Current Affairs Hindi – July 18 2019

हैलो दोस्तों, affairscloud.com में आपका स्वागत है। हम यहां आपके लिए 18 जुलाई,2019 के महत्वपूर्ण करंट अफेयर्स को विभिन्न अख़बारों जैसे द हिंदू, द इकोनॉमिक टाइम्स, पीआईबी, टाइम्स ऑफ इंडिया, इंडिया टुडे, इंडियन एक्सप्रेस, बिजनेस स्टैंडर्ड,जागरण से चुन करके एक अनूठे रूप में पेश करते हैं। हमारे Current Affairs से आपको बैंकिंग, बीमा, यूपीएससी, एसएससी, सीएलएटी, रेलवे और अन्य सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

Click here to Read Current Affairs Today in Hindi – 17 July 2019

INDIAN AFFAIRS

17 जुलाई, 2019 को कैबिनेट स्वीकृति:Cabinet_decisionप्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने 17 जुलाई, 2019 को निम्नलिखित प्रस्तावों को मंजूरी दी है:
अरूणाचल प्रदेश में 2880 मेगावाट की दिबांग बहुउद्देशीय परियोजना को 1600 करोड़ रुपये व्यय की मंजूरी दी गई:
अरुणाचल प्रदेश में दिबांग बहुउद्देशीय परियोजना (एमपीपी) के लिए पूर्व-निवेश गतिविधियों और विभिन्न मंजूरी पर खर्च करने के लिए 1600 करोड़ रूपये की मंजूरी दी गई। यह अरुणाचल प्रदेश के निचले दिबांग घाटी जिले में दिबांग नदी पर स्थित है।
प्रमुख बिंदु:
लागत: परियोजना की कुल अनुमानित लागत 28080.35 करोड़ रुपये है, इसमें जून, 2018 के मूल्य स्तर पर 3974.95 करोड़ रुपये का आईडीसी (निर्माण के दौरान ब्याज) तथा एफसी शामिल है।।
कार्यकाल: परियोजना की अनुमानित पूर्ण अवधि सरकार की स्वीकृति प्राप्त होने के बाद नौ वर्ष होगी।
लाभ: परियोजना 90 प्रतिशत निर्भरता योग्य वर्ष में 11223 एमयू ऊर्जा उत्पादन के लिए 2880 मेगावाट (12×240 मेगावाट) बिजली उत्पादन करेगी। बांध 278 मीटर ऊंचा है और कार्य पूरा होने पर यह भारत में सबसे ऊंचा बांध होगा। परियोजना पूरी होने पर अरूणाचल प्रदेश सरकार परियोजना से 12 प्रतिशत विद्युत यानी 1346.76 एमयू प्राप्त करेगी। एक प्रतिशत निशुल्क विद्युत यानी 112 एमयू स्थानीय क्षेत्र विकास निधि (एलएडीएफ) में दी जाएगी। परियोजना की 40 वर्ष की अवधि में अरूणाचल प्रदेश निशुल्क को विद्युत तथा एलएडीएफ योगदान से होने वाले लाभ का कुल मूल्य 26785 करोड़ रुपये होगा।
वैधानिक मंजूरी: भारत सरकार से निवेश स्वीकृति के लिए परियोजना को सभी वैधानिक मंजूरियां मिल गई हैं। इनमें तकनीकी, पर्यावरण मंजूरी, वन मंजूरी (चरण I) तथा वन मंजूरी को छोड़कर रक्षा मंजूरी (चरण II) शामिल है।

15वें वित्त आयोग का कार्यकाल 30 नवम्बर, 2019 तक बढ़ाने की मंजूरी दी गई:
30 नवंबर, 2019 तक पंद्रहवें वित्त आयोग के कार्यकाल के विस्तार को मंजूरी दी गई। यह आयोग को सुधारों के मद्देनजर वित्तीय अनुमानों के लिए विभिन्न तुलनीय अनुमानों की जांच करने और नई वास्तविकताओं को 2020। -2025 की अवधि के लिए इसकी सिफारिशों को अंतिम रूप देने में मदद करेगा।
प्रमुख बिंदु:
पृष्ठभूमि: राष्ट्रपति ने संविधान के अनुच्छेद 280 की धारा (1) तथा वित्त आयोग (विविध प्रावधान) अधिनियम, 1951 का उपयोग करते हुए 27 नवम्बर, 2017 को 15वें आयोग का गठन किया। आयोग को अपने कार्य क्षेत्र के आधार पर 1 अप्रैल, 2020 से प्रारंभ 5 वर्षों की अवधि के लिए 30 अक्टूबर, 2019 तक अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करनी थी।
कारण: आयोग का कार्य क्षेत्र उपरोक्त वित्तीय/ बजट सुधारों को ध्यान में रखता है। केंद्र तथा राज्य सरकारों की व्यय और प्राप्तियों के निर्धारण कार्य के आधार पर आयोग द्वारा सिफारिशें करने में समय लगेगा क्योंकि प्रारंभ से अंत तक डाटा की निरंतरता और डाटा सेटों की जांच चुनौतिपूर्ण हो जाती है।
राजकोषीय / बजटीय सुधार: केंद्र सरकार द्वारा पिछले 4 वर्षों में किए गए प्रमुख वित्तीय/बजट सुधारों को ध्यान में रखते हुए आयोग का गठन किया गया है। इन सुधारों में योजना आयोग को समाप्त करना और उसकी जगह नीति आयोग लाना, गैर योजना तथा योजना व्यय के बीच भेद को समाप्त करना, बजट कैलेंडर एक महीना आगे बढ़ाना और पहली फरवरी को नया वित्त वर्ष प्रारंभ होने से पहले पूर्ण बजट पारित करना, जुलाई 2017 से वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) लागू करना, उधारी तथा वित्तीय घाटा उपाय के साथ नया एफआरबीएम ढांचा बनाना शामिल है।

15वें वित्‍त आयोग के विचारार्थ विषयों में संशोधनों को मंजूरी दी गई:
केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 15वें वित्‍त आयोग द्वारा रक्षा और आंतरिक सुरक्षा के लिए पर्याप्त‍, सुरक्षित और सतत धनराशि के आवंटन से जुड़ी चिंताओं के समाधान के लिए जरूरी संशोधनों को मंजूरी दे दी है।
प्रमुख बिंदु:
-आयोग के विचारार्थ विषयों में रक्षा और आंतरिक सुरक्षा के लिए पर्याप्‍त वित्‍तीय संसाधन सुनिश्चित करने का प्रस्‍ताव किया गया है।
-संशोधनों के तहत 15वां वित्‍त आयोग रक्षा और आंतरिक सुरक्षा के लिए पर्याप्‍त वित्‍तीय स्रोतों की व्‍यवस्‍था के लिए कोई अलग प्रणाली विकसित करने की जरूरत का पता लगाएगा और साथ ही यह भी देखेगा किस तरह इस प्रणाली को लागू किया जा सकता है।

औषधि कंपनियों के सम्‍बन्‍ध में 28 दिसम्‍बर 2016 के मंत्रिमंडल के फैसले को लागू करने की मंजूरी दी गई:
सार्वजनिक क्षेत्र में दवा कंपनियों के बारे में 28.12.2016 के कैबिनेट के निर्णय के कार्यान्वयन के लिए स्वीकृति दी गई थी, जिसमें संशोधन की मांग की गई थी।
संशोधन:
i.सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों की भूमि सरकारी एजेंसियों को बेचने के 28 दिसम्‍बर 2018 के फैसले में परिवर्तन और उसके स्‍थान पर डीपीई के 14 जून 2018 के संशोधित दिशा-निर्देशों के अनुसार भूमि की बिक्री की मंजूरी दी गई।
ii.कर्मचारियों की देनदारियों (भुगतान नहीं किया गया वेतन-158.35 करोड़ रुपये + वीआरएस 172 करोड़ रुपये) का भुगतान करने के लिए निम्‍नलिखित तरीके से 330.35 करोड़ रुपये के ऋण में बजटीय सहायता प्रदान करना।
इंडियन ड्रग्स एंड फार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड (आईडीपीएल) – 6.50 करोड़ रुपये
राजस्थान ड्रग्स एंड फार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड (आरडीपीएल) – 43.70 करोड़ रुपये
हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) – 280.15 करोड़ रुपये
iii.परिसम्‍पत्तियों की बिक्री और बकाया देनदारियों के भुगतान सहित सार्वजनिक क्षेत्र के चार उपक्रमों के बंद होने/रणनीतिक बिक्री से जुड़े सभी फैसले लेने के लिए मंत्रियों की एक समिति का गठन किया गया।
पृष्‍ठभूमि:
मंत्रिमंडल ने 28 दिसम्‍बर, 2016 को खुली प्रतिस्‍पर्धात्‍मक बोली के जरिये सरकारी एजेंसियों को एचएएल, आईडीपीएल, आरडीपीएल और बंगाल कैमिकल एंड फार्मास्‍यूटिकल्‍स लिमिटेड (बीसीपीएल) की अतिरिक्‍त भूमि बेचने और बेचने की प्रक्रिया से बकाया देनदारियों से मुक्ति पाने का फैसला किया था। ये फैसला किया गया कि देनदारियां पूरी करने के बाद आईडीपीएल और आरडीपीएल को बंद कर दिया जाएगा और एचएएल 85 बीसीपीएल को रणनीतिक बिक्री के लिए रखा जाएगा। विभाग ने अतिरिक्‍त भूमि की बिक्री के लिए गंभीर प्रयास किये, लेकिन एक से अधिक बार टेंडर जारी करने के बावजूद उसे कोई खरीददार नहीं मिला। इस बीच, सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों के विभाग (डीपीई) में सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों की भूमि के निपटारे के संबंध में 14 जून, 2018 को संशोधित दिशा-निर्देश जारी किये। चूकि अतिरिक्‍त भूमि की बिक्री से धनराशि की उगाही नहीं की जा सकी, कुछ उपक्रमों (एचएएल और आरडीपीएल)के कर्मचारियों को वेतन का भुगतान नहीं किया जा सका और वीआरएस योजना शुरू की गई। यह फैसला किया गया कि डीपीई के संशोधित दिशा-निर्देशों के अनुसार भूमि का निपटान किया जाएगा। कर्मचारियों की देनदारियों को पूरा करने के लिए बजटीय सहायता की व्‍यवस्‍था की जाए।

रंगिया रेल लाइन के माध्यम से न्यू बोंगाईगांव-अगथोरी के दोहरीकरण को मंजूरी दी गई:
असम में 2042.51 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत के साथ उत्तर-पूर्व फ्रंटियर रेल की रंगिया रेल लाइन (142.97 किलोमीटर) के माध्यम से न्यू बोंगाईगांव तथा अगथोरी रेल लाइन के दोहरीकरण की मंजूरी दे दी गई है। परियोजना 2022-23 तक पूरी होगी। इसे उत्तर-पूर्व फ्रंटियर रेल के निर्माण संगठन द्वारा क्रियान्वित किया जाएगा।
-यह असम के बोंगईगांव, बक्सा, बारपेटा, नलबाड़ी और कामरूप जिलों से होकर गुजरेगा।
-यह मौजूदा नेटवर्क की मौजूदा क्षमता की कमी को दूर करने में मदद करेगा और रंगिया के माध्यम से न्यू बोंगईगांव – अगथोरी के दोहरीकरण से बढ़ते माल और यात्री यातायात को संभालने में मदद करेगा। दोहरीकरण से न्यू बोंगाईगांव-अगथोरी वाया रंगिया रेल लाइन का समग्र परिचालन प्रदर्शन में सुधार होगा और काफी हद तक इस सेक्शन में भीड़भाड़ में कमी आएगी।

इलाहाबाद और मुगलसराय के बीच रेलवे कनेक्टिविटी बढ़ाने को मंजूरी दी गई:
इलाहाबाद – मुगलसराय (अब पं.दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन) (लंबाई 150 किमी) उत्तर प्रदेश के बीच तीसरी रेलवे लाइन के निर्माण के लिए स्वीकृति दी गई थी, जिसकी अनुमानित लागत 2649.44 करोड़ रूपये है। यह 2023-24 तक पूरा हो जाएगा और इसका क्रियान्‍वयन उत्‍तर मध्‍य रेलवे के निर्माण संगठन द्वारा किया जाएगा।
-यह भविष्‍य में बढ़ने वाले रेल यातायात के साथ सहजता से निपटने तथा इसके लिए आवश्‍यक क्षमताओं की कमी को दूर करने में मददगार होगी।
-यह छोई, नैनी में यातायात भीड़ को कम करेगी और राष्ट्रीय राजधानी को जोड़ने वाले महत्वपूर्ण मार्ग पर माल और यात्री गाड़ियों की समय सीमा में सुधार करेगी।

उत्‍तर प्रदेश में रेल संपर्क के प्रोत्‍साहन के लिए मंजूरी दी गई:
उत्‍तर प्रदेश में सहजनवा और दोहरीघाट के बीच (81.17 किलोमीटर) लंबी नई रेल लाइन के निर्माण को मंजूरी दे दी गई है। इस परियोजना के निर्माण पर कुल 1319.75 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत आएगी। परियोजना का काम 2023-24 तक पूरा हो जाएगा। परियोजना का क्रियान्‍वयन उत्‍तर पूर्वी रेलवे के निर्माण संगठन द्वारा किया जाएगा।
-यह परियोजना लाइन के तहत आने वाले क्षेत्र के लोगों को रेल सुविधा प्रदान करेगी और क्षेत्र में लघु उद्योगों के विकास में मदद करेगी।
-यह निर्माण अवधि के दौरान 19.48 लाख कार्य दिवस के लिए प्रत्‍यक्ष रोजगार के अवसर भी उपलब्‍ध होंगे।

राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग की स्थापना को मंजूरी दी गई:
राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग विधेयक, 2019 को मंजूरी दी गई, जिसमें मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) के स्थान पर एक मेडिकल कमीशन स्थापित करने और भारतीय चिकित्सा परिषद अधिनियम, 1956 को निरस्त करने का प्रावधान है।
प्रमुख बिंदु:
-कॉमन फाइनल ईयर बैचलर ऑफ मेडिसिन, बैचलर ऑफ सर्जरी (एमबीबीएस) के एग्जाम को नेशनल एक्जिट टेस्ट (नेक्स्ट) के रूप में जाना जाएगा। यह पीजी (स्नातकोत्तर) मेडिकल पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए लाइसेंस परीक्षा और विदेशी मेडिकल स्नातकों के लिए स्क्रीनिंग टेस्ट के रूप में काम करेगा।
-एनईईटी और नेक्स्ट देश के सामान्य मानकों के लिए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) जैसे राष्ट्रीय महत्व के संस्थानों (आईएनआई) पर लागू होगा।
-आयोग निजी मेडिकल कॉलेजों और समझे जाने वाले विश्वविद्यालयों में 50% सीटों के लिए फीस और अन्य सभी शुल्कों का नियमन करेगा।
-मेडिकल असेसमेंट एंड रेटिंग बोर्ड (एमएआरबी) मेडिकल कॉलेज का मूल्यांकन करेगा और मेडिकल कॉलेजों की रैंकिंग की एक प्रणाली विकसित करेगा, जो छात्रों को मेडिकल कॉलेज को बुद्धिमानी से चुनने में सक्षम बनाएगा। यह यूजी (अंडर ग्रेजुएट) और पीजी बोर्डों द्वारा निर्धारित मानकों के आधार पर नए मेडिकल कॉलेजों के लिए पीजी कोर्स शुरू करने और सीटों में वृद्धि की अनुमति देगा।
-नेशनल मेडिकल कमीशन में 4 ऑटोनोमस बोर्ड होंगे, जो अंडर-ग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन बोर्ड, पोस्ट-ग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन बोर्ड, मेडिकल असेसमेंट एंड रेटिंग बोर्ड और एथिक्स एंड मेडिकल रजिस्ट्रेशन बोर्ड है।
-ऑटोनोमस बोर्ड की ताकत 3 से बढ़ाकर 5 कर दी गई है और इसमें 2 अंशकालिक सदस्य शामिल हैं। इनमें से एक सरकार द्वारा चयनित डॉक्टर होगा और दूसरा राज्य मेडिकल काउंसिल का एक निर्वाचित डॉक्टर होगा।

58 निरर्थक कानूनों को रद्द करने के लिए निरसन और संशोधन विधेयक, 2019 को मंजूरी दी गई:
पुरातन और अनावश्यक क़ानूनों को समाप्त करने के प्रयास में 58 कानूनों को, जिनकी प्रासंगिकता खो दी है, को हटाने के लिए निरसन और संशोधन विधेयक, 2019 को मंजूरी दी गई थी।
प्रमुख बिंदु:
-निरसन और संशोधन विधेयक, 2019 को संसदीय मंजूरी मिलने के बाद, 137 कानूनों ने अपनी प्रासंगिकता खो दी है।
-निरस्त किए गए कुछ पुराने कानूनों में हैकनी कैरिज अधिनियम 1879, नाटकीय प्रदर्शन अधिनियम 1876, द गंगा टोल्स एक्ट, 1867 शामिल हैं।
पृष्ठभूमि: 2014 में, पुराने कानूनों को निरस्त करने के लिए एक दो सदस्यीय पैनल की स्थापना की गई थी और पैनल ने कानून को निरस्त करने की सिफारिश करने से पहले केंद्र और राज्य सरकार से भी परामर्श किया था। सितंबर 2014 में, कानून आयोग ने कहा था कि इस मुद्दे का अध्ययन करते समय, यह पाया गया कि वास्तविकता में पिछले कई वर्षों के दौरान पारित किए गए विनियोग अधिनियमों की एक बड़ी संख्या अर्थ खो चुकी है, लेकिन क़ानून पुस्तकों का हिस्सा बनी हुई है।

एनआईडी संशोधन विधेयक को मंजूरी दी गई:
राष्ट्रीय डिजाइन संस्थान (एनआईडी) अधिनियम, 2014 में संशोधन के लिए 4 नए केंद्रों को कानून के दायरे में शामिल करने और उन्हें राष्ट्रीय महत्व के संस्थानों के रूप में घोषित करने के लिए मंजूरी दी गई थी। जिन चार नए एनआईडी को शामिल किया जाएगा, वे अमरावती, भोपाल, जोरहाट और कुरुक्षेत्र में हैं। वे एक डिग्री, डिप्लोमा, और अन्य शैक्षणिक विशिष्टता प्रदान करने में सक्षम होंगे।
-नए एनआईडी को राष्ट्रीय महत्व के संस्थानों का दर्जा देकर, वे यह सुनिश्चित करेंगे कि डिजाइन शिक्षा सामाजिक रूप से समावेशी हो और कृषि, स्वास्थ्य देखभाल और परिवहन सहित विभिन्न क्षेत्रों में डिजाइन की जरूरतों को पूरा करे।
-भारत में राष्ट्रीय महत्व के संस्थान को एक ऐसे संस्थान के रूप में परिभाषित किया गया है जो देश या राज्य के निर्दिष्ट क्षेत्र के भीतर अत्यधिक कुशल कर्मियों को विकसित करने में एक महत्वपूर्ण संस्थान के रूप में कार्य करता है।

केंद्रीय मंत्रिमंडल के बारे में:
केंद्रीय मंत्रिमंडल भारत में कार्यकारी प्राधिकरण का उपयोग करता है। इसमें वरिष्ठ मंत्री होते हैं जिन्हें कैबिनेट मंत्री, कनिष्ठ मंत्री जिन्हें राज्य मंत्री कहा जाता है और, कभी कभी उप मंत्री कहा जाता हैं, शामिल होते है। इसका नेतृत्व प्रधानमंत्री करते हैं।

17 जुलाई, 2019 को विदेशी देशों के साथ मंत्रिमंडल का अनुमोदन:Cabinet approvalप्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 17 जुलाई 2019 को भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका के बीच अंतर-संस्थागत समझौतों को मंजूरी दी।
चिकित्सा के क्षेत्र में सहयोग के लिए भारत और अमरीका के बीच अंतर-संस्थागत समझौता:
17 जुलाई, 2019 को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारत और अमेरिका के बीच पुनर्योजी चिकित्सा और 3 डी (तीन आयामी) बायोप्रिनेटिंग, नई प्रौद्योगिकियों, वैज्ञानिक सूचनाओं और प्रौद्योगिकियों के आदान-प्रदान, और वैज्ञानिक अवसंरचना के संयुक्त उपयोग के क्षेत्रों में अंतर-संस्थागत समझौते को अपनी मंजूरी दे दी।
एमओयू के लाभ:
-इस समझौते के अंतर्गत संयुक्‍त अनुसंधान परियोजनाएं, प्रशिक्षण कार्यक्रम, सम्‍मेलन, सेमिनार आदि सभी योग्‍य वैज्ञानिकों और प्रौद्योगिकीविदों के लिए खुले रहेंगे और वैज्ञानिक योग्‍यता और उत्‍कृष्‍टता के आधार पर उन्‍हें सहयोग दिया जाएगा।
-दोनों संस्‍थानों का अनुमान है कि समझौते के अंतर्गत किये गये सामान्‍य शै‍क्षणिक आदान-प्रदान से कुछ विशेष परियोजनाओं का विस्‍तार होगा, जिनमें से प्रत्‍येक के शैक्षणिक, क्‍लीनिकल और व्‍यावसायिक प्रभाव हो सकते है।
विशेषताएं:
समझौते का उद्देश्‍य शैक्षणिक सहयोग के जरिये दोनों संस्‍थानों के अनुसंधान और शिक्षा के विस्‍तार में योगदान करना है। साझा हित के सामान्‍य क्षेत्र जहां सहयोग और ज्ञान का आदान-प्रदान होता है, उनमें शामिल हैं:
i.प्रशिक्षण, अध्‍ययन और अनुसंधान खासतौर से 3डी बायोप्रिटिंग के क्षेत्रों के लिए संकाय के सदस्‍यों और छात्रों का आदान-प्रदान।
ii.संयुक्‍त अनुसंधान परियोजनाओं का निष्‍पादन और
iii.सूचना और शै‍क्षणिक प्रकाशनों का आदान-प्रदान।
पृष्‍ठभूमि:
दिसंबर 2018 में, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्रों में आपसी लाभ के लिए भारत सरकार और अमरीका के बीच मजबूत और दीर्घकालिक सहयोग को सरकार द्वारा महत्‍व देने के समान, भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के अंतर्गत राष्‍ट्रीय महत्‍व के संस्‍थान श्री चित्र तिरूनल इंस्‍टीट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेस एंड टैक्‍नोलॉजी (एससीटीआईएमएसटी), तिरूवनंतपुरम और अमरीका स्थित उत्‍तरी कैरोलिना के इंस्‍टीट्यूट फॉर रिजनरेटिव मेडिसिन (डब्‍ल्‍यूएफआईआरएम) की ओर से वेक फोरेस्‍ट यूनिवर्सिटी हैल्‍थ साइंसेस के बीच शैक्षणिक सहयोग का एक समझौता हुआ।
यूएसए के बारे में:
राजधानी: वाशिंगटन, डी.सी.
राष्ट्रपति: डोनाल्ड ट्रम्प

कैबिनेट ने आईबीसी के 7 संशोधन मंजूर किए:Insolvency and Bankruptcy Code17 जुलाई, 2019 को, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने इन्सॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड 2016 (आईबीसी) में 7 संशोधनों को मंजूरी दी। यह दिवाला समाधान प्रक्रिया को तेज करने और इसके कामकाज में कमी करने वाले विचलन को सही करने में मदद करेगा। यह एस्सार स्टील मामले में नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल (एनसीएलएटी) द्वारा दिए गए फैसले के बाद उत्पन्न अनिश्चितता को दूर करता है।
प्रमुख बिंदु:
निवारण प्रक्रिया: इसे 330 दिनों के भीतर पूरा किया जाना चाहिए, जिसमें मुकदमेबाजी और अन्य न्यायिक प्रक्रिया शामिल है। वर्तमान में, एक दिवालिया कंपनी के लिए निवारण योजना को 270 दिनों के भीतर मंजूरी दे दी जानी चाहिए।
अधिकार: केंद्रीय मंत्रिमंडल ने वित्तीय और साथ ही परिचालन लेनदारों के अधिकारों को स्पष्ट किया, जिन्होंने किसी निवारण के पक्ष में बात नहीं की है। संशोधन का प्रस्ताव है कि उन्हें आईबीसी में निर्दिष्ट पदानुक्रम के अनुसार देनदार कंपनी की बिक्री या उसके परिसमापन से प्राप्त आय का एक हिस्सा मिलेगा।
सीओसी: लेनदारों की समिति (सीओसी) के पास विभिन्न वर्गों के लेनदारों को धन के वितरण पर वाणिज्यिक निर्णय लेने की शक्ति होगी। परिचालित और असुरक्षित वित्तीय लेनदारों को सुरक्षित वित्तीय लेनदारों के बराबर नहीं रखा जाएगा।
अधिकार: दिवालियापन ढांचे के तहत दिवालियापन निवारण या तरलता का लिया गया निर्णय केंद्रीय, राज्य और स्थानीय सरकारों के लिए बाध्यकारी है, जिनका दिवालिया कंपनी पर बकाया है। यह राज्य के अधिकारियों सहित आयकर अधिकारियों को अदालत की निगरानी प्रक्रिया में अपनाई गई बचाव योजना पर सवाल उठाने से रोकेगा।
घर खरीदार: एक प्रस्तावित संशोधन यह सुनिश्चित करेगा कि घर खरीदार जैसे लेनदारों के बहुमत वाले वोट को एक निवारण योजना के पक्ष में या उसके खिलाफ लेनदारों के वर्ग से 100% वोट के रूप में गिना जाएगा।
आईबीसी 2016 के बारे में:
यह भारत का दिवालियापन कानून है जो दिवाला और दिवालियापन के लिए एक ही कानून बनाकर मौजूदा ढांचे को मजबूत करने का प्रयास करता है। इसका उद्देश्य छोटे निवेशकों के हितों की रक्षा करना और व्यवसाय को कम बोझिल बनाने की प्रक्रिया बनाना है।

राज्यसभा ने भारतीय विमानपत्तन आर्थिक विनियामक प्राधिकरण (संशोधन) विधेयक, 2019 पारित किया, जो भारतीय हवाई अड्डा आर्थिक विनियामक प्राधिकरण अधिनियम, 2008 में संशोधन करता है:
17 जुलाई, 2019 को, राज्यसभा ने भारतीय विमानपत्तन आर्थिक विनियामक प्राधिकरण (संशोधन) विधेयक, 2019 को पारित किया जिसने भारतीय हवाई अड्डा आर्थिक विनियामक प्राधिकरण अधिनियम, 2008 में संशोधन किया है। इसका उद्देश्य पूर्व-निर्धारित टैरिफ संरचना से किसी भी नए हवाई अड्डे को अलग करना है।
एईआरए विधेयक की मुख्य विशेषताएं:
प्रमुख हवाईअड्डों की परिभाषा: यह विधेयक ‘प्रमुख हवाई अड्डे’ की परिभाषा को संशोधित करता है, जिसमें वार्षिक यात्री ट्रैफ़िक 3.5 मिलियन (35 लाख) से अधिक है। वर्तमान में, 1.5 मिलियन (15 लाख) यात्रियों को संभालने की वार्षिक क्षमता वाले प्रमुख हवाई अड्डे एईआरए के दायरे में आते हैं।
टैरिफ का निर्धारण: एईआरए उन मामलों में टैरिफ, टैरिफ संरचनाओं का निर्धारण नहीं करेगा, जहां ये राशि बोली दस्तावेज का हिस्सा थीं, जिसके आधार पर हवाई अड्डे के संचालन को सौंपा गया था।
एईआरए के बारे में: यह हवाई अड्डों, एयरलाइंस और यात्रियों के हितों की सुरक्षा के लिए एईआरए एक्ट, 2008 के तहत स्थापित एक वैधानिक निकाय है।
कार्य: यह 15 लाख से अधिक यात्रियों को वार्षिक यातायात के साथ नागरिक हवाई अड्डों पर प्रदान की गई वैमानिकी सेवाओं के लिए शुल्क और अन्य शुल्कों को नियंत्रित करता है। यह इन हवाई अड्डों पर सेवाओं के प्रदर्शन मानक की भी जाँच करता है।
जिम्मेदारी: यह हर 5 साल में विभिन्न हवाई अड्डों पर वैमानिकी सेवाओं के लिए टैरिफ निर्धारित करने, प्रमुख हवाई अड्डों के विकास शुल्क और यात्रियों की सेवा शुल्क के लिए जिम्मेदार है। यह टैरिफ निर्धारित करने और अंतरिम अवधि में आवश्यक टैरिफ सहित किसी भी अन्य टैरिफ-संबंधित कार्यों को करने के लिए आवश्यक जानकारी की मांग कर सकता है।

डिजिटल रूप से कुशल श्रमशक्ति की मांग 35% सीएजीआर बढ़ जाएगी: नैस्कॉमDemand for digitally skilled manpower will increase at 35% CAGR17 जुलाई, 2019 को, भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी और व्यापार प्रक्रिया आउटसोर्सिंग उद्योग, नैस्कॉम (नेशनल एसोसिएशन ऑफ सॉफ्टवेयर एंड सर्विसेज कंपनीज) के अनुसार, 2023 तक डिजिटल रूप से कुशल प्रतिभाओं की मांग की 35% तक चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर (सीएजीआर) से बढ़ने का अनुमान है। 2023 में, डिजिटल रूप से कुशल पेशेवरों की मांग बढ़कर 2.3-2.7 मिलियन हो जाएगी।
i.वर्तमान स्थिति: वर्तमान में, देश में आईटी-आईटीईएस (सूचना प्रौद्योगिकी सक्षम सेवा) उद्योग में डिजिटल प्रतिभा 20% से अधिक बढ़ गई है और क्लाउड कंप्यूटिंग में 2,60,000, एआई (कृत्रिम बुद्धिमत्ता) और बड़े डेटा विश्लेषण में 185,000, सोशल मीडिया और मोबाइल प्लेटफ़ॉर्म में 185,000 और आईओंटी (इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स) में 170,000 का आधार हैं।
ii.रिस्किलिंग और अपस्किलिंग: सभी कर्मचारियों में से 54% को 2022 तक महत्वपूर्ण रीस्किलिंग की आवश्यकता होगी। प्रतिभा की उपलब्धता की कमी के कारण, नैस्कॉम ने 2019 में प्रतिभा आधार को फिर से भरने के लिए लगभग 30 विश्वविद्यालयों के साथ गठजोड़ करने की योजना बनाई।
iii.विकास: नई तकनीकों में जो कौशल विकसित किए जा रहे हैं उनमें एप्लीकेशन का विकास, डेटा प्रबंधन, संचालन के लिए उपयोग केस प्लेटफॉर्म को डिजाइन करना और दैनिक आधार पर अनुप्रयोगों के लिए सीधे प्रौद्योगिकी के साथ काम करना शामिल है।
iv.आगे का रास्ता: उद्योग में चार मिलियन नौकरियों में 60-65% जॉब प्रोफाइल की अगले 5 वर्षों में बदलने की उम्मीद थी। नैसकॉम की फ्यूचरस्किल्स पहल भारत को उभरती प्रौद्योगिकियों और वैश्विक डिजिटल क्षमताओं में अग्रणी के लिए प्रतिभा केंद्र के रूप में स्थापित करने के लिए है। 10 नए युग की तकनीकों, 10 पेशेवर कौशल, 70+ नौकरी की भूमिकाओं और 155+ तकनीकी कौशल में कौशल विकास के लिए एक उद्योग उपयोगिता वाला मंच सरकार की डिजिटल इंडिया पहल का पूरक होगा।
v.नैसकॉम द्वारा तत्काल उद्देश्य: डिजिटल प्रतिभा की आपूर्ति के लिए 100 विश्वविद्यालयों को बदलना, 2025 तक 4 मिलियन पेशेवरों के कौशल को बढ़ाना इसका उद्देश्य है।
नासकॉम के बारे में:
♦ अध्यक्ष: ऋषद प्रेमजी
♦ मुख्यालय: नोएडा
♦ स्थापित: 1 मार्च 1988
♦ अध्यक्ष: देबजानी घोष

नई दिल्ली में आयोजित हुई आतंकवाद के खिलाफ भारत-उजबेकिस्तान संयुक्त कार्यदल की 8 वीं बैठक:India-Uzbekistan Joint Working Group16 जुलाई, 2019 को, आतंकवाद के खिलाफ भारत-उजबेकिस्तान संयुक्त कार्यदल की 8 वीं बैठक नई दिल्ली में आयोजित की गई। इसकी अध्यक्षता श्री महावीर सिंघवी, संयुक्त सचिव (काउंटर टेररिज्म), विदेश मंत्रालय और उज्बेकिस्तान के राजदूत फ़रहॉड अज़्रिल ने की थी।
i.संयुक्त कार्य समूह ने सीमा पार आतंकवाद और दुनिया भर में अपने संबंधित क्षेत्रों में आतंकवादी समूहों द्वारा उत्पन्न खतरों का आकलन किया।
ii.उन्होंने देशों में व्याप्त मौजूदा आतंकवाद-विरोधी चुनौतियों पर विचारों का आदान-प्रदान किया।
iii. उन्होंने सूचना के आदान-प्रदान, आपसी क्षमता निर्माण और सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने के माध्यम से आतंकवादविरोध के क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग को मजबूत करने के उपायों पर विचार किया और संयुक्त राष्ट्र (यूएन), शंघाई सहयोग संगठन – क्षेत्रीय आतंकवाद रोधी संरचना (एससीओं-आरएटीएस) और यूरेशियन समूह (ईएजी) सहित बहुपक्षीय मंचों में सहयोग पर भी चर्चा की।
iv.संयुक्त कार्यदल की अगली बैठक उज्बेकिस्तान में आयोजित होने वाली है।
उजबेकिस्तान के बारे में:
♦ राजधानी: ताशकंद
♦ मुद्रा: उज़्बेकिस्तान सोम

दिल्ली में शुरू किया गया वेक्टर जनित बीमारियों पर विशेष जन जागरूकता अभियान:campaign on vector-borne diseases launched in Delhi17 जुलाई,2019 को केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री, डॉ.हर्षवर्धन ने वेक्टर-जनित रोगों जैसे मलेरिया, डेंगू, और चिकनगुनिया की रोकथाम और नियंत्रण के उपायों के बारे में लोगों को जागरूक और संगठित करने के लिए नई दिल्ली में “जागरूकता अभियान” नाम से 3 दिवसीय जन जागरूकता अभियान चलाया।
i.उद्देश्य: इस अभियान का उद्देश्य पूरे दिल्ली में वेक्टर (मच्छर) प्रजनन की जाँच के लिए समुदाय को भागीदार बनाना है।
ii.प्रतिभागी: यह जनप्रतिनिधियों, भारत सरकार और दिल्ली, नई दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी), दिल्ली नगरपालिका परिषद, रेलवे और छावनी बोर्ड और अन्य हितधारकों के अधिकारियों की भागीदारी से दिल्ली में लोगों का अभियान है।
iii.रणनीति: पूरी तरह से 286 वार्ड-आधारित टीमें (सभी 272 नगरपालिका वार्डों और एनडीएमसी के 14 स्थानों में) का गठन 20-25 सदस्यों के रूप में किया गया है, जिसमें नगर निगमों के अधिकारियों के साथ-साथ केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार के अधिकारी भी शामिल हैं।
iv.जागरूकता: अभ्यास के एक भाग के रूप में, टीमें दिल्ली में आवासीय क्षेत्रों, स्कूलों, अस्पतालों और बाजारों का दौरा करती हैं और इस तरह की बीमारियों की रोकथाम और नियंत्रण पर लोगों को जागरूक करती हैं।
v.पहली बैठक: यह पहली बार है जब केंद्र, राज्य और स्थानीय निकाय सार्वजनिक स्वास्थ्य गतिविधि के लिए समुदाय को जुटाने के अपने प्रयासों में जुटे हैं।

गूगल इंडिया और टाटा ट्रस्ट के ‘इंटरनेट साथी’ का कार्यक्रम पंजाब और ओडिशा तक विस्तारित किया जाएगा:internet-saathi16 जुलाई, 2019 को, ‘इंटरनेट साथी’ पहल, गूगल इंडिया और टाटा ट्रस्ट्स के एक सहयोगी कार्यक्रम का विस्तार पंजाब और ओडिशा के गांवों में किया जाएगा। जुलाई 2015 में शुरू की गई, इस पहल का उद्देश्य ग्रामीण भारत में महिलाओं के बीच डिजिटल साक्षरता की सुविधा प्रदान करना है।
i.लाभ: कार्यक्रम ने ग्रामीण भारत में डिजिटल लिंग विभाजन को कम करने की दिशा में योगदान दिया है। प्रारंभ में, 2015 में, महिला का पुरुष अनुपात 10 में 1 था और 2018 में, इसे बढ़ाकर 10 में 4 कर दिया गया था। इसने 70,000 ‘इंटरनेट साथी’ को प्रशिक्षित किया है।
ii.राज्यों को कवर: कार्यक्रम राजस्थान में एक पायलट कार्यक्रम के रूप में शुरू हुआ और गुजरात, झारखंड, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, असम, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, बिहार, हरियाणा, तमिलनाडु, गोवा, कर्नाटक, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना सहित राज्यों तक विस्तारित किया गया।
iii.कवरेज: पंजाब में, यह कार्यक्रम पारस रामपुर, कोटली थान सिंह, बुर्ज, वेह्रा और होशियारपुर और कपूरथला जिलों से लगभग 5,000 गांवों को कवर करेगा। ओडिशा में, यह बालेश्वर में सिंधिया, पुरी में परकाना, केंद्रपाड़ा के भुइंपुर से शुरू किया गया है, और 16,000 से अधिक गांवों को कवर करेगा।
गूगल के बारे में:
♦ स्थापित: 4 सितंबर 1998, कैलिफोर्निया
♦ संस्थापक: लैरी पेज, सर्गेई ब्रिन
♦ मुख्यालय: कैलिफोर्निया
♦ सीईओं: सुंदर पिचाई

भारत में 12 समुद्र तटों को ब्लू फ्लैग प्रमाणन के लिए प्रतिस्पर्धा करने के लिए चुना गया:12 beaches in India selected for Blue Flag certification15 जुलाई, 2019 को केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (एमओंईएफसीसी) ने ‘ब्लू फ्लैग’ प्रमाणन के लिए प्रतिस्पर्धा करने के लिए भारत में 12 समुद्र तटों का चयन किया है।
i.12 समुद्र तट: इसमें भोगवे (महाराष्ट्र), शिवराजपुर (गुजरात), घोघला (दीव), मीरामार (गोवा), कप्पड़ (केरल), ईडन (पुदुचेरी), कासरकोड और पदुबिद्री (कर्नाटक), ममल्लापुरम (तमिलनाडु), गोल्डन (ओडिशा), रुशिकोंडा (आंध्र प्रदेश) और राधानगर (अंडमान और निकोबार द्वीप समूह) शामिल हैं।
ii.ब्लू फ्लैग कार्यक्रम के बारे में:
लॉन्च: इसे समुद्र तट की सफाई और विकास के लिए दिसंबर 2017 में लॉन्च किया गया था।
मुख्य उद्देश्य: इसका उद्देश्य समुद्र तटों पर स्वच्छता, रखरखाव और बुनियादी सुविधाओं के मानकों को बढ़ाना है।
स्थापना: कंटेनर टॉयलेट ब्लॉक, चेंजिंग रूम, शॉवर पैनल, संलग्न संरचना में मिनी ग्रे वाटर ट्रीटमेंट प्लांट, मिनी सॉलिड वेस्ट रिसाइकलिंग प्लांट और ऑफ ग्रिड सोलर फोटोवोल्टिक पैनल जैसी संरचना प्रोग्राम के तहत स्थापित की जाती हैं और वे उच्च ज्वार रेखा से न्यूनतम 10 मीटर की दूरी पर हैं।
नामांकन और सहायता: परियोजना के तहत, प्रत्येक राज्य या केंद्रशासित प्रदेश को एक समुद्र तट नामांकित करने के लिए कहा गया है, जो चल रहे एकीकृत तटीय प्रबंधन कार्यक्रम (आईसीएमपी) के माध्यम से वित्त पोषित किया जा रहा है।
iii.ब्लू फ्लैग प्रमाणीकरण के बारे में:
यह समुद्र तटों और मारिनों के लिए अंतर्राष्ट्रीय मान्यता है जो स्वच्छता और पर्यावरणीय स्वामित्व के कुछ मानदंडों को पूरा करते हैं। यह फाउंडेशन फॉर एनवायरनमेंटल एजुकेशन (एफईई), एक कोपेनहेगन आधारित अंतर्राष्ट्रीय, गैर-सरकारी, गैर-लाभकारी संगठन द्वारा चलाया जाता है।
रैंकिंग: स्पेन में ब्लू फ्लैग समुद्र तटों (566) की सबसे अधिक संख्या है, इसके बाद ग्रीस (515) और फ्रांस (395) हैं। जापान और दक्षिण कोरिया एशिया के एकमात्र देश हैं जिनके पास ब्लू फ्लैग समुद्र तट हैं।
मानदंड: 33 मानदंड हैं जो ब्लू फ्लैग प्रमाणीकरण के लिए अर्हता प्राप्त करने के लिए पुरे होने चाहिए। उनमें से कुछ में पानी के कुछ मानक शामिल हैं जैसे कि अपशिष्ट निपटान सुविधाएं, प्राथमिक चिकित्सा उपकरण, दिव्यांग-अनुकूल सुविधाएं और समुद्र तट के मुख्य क्षेत्रों में पालतू जानवरों की पहुंच ना होना शामिल है। कुछ मानदंड स्वैच्छिक हैं और कुछ अनिवार्य हैं।
समीक्षा: एक बार अनुमोदित होने के बाद, समुद्र तटों को एक वर्ष के लिए योग्यता दी जाती है और उनके स्थानों पर ध्वज को उड़ाने के अधिकार को जारी रखने के लिए सालाना आवेदन करना होता है।

INTERNATIONAL AFFAIRS

अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) फ्रेमवर्क समझौते पर हस्ताक्षर करने वाला पलाऊ 76 वां देश बन गया:Palau - ISAपश्चिमी प्रशांत महासागर में स्थित एक द्वीप देश रिपब्लिक ऑफ पलाऊ ने अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) में शामिल होने वाले 76 वें देश बनने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन फ्रेमवर्क समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के लिए भारत के स्थायी मिशन में एक विशेष समारोह के दौरान पलाऊ के राष्ट्रपति टॉमी रेमेंगसाऊ द्वारा हस्ताक्षर किए गए थे। आईएसए फ्रेमवर्क समझौते को अब तक 76 देशों में से 54 के कुल द्वारा अनुमोदित किया गया है।
i.पलाउ ‘आउर ओसेन्स कॉन्फ्रेंस’ के 2020 संस्करण के लिए एक मेजबान देश है। यह जलवायु परिवर्तन, स्थायी मत्स्य पालन और समुद्री प्रदूषण जैसे मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करेगा।
अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) के बारे में:
i.यह नवंबर 2015 में पेरिस में यूएनएफसीसीसी (यूनाइटेड नेशनस फ्रेमवर्क कन्वेंशन ऑन क्लाइमेट चेंज) के सीओपी -21 (पार्टियों का सम्मेलन) के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रेंकोइस हॉलैंड द्वारा संयुक्त रूप से लॉन्च किया गया था।
ii.यह आधिकारिक तौर पर 6 दिसंबर 2017 को हरियाणा के गुरुग्राम में राष्ट्रीय सौर ऊर्जा संस्थान (एनआईएसई) में स्थापित किया गया था।
iii.यह सौर ऊर्जा की तेजी से और बड़े पैमाने पर तैनाती के माध्यम से पेरिस जलवायु समझौते के कार्यान्वयन में योगदान देने और जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता को कम करने के लिए एक प्रमुख वैश्विक पहल है।
उद्देश्य: वित्त की लागत को कम करने और सौर उर्जा की तैनाती के लिए अभिनव प्रयास करने के लिए, 2030 तक अमेरिका के 1000 अरब डॉलर के निवेश से अधिक का विकास करना और सदस्य देशों में सौर उर्जा की क्षमता के 1,000 गीगावाट से अधिक के विकास और तैनाती में तेजी लाना।
पलाऊ के बारे में:
♦ राजधानी: नार्गुलमुद
♦ मुद्रा: संयुक्त राज्य अमेरिका डॉलर

BANKING & FINANCE

आईसीआईसीआई बैंक ने एमएसएमई के लिए डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म ‘इन्स्टाबिज़’ शुरू किया:
17 जुलाई, 2019 को, भारत के सबसे बड़े निजी क्षेत्र के बैंक, आईसीआईसीआई (इंडस्ट्रियल क्रेडिट एंड इनवेस्टमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया) ने एक नया डिजिटल प्लेटफॉर्म लॉन्च किया, जिसे ‘इन्स्टाबिज़’ कहा गया। इसने सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) और स्व-नियोजित ग्राहकों को लक्षित किया, उन्हें उनके व्यापार बैंकिंग लेनदेन को डिजिटल और तेज़ करने में सक्षम बनाया जाएगा।
प्रमुख बिंदु:
i.डिजिटल होना: मंच मोबाइल फोन या इंटरनेट बैंकिंग मंच के माध्यम से 115 से अधिक उत्पादों और सेवाओं को ऑनलाइन प्रदान करता है।
ii.इन्स्टाबिज़: यह व्यवसायों के लिए एक नया व्यापक डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म है जो एमएसएमई को सेवाओं की एक श्रेणी की सुविधा का अनुभव करने में सक्षम बनाता है। इसमें डिजिटल रूप से तत्काल ओवरड्राफ्ट (ओंडी) की 15 लाख तक की सुविधा, व्यवसाय ऋण, आसान बल्क संग्रह और एक से अधिक धनराशि का भुगतान, स्वचालित बैंक सामंजस्य और अन्य सभी निर्यात-आयात लेन-देन जैसे कि आवक और जावक प्रेषण शामिल है।
iii.विशेषताएं: यह पहला डिजिटल प्लेटफॉर्म है जो सिंगल क्लिक भुगतान में चालान नंबर का उपयोग करके जीएसटी (गुड्स एंड सर्विस टैक्स) के त्वरित भुगतान की अनुमति देता है। इसके अलावा, एमएसएमई पॉइंट-ऑफ-सेल (पीओंएस) मशीन और समुद्री बीमा पॉलिसी के लिए तुरंत आवेदन कर सकते हैं।
iv.अन्य: एमएसएमई जो बैंक के ग्राहक नहीं हैं, वे अपने बैंक विवरण और केवाईसी (नो योर कस्टमर) विवरण अपलोड करके ‘इन्स्टाबिज़’ के माध्यम से 10 लाख रुपये तक की ओडी सुविधा का तत्काल अनुमोदन प्राप्त कर सकते हैं।
आईसीआईसीआई के बारे में:
♦ सीईओं: संदीप बख्शी
♦ मुख्यालय: मुंबई
♦ स्थापित: जून 1994, वडोदरा
♦ टैगलाइन: हम हैं ना, ख्याल आपका।

BUSINESS & ECONOMY

2022-23 तक कोयला उत्पादन को एक बिलियन टन तक बढ़ाएगी केंद्र सरकार:
17 जुलाई, 2019 को केंद्रीय कोयला मंत्री प्रहलाद जोशी ने बताया कि कोकिंग कोयले की अपर्याप्त घरेलू उपलब्धता के कारण कोयले की मांग और आपूर्ति के बीच अंतर को पूरी तरह से खत्म नहीं किया जा सकता है। लेकिन भारत में 2022-23 तक कोयले के कुल उत्पादन को एक बिलियन टन तक बढ़ाने की योजना है।
i.पुरे भारतीय के कच्चे कोयले का 2013-14 में 462 मीट्रिक टन से अधिक उत्पादन बढ़ाकर 2018-19 में लगभग 730 मीट्रिक टन कर दिया गया।
ii.कोयले के परिवहन के लिए, 14 समर्पित गलियारे विकसित किए जा रहे हैं।

AWARDS & RECOGNITIONS

पर्यटन मंत्रालय के ‘फाइंड द इनक्रेडिबल यू’ अभियान ने पीएटीए गोल्ड अवार्ड 2019 जीता:Find the Incredible Youपर्यटन मंत्रालय के अभियान, ‘फाइंड द इनक्रेडिबल यू’ ने ‘मार्केटिंग – प्राइमरी गवर्नमेंट डेस्टिनेशन’ श्रेणी के तहत पेसिफिक एशिया ट्रैवल एसोसिएशन (पीएटीए) गोल्ड अवार्ड 2019 जीता है।
प्रमुख बिंदु:
i.उद्देश्य: अभियान जो डिजिटल और सोशल मीडिया पर केंद्रित है और देश के आला पर्यटन उत्पादों के प्रचार ने दुनिया भर में 78 संगठनों और व्यक्तियत 198 एंट्रीयों के बीच पुरस्कार जीता।
ii.‘फाइंड द इनक्रेडिबल यू’: इसे ‘अतुल्य भारत 2.0’ अभियान के हिस्से के रूप में लॉन्च किया गया था। विदेशीयों के परिवर्तनकारी अनुभवों की श्रृंखला को आत्मकथा के रूप में अनूठी टैगलाइन ‘फाइंड द इनक्रेडिबल यू’ को अभियान के तहत लॉन्च किया गया था, जिसने पर्यटन स्थलों के बाहरी अनुभव से लेकर यात्रियों के आंतरिक अनुभव तक रणनीति पर ध्यान केंद्रित किया था।
iii.पीएटीए गोल्ड अवार्ड: ये पुरस्कार पीएटीए द्वारा एशिया प्रशांत क्षेत्र में यात्रा उद्योग को बढ़ावा देने के लिए उत्कृष्ट योगदान देने वाले पर्यटन उद्योग संगठनों और व्यक्तियों को प्रदान किया जाता है।
iv.अतुल्य भारत 2.0: अभियान को अगले स्तर पर ले जाने के लिए इसे सितंबर 2017 में लॉन्च किया गया था। यह दुनिया भर में किए गए सामान्य प्रचारों से हटकर बाजार-विशिष्ट प्रचार योजनाओं और सामग्री निर्माण में बदल गया था।
2.0 अभियान के हिस्से के रूप में, 5 नए टेलीविज़न विज्ञापनों का निर्माण पर्यटन मंत्रालय द्वारा किया गया था, जो विश्व स्तर पर टेलीविजन और सोशल मीडिया पर प्रसारित किया गया था। ये थे:
-योग: ‘द योगी ऑफ़ द रेसट्रैक’
-वेलनेस: ‘मिस्टर एंड मिसेज जोन्स का पुनर्जन्म’।
-लक्ज़री: ‘मैनहट्टन की महारानी’।
-भोजन: ‘मसाला मास्टरशेफ’।
-वन्यजीव: ‘पेरिस में अभयारण्य’।
v.वार्षिक रिलीज: पर्यटन मंत्रालय, अपनी प्रचार पहल के तहत, सालाना ‘इनक्रेडिबल इंडिया’ ब्रांड के तहत ग्लोबल मीडिया कैंपेन को टेलिविजन, प्रिंट, डिजिटल और सोशल मीडिया में प्रमुख और संभावित स्रोत बाजारों में जारी करता है।

फ्रांसीसी व्यापारी बर्नार्ड अरनॉल्ट ने दुनिया का दूसरा सबसे अमीर आदमी बन कर बिल गेट्स को पीछे छोड़ा: ब्लूमबर्गBernard Arnault Overtakes Bill Gatesब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स 2019 के अनुसार, फ्रांसीसी व्यापारी और एलवीएमएच के सीईओ (प्रसिद्ध ब्रांडों लुई विटन और मोएट हेनेसी का विलय), बर्नार्ड अरनॉल्ट (70) ने बिल गेट्स को दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति के रूप में पछाड़ दिया है।
i.माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक गेट्स अब दुनिया के तीसरे सबसे अमीर व्यक्ति हैं जिनके पास $ 107 बिलियन है, जबकि दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति अरनॉल्ट की 108 बिलियन डॉलर की संपत्ति है।
ii.अमेज़न इंक के संस्थापक जेफ बेजोस $ 124 बिलियन की संपत्ति के साथ दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति बने हुए हैं।
iii.ब्लूमबर्ग के अनुसार, 2019 में अरनॉल्ट ने अपनी संपत्ति में 39 बिलियन डॉलर की बढ़ोतरी की, जो 500-सदस्यीय सूचकांक पर सबसे अधिक व्यक्तिगत लाभ है।
iv.2018 में, लक्जरी सामानों की दुनिया की सबसे बड़ी निर्माता कंपनी एलवीएमएच ने राजस्व में 53 बिलियन डॉलर से अधिक का संग्रह किया।

APPOINTMENTS & RESIGNS

आईएमएफ की एमडी क्रिस्टीन लेगार्दे ने इस्तीफा दिया:MD of IMF Christine Lagarde resignsअंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की प्रबंध निदेशक (एमडी) क्रिस्टीन लेगार्ड, जिनकी उम्र 63 वर्ष है, ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। वह 12 सितंबर, 2019 को औपचारिक रूप से पद छोड़ देंगी।
i.वह यूरोपीय सेंट्रल बैंक (ईसीबी) के नए अध्यक्ष के रूप में पदभार संभालने की पुष्टि का इंतजार कर रही है, जहां वह मारियो ड्रैही की जगह लेंगी।
ii.वह 2011 में आईएमएफ में अपनी नियुक्ति से पहले पूर्व फ्रांसीसी वित्त मंत्री थी।
iii.वह अंतर्राष्ट्रीय वित्त की ‘रॉक स्टार’ के रूप में जानी जाती हैं।
आईएमएफ के बारे में:
♦ मुख्यालय: वाशिंगटन डीसी, यूएस
♦ मुख्य अर्थशास्त्री: गीता गोपीनाथ
♦ सदस्यता: 189 देश

SPORTS

दाएं हाथ के मध्यम तेज गेंदबाज, डर्नबैक इंग्लैंड की 2019 विश्व कप जीत के दिन रिटायर हुए:Dernbach retiresदाएं हाथ के मध्यम तेज गेंदबाज, इंग्लैंड के जेड डर्नबैक (33) ने लंदन के लॉर्ड्स में आयोजित 2019 विश्व कप (जिसे लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड के रूप में भी जाना जाता है), में इंग्लैंड की 2019 विश्व कप जीत के दिन अपनी सेवानिवृत्ति की घोषणा की।
i.उनका जन्म दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग में हुआ था और वह 14 साल की उम्र में इंग्लैंड चले गए थे।
ii.उन्होंने आखिरी बार 2014 में एक अंतर्राष्ट्रीय मैच खेला था। उन्होंने 2003 में प्रथम श्रेणी में पदार्पण किया और 2004 और 2009 में एनबीसी डेनिस कॉम्पटन पुरस्कार जीता।
iii.उन्होंने 2011 में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया और 58 बार इंग्लैंड का प्रतिनिधित्व किया।
iv.उन्होंने 17 साल की उम्र में भारत ‘ए’ के खिलाफ अपनी शुरुआत की। 2006 में, वह क्लब के प्रमुख विकेट लेने वाले खिलाड़ी बने और नेटवेस्ट प्रो 40 पर एक शानदार प्रदर्शन के साथ सामने आए।

OBITUARY

दक्षिण अफ्रीकी संगीतकार जॉनी क्लेग का 66 साल की उम्र में निधन हो गया:South African musician Johnny Clegg passed awayदक्षिण अफ्रीकी गायक और गीतकार और एक ग्रेमी नॉमिनी जॉनी क्लेग का अग्नाशय के कैंसर से जूझने के बाद निधन हो गया। वह 66 वर्ष के थे।
i.उनका जन्म 7 जून 1953 को यूनाइटेड किंगडम (यूके) के बेउप में हुआ था। वह एक बिलबोर्ड संगीत पुरस्कार विजेता थे, जिन्हें कई दक्षिण अफ्रीकी लोगों ने ‘ओम्लुंगु ओम्यामा’ या ‘ब्लैक-व्हाइट व्यक्ति’ के रूप में जाना था।
ii.वह 1970 और 1980 के दशक में रंगभेद की सरकार का खुलकर सामना करने वाले कुछ श्वेत कलाकारों में से एक हैं।
iii.उन्होंने अपनी बड़ी हिट 1987 के गीत ‘असीमबोन्गा’ के साथ दी, जो नेल्सन मंडेला को एक श्रद्धांजलि थी, जो उस समय दो दशकों से रॉबेन द्वीप पर कैद थे, यह उनके एक शानदार करियर के उच्च बिंदुओं में से एक था।
iv.उन्होंने इखामांगा के राष्ट्रपति के आदेश के साथ-साथ कई मानद डॉक्टरेट और पुरस्कार प्राप्त किए।

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व फुटबॉलर मार्क बैटचेलोर की दक्षिण अफ्रीका के जोहानिसबर्ग के ओलेवेनडेल में उनके घर के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई:footballer Marc Batchelor15 जुलाई, 2019 को, दक्षिण अफ्रीका के पूर्व फुटबॉल खिलाड़ी मार्क बैटचेलोर की दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग में उनके घर के बाहर, कार में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वह 49 वर्ष के थे।
i.4 जनवरी, 1970 को दक्षिण अफ्रीका के जोहानसबर्ग में जन्मे, उन्होंने दक्षिण अफ्रीकी टीमों कैसर चीफ्स, ऑरलैंडो पाइरेट्स, मामेलोडी सुन्दोन्स, मोरोका स्वैलोज़ और सुपरस्पोर्ट यूनाइटेड के लिए खेला और 2003 में सेवानिवृत्त हुए।
ii.उन्होंने 1995 के अफ्रीकी कप चैंपियंस क्लब सहित ऑरलैंडो पाइरेट्स के साथ चार प्रमुख ट्राफियां जीतीं।

बंगाली सिनेमा के दिग्गज अभिनेता स्वरुप दत्ता का 78 साल की उम्र में निधन हो गया:
17 जुलाई, 2019 को, स्वरुप दत्ता, जो वयोवृद्ध बंगाली अभिनेता “पीता पुत्र” और “हारमोनियम” जैसी बंगाली फिल्मों में अपने अभिनय के लिए जाने जाते थे, का कोलकाता में उम्र संबंधी बीमारियों के कारण उनका निधन हो गया। वह 78 वर्ष के थे।
प्रमुख बिंदु:
i.उनका जन्म 22 जून 1941 को हुआ था।
ii.दत्ता ने 1960 और 70 के दशक में बंगाली सिनेमा में कई फिल्मों में काम किया था। उन्होंने तपन सिन्हा की फिल्म अपंजन से अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की।
iii.उनकी पहली फिल्म तपन सिन्हा की ‘अपंजन’ (1968) थी, और उन्होंने बंगाली फिल्म और थिएटर उद्योगों में अपनी पहचान बनाई। उन्होंने उपहार में अभिनेत्री जया भादुड़ी के साथ बॉलीवुड फिल्मों में भी काम किया।

BOOKS & AUTHORS

लेखक रचना बिष्ट रावत की नई पुस्तक ‘कारगिल: द अनटोल्ड स्टोरीज़ फ्रॉम द वार’ जारी की गई:Kargil Untold stories from the Warकारगिल युद्ध की 20 वीं वर्षगांठ पर नई दिल्ली में जारी की गई रचना बिष्ट रावत द्वारा लिखित ‘कारगिल: द अनटोल्ड स्टोरीज़ फ्रॉम द वार’ शीर्षक से नई किताब प्रकाशित की गई।
i.पुस्तक पेंगुइन रैंडम हाउस द्वारा प्रकाशित की गई है।
ii.2019 में कारगिल युद्ध की 20 वीं वर्षगांठ लगभग तीन महीने तक चली, जिसे 1999 के मई में पाकिस्तानी सैनिकों को नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर भारतीय कब्जे वाली चोटियों से विस्थापित करने के प्रयास में शुरू किया गया था। युद्ध में भारत को जीत मिली, लेकिन 500 से अधिक सैनिक मारे गए।
iii.पुस्तक युद्ध के बचे और शहीदों के परिवारों के साथ लेखक के साक्षात्कार पर आधारित है।
iv.इस पुस्तक में न केवल वर्दी में पुरुषों की ‘असाधारण मानवीय साहस’ की कहानियों को, बल्कि उनके परिवारों की भी कहानियों को दिखाया गया है।

IMPORTANT DAYS

12 जुलाई को अंतर्राष्ट्रीय मलाला दिवस 2019 मनाया गया:
अंतर्राष्ट्रीय मलाला दिवस 12 जुलाई, 2019 को मनाया गया। यह संयुक्त राष्ट्र (यूएन) द्वारा पाकिस्तानी बाल कार्यकर्ता मलाला यूसुफजई द्वारा पाकिस्तानी बच्चों की शिक्षा के लिए किए गए काम पर प्रकाश डालने पर मनाया जाता है।
प्रमुख बिंदु:
i.पहले अंतर्राष्ट्रीय मलाला दिवस की घोषणा संयुक्त राष्ट्र द्वारा 10 नवंबर 2012 को की गई थी, ठीक एक महीने बाद (9 अक्टूबर 2012) जब उसे तालिबान द्वारा पाकिस्तान में लड़कियों की शिक्षा के लिए अभियान चलाने के लिए गोली मार दी गई थी।
ii.यह दिन 12 जुलाई 2013 से मनाया जाता है। यह मलाला यूसुफजई के 16 वें जन्मदिन (12 जुलाई 1997 को जन्मी) के रूप में घोषित किया गया था।
iii.उन्हें 2014 में नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

18 जुलाई को नेल्सन मंडेला अंतर्राष्ट्रीय दिवस 2019 मनाया गया:Nelson Mandela International Day 2019नेल्सन मंडेला अंतर्राष्ट्रीय दिवस 18 जुलाई, 2019 को मनाया गया। इस वर्ष नेल्सन मंडेला की 101 वीं जयंती है, जिनका जन्म 18 जुलाई, 1918 को हुआ था।
i.यह दिवस 2009 के बाद से मनाया गया है जब संयुक्त राष्ट्र (यूएन) ने एक प्रस्ताव ए / आरईएस / 64/13 पारित किया था, जिसमें 18 जुलाई को ‘नेल्सन मंडेला अंतर्राष्ट्रीय दिवस’ ​​के रूप में घोषित किया गया था, जो शांति और स्वतंत्रता की संस्कृति के लिए पूर्व दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति के योगदान को मान्यता देता है। ‘
ii.स्वर्गीय नेल्सन मंडेला दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति (1994- 1999) थे। उन्होंने नस्लवाद, गरीबी और सामाजिक अन्याय के खिलाफ संघर्ष में 27 साल जेल में बिताए थे।

STATE NEWS

राजस्थान सीएम ने 2,32,944.01 करोड़ रुपये के कुल व्यय के साथ 2019-20 के लिए राजस्थान बजट की घोषणा की:
10 जुलाई, 2019 को, राजस्थान बजट 2019-20 के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा प्रस्तुत किया गया था, जो राज्य के वित्त मंत्री भी हैं।
बजट की मुख्य विशेषताएं:
i.युवा के बीच तंबाकू के उपयोग को रोकने और कम करने के लिए एक कार्य योजना बनाई गई है।
ii.राज्य भर में आवासीय क्षेत्रों के पास जनता क्लीनिक खोलना और रोगियों को मुफ्त दवाइयाँ उपलब्ध कराना।
iii.सभी राजकीय चिकित्सा केंद्रों में सीटी (कम्प्यूटेड टोमोग्राफी) स्कैन मुफ्त किया गया है।
iv.नेपाल में पशुपति नाथ मंदिर के लिए मुफ्त तीर्थयात्रा।
v.चिकित्सा स्वास्थ्य देखभाल केंद्र में नवजात बालिका को इंदिरा प्रियदर्शिनी किट का प्रावधान।
vi.किसान निधि से बांसवाड़ा, टोंक और सिरोही की 36 ग्राम पंचायतों में खेती को आसान बनाने, शून्य-बजट प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी।
vii.प्रत्येक ग्राम पंचायत में सहकारी बैंकों और ‘नंदी शाला’ से 16,000 करोड़ रुपये के फसली ऋण का लक्ष्य बनाया जाएगा।
viii.किसानों को निर्बाध बिजली आपूर्ति प्रदान करने के लिए 5,200 करोड़ रुपये की लागत से एक अलग फीडर की स्थापना की जाएगी।
ix.जयपुर को भिखारियों से मुक्त बनाने और सरकारी स्कूलों में कक्षा 6 से 12 तक की छात्राओं के लिए आत्मरक्षा प्रशिक्षण अनिवार्य करने का प्रस्ताव।
x.छोटे उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए योजना ‘राजस्थान एम-सैंड पालिसी -2019’ की घोषणा ताकि निर्मित रेत के उपयोग को बढ़ावा दिया जा सके।
xi.राज्य में 200 नए स्वास्थ्य उप-केंद्र, 5 नए आघात केंद्र और 50 नए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्थापित करना, ‘महात्मा गांधी संस्थान’ जयपुर में 50 करोड़ रुपये की लागत से, वृक्षारोपण की योजना, नए जल स्रोतों के निर्माण और पारंपरिक जल स्रोतों के नवीकरण के लिए शुरू की जाएगी।
xii.आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के मानदेय में 6,000 रुपये से 7,500 रुपये तक की वृद्धि, मिनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के लिए 4,500 से 5,750 रुपये और आंगनवाड़ी सहायिका के लिए 3,500 रुपये से 4,250 रुपये तक की वृद्धि।
xiii.पैतृक संपत्ति के परिवार के निपटान और सह-स्वामित्व पैतृक संपत्तियों के विभाजन पर देय 1.5% स्टैंप ड्यूटी माफ कर दी गई है।
xi.स्टार्ट-अप की स्थापना करने वाले पात्र व्यक्तियों के 10 लाख रुपये तक के लोन दस्तावेज़ पर देय स्टैंप ड्यूटी को समाप्त कर दिया गया।
आवंटन:

किसान कल्याण कोष1,000 करोड़ रूपये
युवा रोजगार योजना1,000 करोड़ रूपये
अल्पसंख्यक समुदायों से संबंधित महिलाओं की शिक्षा10 crore करोड़ रूपये
लोक निर्माण विभाग6,037 करोड़ रूपये
सड़क का बुनियादी ढांचा35,000 करोड़ रूपये
बिजली क्षेत्र30,170 करोड़ रूपये
राज्य के राजमार्ग927 करोड़ रूपये
प्रियदर्शनी इंदिरा गांधी महिला शक्ति कोष1,000 करोड़ रूपये
कुल खर्च2,32,944.01 करोड़ रूपये
अनुमानित राजकोषीय घाटा32,678.34 करोड़ रूपये
अनुमानित राजस्व प्राप्ति1,64,004.64 करोड़ रूपये
अनुमानित राजस्व घाटा27,014.97 करोड़ रूपये

राजस्थान के बारे में:
♦ राजधानी: जयपुर
♦ राज्यपाल: कल्याण सिंह
♦ राष्ट्रीय उद्यान: मुकुंदरा हिल्स (दर्रा) राष्ट्रीय उद्यान, केवलादेव घाना राष्ट्रीय उद्यान, रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान, सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान
♦ वन्यजीव अभयारण्य (डब्ल्यूएलएस): माउंट आबू डब्ल्यूएलएस, नाहरगढ़ डब्ल्यूएलएस, केसरबाग डब्ल्यूएलएस, सरिस्का डब्ल्यूएलएस, वन विहार डब्ल्यूएलएस, सवाई मान सिंह डब्ल्यूएलएस आदि।

मध्य प्रदेश को इंदौर-दुबई से एयर इंडिया की सेवा के साथ अपनी पहली अंतर्राष्ट्रीय उड़ान मिली:Madhya Pradesh got its First International Flight15 जुलाई, 2019 को, मध्य प्रदेश को 150 यात्रियों के साथ एक राष्ट्रीय वाहक एयर इंडिया (फ्लाइट एआई903) के साथ देवी अहिल्या बाई होल्कर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे, इंदौर से दुबई के लिए उड़ान सेवा के शुभारंभ के साथ अपनी पहली अंतर्राष्ट्रीय उड़ान मिली।
i.पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन की मौजूदगी में स्थानीय सांसद शंकर लालवानी के साथ एयर इंडिया के चेयरमैन अश्वनी लोहानी ने इसे हरी झंडी दिखाई।
ii.एयर इंडिया 162 सीटर ए320नियों विमान का परिचालन कर रही है, जो सप्ताह में तीन बार – सोमवार, बुधवार और शनिवार को इंदौर से दुबई के लिए उड़ान भरेगा।
मध्य प्रदेश के बारे में:
♦ राजधानी: भोपाल
♦ राज्यपाल: आनंदीबेन पटेल
♦ मुख्यमंत्री: कमलनाथ
♦ राष्ट्रीय उद्यान: बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान, जीवाश्म राष्ट्रीय उद्यान, कान्हा राष्ट्रीय उद्यान, माधव राष्ट्रीय उद्यान, पन्ना राष्ट्रीय उद्यान, पेंच (प्रियदर्शनी) राष्ट्रीय उद्यान, संजय राष्ट्रीय उद्यान, सतपुड़ा राष्ट्रीय उद्यान, वनपाल राष्ट्रीय उद्यान, डायनासोर राष्ट्रीय उद्यान
♦ वन्यजीव अभयारण्य (डब्ल्यूएलएस): बगदरा डब्ल्यूएलएस, गांधी सागर डब्ल्यूएलएस, करेरा डब्ल्यूएलएस, नरसिंहगढ़ डब्ल्यूएलएस, ओरछा डब्ल्यूएलएस, पेंच डब्ल्यूएलएस, रत्नपानी डब्ल्यूएलएस, सोन घड़ियाल डब्ल्यूएलएस, वीरांगना दुर्गावती डब्ल्यूएलएस आदि।