी ढांचे, शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और अन्य सामाजिक क्षेत्रों पर खर्च आर्थिक विकास के लिए फायदेमंद माना जाता है। इसके अलावा, कर राजस्व को एक बार के आय स्रोतों के खिलाफ सरकार के लिए राजस्व का स्थायी स्रोत माना जाता है।
-सीआईआई ने 2004-05 से 2016-17 तक राज्य और केंद्रीय बजट का विश्लेषण करने के लिए इस सूचकांक का उपयोग किया है। इसने देखा कि सुधारों के बावजूद, वित्त वर्ष 2013 और वित्त वर्ष 18 के बीच राजकोषीय घाटे में कमी रही, बजट का समग्र प्रदर्शन केवल वित्त वर्ष 2016 और वित्त वर्ष 17 में सुधार के साथ स्थिर रहा।
-विश्लेषण में कहा गया है कि गुजरात, हरियाणा और महाराष्ट्र जैसे उच्च आय वाले राज्यों को राजकोषीय घाटे- जीडीपी अनुपात में कमी के कारण अच्छे राजकोषीय स्वास्थ्य रखने वाले राज्य माना जाता है, उन्होंने खराब खर्च और राजस्व की गुणवत्ता के परिणामस्वरूप समग्र एफपीआई पर अच्छा प्रदर्शन नहीं किया। मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश और बिहार सहित अन्य राज्यों ने एफपीआई पर राजस्व और पूंजीगत व्यय के अच्छे प्रदर्शन के कारण अच्छा प्रदर्शन किया है।
एफपीआई के 6 मुख्य घटक:
1.राजस्व व्यय की गुणवत्ता: इसे जीडीपी में ब्याज भुगतान, सब्सिडी, पेंशन और रक्षा के अलावा अन्य राजस्व व्यय की हिस्सेदारी से मापा जाता है।
2.पूंजीगत व्यय की गुणवत्ता: इसे जीडीपी में पूंजीगत व्यय (रक्षा के अलावा) के हिस्से से मापा जाता है।
3.राजस्व की गुणवत्ता: इसे शुद्ध कर राजस्व से सकल घरेलू उत्पाद के अनुपात (राज्यों के मामले में उनका कर राजस्व) से मापा जाता है।
4.राजकोषीय सावधानी I की डिग्री : राजकोषीय घाटा से जीडीपी का अनुपात।
5.राजकोषीय सावधानी II की डिग्री : राजस्व घाटा से जीडीपी का अनुपात।
6.ऋण सूचकांक: ऋण और गारंटी में परिवर्तन से जीडीपी का अनुपात।

दिल्ली मेट्रो कचरे से ऊर्जा प्राप्त करने वाली भारत की पहली परियोजना:India's first project to receive power from waste-to-energyदिल्ली मेट्रो ‘कचरे से ऊर्जा संयंत्र’ से बिजली प्राप्त करने वाला भारत का पहला प्रोजेक्ट बन गया। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) ने उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में स्थापित 12 मेगावाट क्षमता के कचरे से ऊर्जा संयंत्र से 2 मेगावाट बिजली प्राप्त करना शुरू किया।
प्रमुख बिंदु:
i.जून के बाद से, डीएमआरसी ने दिल्ली मेट्रो की पिंक लाइन की परिचालन आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए विनोद नगर रिसिविंग सब-स्टेशन (आरएसएस) में सुविधा से बिजली प्राप्त की।
ii.यह संयंत्र से प्रति वर्ष लगभग 17.5 मिलियन यूनिट का उपयोग करेगी।
iii.’कचरे से ऊर्जा संयंत्र’ की स्थापना ईस्ट दिल्ली वेस्ट प्रोसेसिंग कंपनी लिमिटेड (ईडीडब्लूपीसीएल) द्वारा की गई थी। यह दिल्ली सरकार और पूर्वी दिल्ली नगर निगम (ईडीएमसी) के बीच एक पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) पर आधारित है।
iv.यह 1,500 टन प्रति दिन (टीपीडी) से ज्यादा के कचरे की प्रक्रिया के लिए स्थापित है और 12 मेगावाट हरित शक्ति उत्पन्न करता है। इसके साथ ही, यह परियोजना इसके जीवनकाल में 8 मिलियन टन से अधिक ग्रीनहाउस गैसों (जीएचजी) को कम करने में मदद करेगा।
v.डीएमआरसी ने निर्माण और विध्वंस (सी एंड डी) के पुनर्चक्रण के लिए 150 टन प्रतिदिन की क्षमता वाले आईएल एंड एफसी एनवायर्नमेंटल इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड सर्विसेज लिमिटेड (आईईआईएसएल) के साथ पीपीपी मॉडल पर रोहिणी में एक सुविधा शुरू की है।

AWARDS & RECOGNITIONS

गंगा क्वेस्ट 2019 के विजेताओं को जल शक्ति मंत्री, गजेंद्र सिंह शेखावत ने पुरस्कार प्रस्तुत किए:Ganga Quest 20195 जून 2019 को, विश्व पर्यावरण दिवस 2019 को मनाने के लिए नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा (एनएमसीजी) द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में, केंद्रीय जल शक्ति मंत्री, श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, ने गंगा नदी के बारे में जागरूकता और ज्ञान प्रसार के लिए एक महीने तक आयोजित की गई ऑनलाइन प्रश्नोत्तरी, गंगा क्वेस्ट 2019 के विजेताओं को, श्री यू.पी.सिंह, सचिव, और श्री राजीव रंजन मिश्रा, महानिदेशक, एनएमसी और मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में पुरस्कार प्रस्तुत किए।
मुख्य बिंदु:
-प्रश्नोत्तरी 22 अप्रैल 2019 (विश्व पृथ्वी दिवस) से शुरू हुई थी और 22 मई, 2019 (विश्व जैव विविधता दिवस) पर समाप्त हुई। इसका आयोजन एनएमसीजी द्वारा वाइल्ड लाइफ इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, ट्री क्रेज़ फाउंडेशन, जीआईजेड और वीए टेक वाबंग के साथ साझेदारी में किया गया था।
-प्रतियोगिता में पूरे भारत से लगभग 36,500 छात्रों ने भाग लिया। प्रतियोगिता चार श्रेणियों – कक्षा 8 तक, कक्षा 8-10, कक्षा 11-12 और सभी के लिए खुली थी।
-वाइल्ड लाइफ इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा बनाई गई गंगा प्रहरियों, स्थानीय समुदायों के स्व-प्रेरित स्वयंसेवकों के एक कैडर को इस आयोजन के दौरान जैव विविधता संरक्षण और गंगा नदी की सफ़ाई के लिए सम्मानित किया गया।
-पश्चिम बंगाल के लिए हाइब्रिड एन्युटी आधारित पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मोड के तहत हावड़ा, बल्ली और बारानगर और कमरहटी एसटीपी परियोजनाओं के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए। यह हाइब्रिड एन्युटी आधारित पीपीपी मोड के माध्यम से वन सिटी वन ऑपरेटर की अवधारणा के तहत पश्चिम बंगाल में प्रदान की गई पहली परियोजना है।
-परियोजना में प्रति दिन कुल 165 मिलियन लीटर (एमएलडी) क्षमता के 3 नए सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) का विकास शामिल है – हावड़ा में 65 एमएलडी, बल्ली में 40 एमएलडी और 60 एमएलडी बारानगर और कमरहटी में, बल्ली में मौजूदा 22 एमएलडी एसटीपी का पुनर्वास, 16 किलोमीटर सीवरेज नेटवर्क को बिछाना, मौजूदा पंपिंग स्टेशनों का पुनर्वास और संबंधित बुनियादी ढांचा और 15 वर्षों की अवधि के लिए संपूर्ण परिसंपत्तियों का संचालन और रखरखाव भी इसमें शामिल है। इसे 592 करोड़ रुपये की लागत से वीए टेक वाबंग को सौंपा गया है।
-कार्यक्रम के दौरान, गंगा नदी प्रणाली में जैव विविधता पर और गंगा नदी के बेसिन में कागज और लुगदी उद्योगों के आसपास के क्षेत्रों में जल निकायों की स्थिति में सुधार ‘गंगा नदी बेसिन प्रबंधन और अध्ययन केंद्र’ द्वारा प्रकाशित 2 पुस्तकें, राष्ट्रीय जल मिशन द्वारा जल संरक्षण पर दो रेडियो जिंगल्स के साथ जारी की गई।
जल शक्ति मंत्रालय के बारे में:
♦ मुख्यालय: नई दिल्ली
♦ प्रभारी मंत्री: गजेंद्र सिंह शेखावत

फोर्ब्स पत्रिका के अनुसार, जे-जेड दुनिया के पहले अरबपति रैपर है:Jay-Z is the World’s 1st Billionaire Rapperफोर्ब्स पत्रिका के अनुसार, जे-जेड, जिसका असली नाम सीन कार्टर है, को विश्व के प्रथम अरबपति रैपर के रूप में नामित किया गया। गायक बियॉन्से के पति 49 वर्षीय रैपर के पास $ 1 बिलियन (£ 800 मिलियन) की संपत्ति है।
प्रमुख बिंदु:
i.फोर्ब्स ने विभिन्न परिसंपत्तियों को जोड़कर और फिर ‘सुपरस्टार जीवन शैली के लिए एक स्वस्थ राशि को घटाकर’ धन का अनुमान लगाया है।
ii.उनका जन्म 4 दिसंबर, 1969 को अमेरिका के ब्रुकलिन में हुआ था।
iii.उन्होंने 1996 में ‘रिज़नेबल डाउट’ एल्बम के माध्यम से अपनी शुरुआत की।

APPOINTMENTS & RESIGNS

पी जयदेवन तमिलनाडु और पुदुचेरी के लिए आईओंसीएल के कार्यकारी निदेशक के रूप में नियुक्त किए गए:
पी.जयदेवन को तमिलनाडु और पुदुचेरी के लिए इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईओंसीएल) के कार्यकारी निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया है। वह आर.सिथार्थन की जगह लेंगे। वह तेल कंपनी का समन्वय करेंगे।
i.वह पहले कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली में अध्यक्ष सचिवालय के प्रमुख थे। उनके योगदान के लिए उन्हें प्रधानमंत्री के आधार उत्कृष्टता पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।
आईओंसीएल के बारे में:
♦ मुख्यालय – नई दिल्ली
♦ अध्यक्ष – संजीव सिंह

बीएसएफ अधिकारी एस.एस.चाहर को बीएसएफ एकेडमी प्रमुख के रूप में नियुक्त किया गया:
एस.एस.चाहर, 1983-बैच के बीएसएफ-कैडर अधिकारी को 2021 तक मध्य प्रदेश के टेकनपुर में स्थित सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की एकेडमी के अतिरिक्त महानिदेशक (एडीजी) के रूप में नियुक्त किया गया है। वह आगरा के रहने वाले हैं और इस पद के लिए नियुक्त होने वाले वह 13 वें व्यक्ति है। उन्हें सराहनीय और विशिष्ट सेवाओं के लिए विशिष्ट सेवा पदक (वीएसएम) और पुलिस पदक जैसे सम्मान प्राप्त हुए है।
बीएसएफ के बारे में:
♦ मुख्यालय – नई दिल्ली

तिजानी मुहम्मद-बंदे को यूएनजीए अध्यक्ष के रूप में चुना गया:Tijjani Muhammad-Bandeसंयुक्त राष्ट्र में नाइजीरिया के राजदूत तिजानी मुहम्मद-बंदे को संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के 74 वें सत्र के लिए अध्यक्ष के रूप में चुना गया। वह मारिया फर्नांडा एस्पिनोसा की जगह लेंगे।
मुख्य बिंदु:
i.वह जोसेफ नानवेन गरबा के बाद दूसरे नाइजीरियाई यूएनजीए अध्यक्ष हैं।
ii.उन्होंने कहा कि प्रमुख प्राथमिकताओं में शांति और सुरक्षा, गरीबी और शिक्षा, शून्य भूख, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, जलवायु कार्रवाई पर विशेष ध्यान देने के साथ मौजूदा जनादेश और 2030 एजेंडा का कार्यान्वयन होगा।
यूएनजीए के बारे में:
♦ मुख्यालय – न्यूयॉर्क
♦ मूल संगठन – संयुक्त राष्ट्र

गियान्नी इन्फेंटिनो को फीफा अध्यक्ष के रूप में फिर से चुना गया:Gianni Infantinoस्विस-इतालवी फुटबॉल प्रशासक गियान्नी इन्फेंटिनो को 2023 तक फुटबॉल के वैश्विक शासी निकाय फेडरेशन इंटरनेशनेल डी फुटबॉल एसोसिएशन (फीफा) के अध्यक्ष के रूप में फिर से चुना गया है।
गियान्नी इन्फेंटिनो के बारे में:
i.वे स्विटजरलैंड के वलैस क्षेत्र के एक वकील हैं और इतालवी राष्ट्रीयता रखते हैं।
ii.उन्हें 2016 में फीफा का अध्यक्ष चुना गया था।
iii.फीफा अध्यक्ष बनने से पहले, वह 2009 से यूईएफए (यूनियन ऑफ़ यूरोपीयन फुटबॉल एसोसिएशन) के महासचिव थे।
फीफा के बारे में:
♦ मुख्यालय: ज्यूरिख, स्विट्जरलैंड।
♦ फीफा (फेडरेशन ऑफ इंटरनेशनल फुटबॉल एसोसिएशन) एसोसिएशन फुटबॉल, फुटसल और बीच फुटबॉल की शासी निकाय है।
♦ वर्तमान में, 211 देश हैं जिनके पास फीफा सदस्यता है।

SCIENCE & TECHNOLOGY

भारतीय नौसेना ने पनडुब्बी बचाव प्रणाली डीएसआरवी का ‘लाइव मेटिंग’ सफलतापूर्वक किया:
2 जून 2019 को, विशाखापत्तनम में स्थित डीप सबमेर्जेंस रेस्क्यू व्हीकल (डीएसआरवी) ने ‘लाइव मेटिंग’ अभ्यास का सफलतापूर्वक संचालन किया। इसमें नीचे की पनडुब्बी, आईएनएस सिंधुध्वज के कर्मियों का स्थानांतरण शामिल था। इसे दिसंबर 2018 में पूर्व नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा द्वारा नौसेना में शामिल किया गया था।
प्रमुख बिंदु:
i.भारतीय नौसेना में डीएसआरवी एकीकरण की दिशा में ‘लाइव मेटिंग’ अभ्यास एक ऐतिहासिक उपलब्धि है। इसने भारतीय नौसेना के लिए हिंद महासागर क्षेत्र (आईओंआर) में एक पनडुब्बी बचाव प्रदाता के रूप में उभरने का मार्ग प्रशस्त किया।
ii.डीएसआरवी परिष्कृत रडार और एक दूर संचालित वाहन (आरओवी) से लैस है।
iii.यह तीन व्यक्ति के चालक दल द्वारा संचालित है और एक समय में एक ख़राब पनडुब्बी से 14 कर्मियों को बचा सकता है।
भारतीय नौसेना के बारे में:
♦ नौसेना स्टाफ के प्रमुख: एडमिरल करमबीर सिंह
♦ नौसेना दिवस: 4 दिसंबर
♦ आदर्श वाक्य: शाम नं वरुणा (हमारे लिए पानी के भगवान शुभ हो)

गूगल मैप ने भारत में नई सार्वजनिक परिवहन सुविधाएँ लॉन्च कीं:
5 जून, 2019 को, एक वेब मैपिंग सेवा, गूगल मैप ने सार्वजनिक परिवहन उपयोगकर्ताओं पर लक्षित थ्री इंडिया फर्स्ट सुविधाओं को सार्वजनिक परिवहन को जल्दी और आसानी से एक्सेस करने के लिए लॉन्च किया। इसमें कहा गया है कि गूगल मैप उपयोगकर्ता अब 10 शहरों में लाइव ट्रैफ़िक डेटा से बस यात्रा के समय को देख सकते हैं, प्लेटफ़ॉर्म पर वास्तविक समय ट्रेन की स्थिति जान सकते हैं और साथ ही सार्वजनिक परिवहन और ऑटो-रिक्शा वाले सुझाव प्राप्त कर सकते हैं।
i.10 शहर दिल्ली, बैंगलोर, मुंबई, हैदराबाद, पुणे, लखनऊ, चेन्नई, मैसूर, कोयंबटूर और सूरत हैं।

ENVIRONMENT

गोबर भृंग की नई प्रजाती ‘एनोप्लोट्रुप्स तवांगेंसिस’ अरुणाचल प्रदेश के तवांग में पाई गई:
अरुणाचल प्रदेश के तवांग जिले में गोबर भृंग की नई प्रजाति एनोप्लोट्रुप्स तवांगेंसिस पाई गई। यह गहरे नीले रंग चमकदार रंग का है और अधिकांश गोबर भृंग से बड़ा है। इसका माप 27 मिमी है। विवरण एक अंतरराष्ट्रीय पत्रिका ‘ओरिएंटल इंसेक्ट्स’ में प्रकाशित किया गया है।
प्रमुख बिंदु:
i.नमूनों को पहले जूलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जेडएसआई) के दो वैज्ञानिकों – कैलाश चंद्र और देवांशु गुप्ता द्वारा एकत्र किया गया और उनकी जांच की गई थी।
ii.गोबर भृंग सुपरफ़ैमिली स्कारबायोइडिया से संबंधित है और उनके पास मिट्टी के अंदर गोबर को फेंकने के लिए संशोधित एंटीना और प्रो-टिबिया (प्रो-लेग) है। उन्हें लिटिल रिसाइकिलर्स के रूप में संदर्भित किया जाता है क्योंकि वे मिट्टी के पोषक चक्र में मदद करते हैं।

SPORTS

भारतीय जूनियर महिला हॉकी टीम ने आयरलैंड को हराकर कैंटर फिजराल्ड़ अंडर 21 का खिताब जीता:Cantor Fitzgerald U214 जून, 2019 को, भारतीय जूनियर महिला हॉकी टीम ने फाइनल में आयरलैंड को 1-0 से हराकर कैंटर फिजराल्ड़ अंडर 21 अंतर्राष्ट्रीय 4-राष्ट्र का खिताब जीता।
i.मैच डबलिन, आयरलैंड में आयोजित किया गया था।
ii.मुमताज़ खान इस टूर्नामेंट की सर्वोच्च गोल स्कोरर हैं।
iii.गगनदीप के गोल ने दोनों टीमों के बीच अंतर पैदा किया, क्योंकि भारत ने 1-0 से बढ़त हासिल की और खिताब अपने नाम किया।

OBITUARY

मोतियाबिंद उपचार के आविष्कारक डॉ.पेट्रीसिया बाथ का 76 वर्ष की आयु में निधन हो गया:
डॉ.पेट्रीसिया बाथ, नेत्र रोग विशेषज्ञ, पहली अफ्रीकी अमेरिकी महिला डॉक्टर, जिन्होंने मोतियाबिंद के लिए एक अधिक सटीक उपचार का आविष्कार किया, की 76 वर्ष की आयु में कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के सैन फ्रांसिस्को मेडिकल सेंटर में कैंसर के कारण मृत्यु हो गई। वह न्यूयॉर्क शहर में हार्लेम से थी। बाथ के पास पाँच अमेरिकी पेटेंट हैं। उन्होंने 100 से अधिक पेपर्स भी लिखे।

‘जा ऑफ़ इंडियन कुइजिन’ जसपाल इंदर सिंह कालरा का 71 वर्ष की आयु में निधन हो गया:Jaspal Inder Singh Kalraजसपाल इंद्र सिंह कालरा, जिन्हें ‘जा ऑफ़ इंडियन कुइजिन’ के नाम से जाना जाता है, सेलेब्रिटी शेफ और कलिनरी रिवाइवलिस्ट का नई दिल्ली में 71 वर्ष की आयु में निधन हो गया। उनके पास कई खिताब हैं जैसे ‘जा ऑफ़ इंडियन कुइजिन’ और ‘टेस्टमेकर टू द नेशन’। भारत सरकार ने उन्हें 1997 में भारत व्यापार संवर्धन संगठन के सलाहकार के रूप में नामित किया। उनका जन्म 21 मई, 1948 को नई दिल्ली में हुआ था।
i.वह पहले एशियाई थे जिन्हें इंटरनेशनल फूड एंड बेवरेज गॉरमेट हॉल ऑफ फ़ेम में शामिल किया गया था। इसके अलावा, वह भारतीय खाद्य आधारित टेलीविज़न श्रृंखला की अवधारणा और मेजबानी करने वाले पहले व्यक्ति थे।
ii.वह भारतीय व्यंजनों पर 11 खिताबों के लेखक थे, जिनमें, प्रसाद, जिसे रसोइयों के लिए “बाइबिल” माना जाता है, भी शामिल है।

IMPORTANT DAYS

महाराणा प्रताप जयंती 6 जून, 2019 को मनाई गई:
मेवाड़ के एक राजपूत राजा महाराणा प्रताप सिंह की जयंती 6 जून को महाराणा प्रताप जयंती के रूप में मनाई जाती है। वह एक सच्चे देशभक्त के रूप में प्रसिद्ध हैं जिन्होंने स्वतंत्रता के पहले युद्ध की शुरुआत की। वर्ष 2019 ने महान योद्धा की 479 वीं जयंती मनाई। वह आधुनिक राजस्थान में एक प्रांत, मेवाड़ के 13 वें राजपूत राजा थे।

STATE NEWS

हरियाणा कैबिनेट ने राज्य नौकरी भर्ती नियमों में बदलाव को मंजूरी दी:
4 जून, 2019 को, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की अध्यक्षता में हरियाणा सरकार की कैबिनेट की बैठक ने समूह बी के पदों जैसे शिक्षक और शैक्षिक पर्यवेक्षकों और समूह सी, डी पदों में राज्य नौकरी भर्ती नियमों में ढील दी।
प्रमुख बिंदु:
i.संशोधन के अनुसार, उम्मीदवारों का चयन विशुद्ध रूप से लिखित परीक्षा, सामाजिक-आर्थिक मानदंडों और अनुभव के आधार पर होगा।
ii.पद के लिए कुल अंकों में 100 अंक शामिल हैं, जिसमें लिखित परीक्षा के लिए 90 और सामाजिक-आर्थिक मानदंड और अनुभव के लिए 10 अंक शामिल हैं।
iii.कैबिनेट ने पहली बार पुलिस परीक्षा देने वाले उम्मीदवारों के लिए पांच अतिरिक्त अंक देने का फैसला किया और विधवाओं, अनाथों और निरंकुश जनजातियों के लोगों को 10 प्रतिशत अतिरिक्त अंक देने का फैसला किया, उनके अलावा जिन लोगों के परिवार के सदस्य किसी भी सरकारी नौकरी में नहीं हैं।
iv.कैबिनेट ने हरियाणा विकास और पंचायत विभाग (समूह सी) क्षेत्र अधिकारी नियम, 2012 में भी संशोधन को मंजूरी दे दी। इस संशोधन के अनुसार, ‘ग्राम सचिव’ (ग्राम सहायक) के पद के लिए शैक्षणिक योग्यता मैट्रिकुलेशन से ग्रैजुएशन कर दी गई है।
हरियाणा के बारे में:
राजधानी: चंडीगढ़
राज्यपाल: सत्यदेव नारायण आर्य
मुख्यमंत्री: मनोहर लाल खट्टर

मध्य प्रदेश कैबिनेट ने ओबीसी के लिए 27% आरक्षण बढ़ाने का प्रस्ताव पारित किया:Increase reservation for OBCs to 27%3 जून, 2019 को, मध्य प्रदेश (मप्र) राज्य सरकार के मंत्रिमंडल ने ओबीसी (अन्य पिछड़ा वर्ग) के लिए आरक्षण कोटा वर्तमान 14 प्रतिशत से बढ़ाकर 27 प्रतिशत करने का प्रस्ताव पारित किया। प्रस्ताव राज्य विधानसभा के मानसून सत्र में लिया जाएगा।
प्रमुख बिंदु:
i.यदि यह प्रस्ताव लागू हो जाता है, तो मध्य प्रदेश ओबीसी के लिए 27 प्रतिशत कोटा रखने वाला देश का एकमात्र राज्य बन जाएगा।
ii.यह कदम सुप्रीम कोर्ट द्वारा इंद्रा साहनी केस के फैसले में 50% कैप को 63% तक पहुंचा देगा। मप्र सरकार ने कोटा लागू करने के लिए 9 मार्च को एक अध्यादेश पारित किया। हालाँकि, मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय ने 19 मार्च को अध्यादेश पर रोक लगा दी थी।
iii.एक अन्य फैसले में, राज्य मंत्रिमंडल ने कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के लिए महंगाई भत्ते (डीए) में 3% की बढ़ोतरी की है। अब, उन्हें केंद्र सरकार के बराबर 12% डीए मिलेगा। इस पर राज्य के 1,647 करोड़ रुपये खर्च होंगे।
मद्य प्रदेश के बारे में:
राजधानी: भोपाल
मुख्यमंत्री: कमलनाथ
राज्यपाल: आनंदीबेन पटेल
जिले: 52

न्यायमूर्ति प्रशांत कुमार की झारखंड उच्च न्यायालय में कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति की गई:
झारखंड उच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति प्रशांत कुमार को वर्तमान कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश धीरूभाई नारनभाई पटेल की दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति के बाद झारखंड उच्च न्यायालय का कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया है। नियुक्ति भारत के संविधान के अनुच्छेद 223 द्वारा की गई है।
i.झारखंड उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश अनिरुद्ध बोस को 22 मई को सुप्रीम कोर्ट का न्यायाधीश नियुक्त किया गया था।
झारखंड के बारे में:
♦ राजधानी – रांची
♦ मुख्यमंत्री – रघुबर दास
♦ राज्यपाल – द्रौपदी मुर्मू