Current Affairs PDF Sales

Current Affairs Hindi – January 18 2019

हैलो दोस्तों, affairscloud.com में आपका स्वागत है। हम यहां आपके लिए 18 जनवरी ,2019  के महत्वपूर्ण करंट अफेयर्स  को विभिन्न अख़बारों जैसे द हिंदू, द इकोनॉमिक टाइम्स, पीआईबी, टाइम्स ऑफ इंडिया, इंडिया टुडे, इंडियन एक्सप्रेस, बिजनेस स्टैंडर्ड,जागरण से चुन करके एक अनूठे रूप में पेश करते हैं। हमारे Current Affairs से आपको बैंकिंग, बीमा, यूपीएससी, एसएससी, सीएलएटी, रेलवे और अन्य सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

Click here to Read Current Affairs Today in Hindi – 17 january 2018

   राष्ट्रीय समाचार

16 जनवरी, 2019 को कैबिनेट की मंजूरी:cabinet-decisioni.प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केन्‍द्रीय मत्रिमंडल ने 1 जनवरी, 1997 से नेशनल हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड (एनएचपीसी), नॉर्थ ईस्‍ट इलेक्ट्रिक पावर कॉरपोरेशन (एनईईपीसीओ), टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड (पूर्ववर्ती टिहरी हाइड्रो डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड) और सतलुज जल विद्युत निगम लिमिटेड (एसजेवीएन) के बोर्ड स्‍तर के कार्यपालकों से नीचे वाले वेतनमानों के नियमन को अपनी मंजूरी दे दी है। इसे विद्युत मंत्रालय के दिनांक 04.04.2006 और 01.09.2006 के आदेशों के अनुसरण में लागू किया गया था।
ii.मंत्रिमंडल ने केंद्रीय विश्‍वविद्यालय अधिनियम 2009 के अंतर्गत बिहार, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्‍मू-कश्‍मीर (दो), झारखंड, कर्नाटक, केरल, ओडिशा, पंजाब, राजस्‍थान और तमिलनाडु में 13 नए केंद्रीय विश्‍वविद्यालयों की स्‍थापना के लिए संशोधित प्राक्‍कलित लागत (आरसीई) को मंजूरी दी। प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 13 नए केंद्रीय विश्‍वविद्यालयों हेतु आवर्ती लागत और परिसरों के लिए आवश्‍यक बुनियादी ढांचे के सृजन पर होने वाले खर्च के लिए 3639.32 करोड़ रूपये की राशि को मंजूरी दे दी। यह कार्य 36 महीने की अवधि के भीतर पूरा किया जाएगा। मंत्रिमंडल ने इन केंद्रीय विश्‍वविद्यालयों के लिए मंत्रिमंडल द्वारा पहले स्‍वीकृत की गई 3000 हजार करोड़ रूपये की राशि के अतिरिक्‍त खर्च की जा रही 1474.65 करोड़ रूपये की राशि को भी पूर्वव्‍यापी मंजूरी दे दी है। ये नए केंद्रीय वि‍श्‍वविद्यालय केंद्रीय विश्वयविद्यालय अधिनियम 2009 के अंतर्गत बिहार, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू -कश्मींर (दो), झारखंड, कर्नाटक, केरल, ओडिशा, पंजाब, राजस्था्न और तमिलनाडु में स्‍थापित किए जा रहे हैं।
iii.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल (कैबिनेट) ने आयकर विभाग की एकीकृत ई-फाइलिंग और केंद्रीकृत प्रोसेसिंग केंद्र 2.0 परियोजना के लिए 4,241.97 करोड़ रुपये के व्यय को मंजूरी दे दी है। केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने वित्त वर्ष 2018-19 तक वर्तमान सीपीसी-आईटीआर 1.0 परियोजना की 1,482.44 करोड़ रुपये की समेकित लागत के लिए व्यय को भी स्वीकृति दे दी है।
iv.धानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल(कैबिनेट) ने भारतीय निर्यात-आयात बैंक (एक्जिम बैंक) के पुनर्पूंजीकरण को मंजूरी दे दी है। इसका विवरण नीचे दिया गया हैः
भारतीय निर्यात-आयात बैंक में नई पूंजी लगाने के लिए भारत सरकार 6,000 करोड़ रुपये के पुनर्पूंजीकरण बांड जारी करेगी।
वित्त वर्ष 2018-19 में 4,500 करोड़ रुपये और वित्त वर्ष 2019-20 में 1,500 करोड़ रुपये की दो किस्तों के जरिए इक्विटी लगाई जाएगी।
कैबिनेट ने एक्जिम बैंक की अधिकृत पूंजी को 10,000 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 20,000 करोड़ रुपये करने की मंजूरी दे दी है। पुनर्पूंजीकरण बांड सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को जारी किए जाएंगे।
v.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों पर कैबिनेट समिति (सीसीईए) ने नुमालीगढ़ रिफाइनरी की क्षमता 3 एमएमटीपीए (मिलियन मीट्रिक टन वार्षिक) से बढ़ाकर 9 एमएमटीपीए करने की परियोजना को अपनी मंजूरी दे दी है। इस परियोजना में पारादीप से नुमालीगढ़ तक कच्चे तेल की पाइपलाइन और नुमालीगढ़ से सिलीगुड़ी तक उत्पाद पाइपलाइन बिछाना शामिल है जिन पर 22,594 करोड़ रुपये की लागत आएगी। वैधानिक मंजूरियां मिल जाने के बाद यह परियोजना 48 महीनों के भीतर पूरी की जाएगी। 15,102 करोड़ रुपये का ऋण नुमालीगढ़ रिफाइनरी लिमिटेड (एनआरएल) द्वारा किया जाएगा। उधर, 2,307 करोड़ रुपये के अपने आंतरिक संसाधनों के अलावा प्रमोटर यथा भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड, ऑयल इंडिया लिमिटेड और असम सरकार इक्विटी में भी योगदान करेंगी। इस परियोजना के लिए भारत सरकार 1,020 करोड़ रुपये का वीजीएफ (कम पड़ती धनराशि का इंतजाम) उपलब्ध कराएगी।

16 जनवरी, 2019 को दुसरे देशों के साथ कैबिनेट की मंजूरी:Cabinet Approval with Foreign Countries on January 16, 2019i.प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने खान, परीक्षण और अनुसंधान केंद्र में सुरक्षा (एसआईएमटीएआरएस) के जरिए महानिदेशक, खान सुरक्षा (डीजीएमएस), श्रम एवं रोजगार मंत्रालय, भारत सरकार और प्राकृतिक संसाधन खान एवं ऊर्जा विभाग, क्‍वीन्सलैंड प्रशासन, ऑस्‍ट्रेलिया के बीच सहमति पत्र पर हस्‍ताक्षर को मंजूरी दी। सहमति पत्र से डीजीएमएस और एसआईएमटीएआरएस के बीच साझेदारी कायम करने में मदद मिलेगी:
-जोखिम आधारित प्रबंधन प्रणाली का कार्यान्‍वयन, प्रशिक्षण प्रदान करना,
-सम्‍मेलन, संगोष्‍ठी और अन्‍य तकनीकी बैठकों का आयोजन, व्‍यवसायिक सुरक्षा और स्‍वास्‍थ्‍य अकादमी और राष्‍ट्रीय खान आपदा केंद्र की स्‍थापना तथा
डीजीएमएस में आर एंड डी प्रयोगशाला का आधुनिकीकरण।
ii.प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारत और मालदीव के बीच दिसंबर, 2018 में हस्‍ताक्षरित वीजा प्रबंधों की सुविधा से संबंधित समझौते को पूर्वव्यापी मंजूरी दे दी है। वीजा प्रबंधों की सुविधा से संबंधित समझौते पर मालदीव के राष्‍ट्रपति की भारत यात्रा के दौरान हस्‍ताक्षर किए गए थे। इस समझौते का उद्देश्‍य भारत और मालदीव के बीच जनता के आपसी संपर्क को और मजबूत बनाना है। इससे दोनों देशों के नागरिकों के लिए पर्यटन, इलाज, शिक्षा के साथ ही साथ कारोबार और रोजगार के उद्देश्‍य से एक दूसरे के यहां आना-जाना आसान हो जाएगा। यह समझौता पर्यटन, इलाज और सीमित कारोबारी उद्देश्‍य से 90 दिन की वीजा मुक्‍त यात्रा का प्रावधान करता है और इस प्रकार के वीजा मुक्‍त प्रवेश को आसानी से मेडिकल वीजा साथ ही साथ छात्रों के आश्रितों और एक दूसरे के क्षेत्र में रोजगार पाने की कोशिश करने वालों के वीजा में आसानी से परिवर्तित करने का भी प्रावधान करता है।

बच्चों को मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार (संशोधन) अधिनियम, 2019 आधिकारिक तौर पर लागू हुआ:
i.10 जनवरी, 2019 को भारत के राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद ने नि:शुल्क और अनिवार्य शिक्षा (संशोधन) अधिनियम, 2019 को बच्चों के अधिकार के लिए अपनी सहमति दी।
ii.इसे 3 जनवरी, 2019 को संसद द्वारा पारित किया गया था।
iii.इसे 16 जनवरी, 2019 को भारत के राजपत्र में भी अधिसूचित किया गया है।
अधिनियम के बारे में:
i.पहले इसे राइट टू चिल्ड्रन टू फ्री एंड कंपल्सरी एजुकेशन एक्ट, 2009 कहा जाता था।
ii.निम्नलिखित परिवर्तन किए गए हैं:
-पांचवीं कक्षा में और आठवीं में नियमित परीक्षा होगी
-यदि कोई बच्चा परीक्षा में असफल होता है, तो उसे अतिरिक्त निर्देश दिया जाएगा और परिणाम की घोषणा की तारीख से दो महीने की अवधि के भीतर पुन: परीक्षा के लिए अवसर प्रदान किया जाएगा।
-सरकार पुन: परीक्षा में असफल होने पर स्कूलों को पाँचवीं कक्षा में या आठवीं कक्षा में या बच्चे को रखने की अनुमति दे सकती है।
-प्रारंभिक शिक्षा पूरी होने तक किसी भी बच्चे को स्कूल से निष्कासित नहीं किया जाएगा।
मानव संसाधन विकास मंत्रालय:
♦ केंद्रीय मंत्री: श्री प्रकाश जावड़ेकर
♦ राज्य मंत्री: डॉ सत्य पाल सिंह

इसरो के उन्नति कार्यक्रम का उद्घाटन बेंगलुरु में राज्य मंत्री डॉ जितेंद्र सिंह ने किया:ISRO's UNNATI programme inaugurated by MoS DoS Dr. Jitendra Singh in Bengalurui.17 जनवरी, 2019 को, अंतरिक्ष विभाग में राज्य मंत्री डॉ जितेंद्र सिंह ने बेंगलुरु, कर्नाटक में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के उन्नति कार्यक्रम के पहले बैच का उद्घाटन किया।
ii.उन्नति का पूर्ण रूप है: यूनीस्पेस नैनोसैटेलाइट असेंबली एंड ट्रेनिंग प्रोग्राम।
iii.यह संयुक्त राष्ट्र कार्यालय द्वारा बाहरी अंतरिक्ष मामलों के लिए संयुक्त राष्ट्र के कार्यालय द्वारा पहल के रूप में शुरू किया गया है, जो कि बाह्य अंतरिक्ष के अन्वेषण और शांतिपूर्ण उपयोगों पर पहले संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन की 50 वीं वर्षगांठ मनाने के लिए है।
उन्नति के बारे में:
i.कार्यक्रम के पहले बैच के तहत, भारत अल्जीरिया, अर्जेंटीना, अजरबैजान, भूटान, ब्राजील, चिली, मिस्र, इथियोपिया, इंडोनेशिया, कजाकिस्तान, मलेशिया, मैक्सिको, मंगोलिया, मोरक्को, म्यांमार, ओमान, पनामा और पुर्तगालके 18 देशों के 32 प्रतिभागियों को 2 महीने का प्रशिक्षण प्रदान करेगा।
ii.प्रतिभागियों को 34 देशों के 87 आवेदनों में से चुना गया था।
iii.कुल मिलाकर, कार्यक्रम 3 वर्षों के लिए इसरो के यू.आर.राव  सैटेलाइट सेंटर द्वारा 3 बैचों में 45 देशों के अधिकारियों को लाभ पहुंचाने का लक्ष्य रखेगा।
इसरो:
♦ मुख्यालय: बेंगलुरु।
♦ अध्यक्ष: डॉ के सिवन।

महाराष्ट्र के वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार पैनल के तहत मंत्रियों के आठ सदस्यीय समूह का गठन लॉटरी पर एक समान कर दर का अध्ययन करने के लिए किया गया:
i.16 जनवरी 2019 को, जीएसटी परिषद ने महाराष्ट्र राज्य के वित्त मंत्री, सुधीर मुनगंटीवार की अध्यक्षता में आठ सदस्यीय समूह मंत्री (जीओएम) का गठन किया है।
ii.मंत्रियों के समूह की पूरी सूची निम्नलिखित हैं:

 नाम राज्य के साथ पदनाम
सुधीर मुनगंटीवार महाराष्ट्र राज्य के वित्त मंत्री
थॉमस इसाक केरल के वित्त मंत्री
अमित मित्रा पश्चिम बंगाल के वित्त मंत्री
 हिमंत बिस्वा सरमा असम के वित्त मंत्री
मनप्रीत सिंह बादल पंजाब के वित्त मंत्री
मौविन गोडिन्हो गोवा पंचायत मंत्री
कृष्णा बायर गौड़ा कर्नाटक के वित्त मंत्री
जारकर गामलिन अरुणाचल कर मंत्री

iii. सीबीआईसी के संयुक्त सचिव, श्री मनीष सिन्हा मंत्री समूह (जीओएम) के सचिव होंगे।
iv.लॉटरी से संबंधित मुद्दों पर केंद्र और राज्य के अधिकारियों की एक समिति द्वारा जीओएम की सहायता की जाएगी।
v.वर्तमान में एक राज्य अधिकृत लॉटरी 28% कर आकर्षित करती है जबकि राज्य संगठित लॉटरी 12% कर आकर्षित करती है।
vi.समिति यह भी देखेगी कि क्या राज्यों द्वारा अधिकृत निजी व्यक्ति कम दर का दुरुपयोग कर रहे हैं और राज्य की कीमत पर खुद को समृद्ध कर रहे हैं या नहीं और इस पर अंकुश लगाने के उपाय सुझाएंगे।
vii.जीएम, जीएसटी परिषद की अगली बैठक में लॉटरी से संबंधित मुद्दों पर अपनी रिपोर्ट जीएसटी परिषद को प्रस्तुत करेगा।
जीएसटी परिषद के बारे में:
i.जीएसटी काउंसिल जीएसटी का शासी निकाय है जिसके 33 सदस्य हैं।
ii.परिषद की अध्यक्षता केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने की है, जिसमें भारत के सभी राज्यों के वित्त मंत्री शामिल हैं।
iii.1 जुलाई 2017 की मध्यरात्रि में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी और प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा जीएसटी का शुभारंभ किया गया था।

भारत के राष्ट्रपति ने प्रयागराज में गांधीवादी पुनरुत्थान शिखर सम्मेलन का उद्घाटन किया:President of India inaugurated Gandhian Resurgence Summit in Prayagraji.17 जनवरी 2019 को भारत के माननीय राष्ट्रपति श्री रामनाथ नाथ कोविंद ने उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के अवसर पर तीन दिवसीय गांधीवादी पुनरुत्थान शिखर सम्मेलन का उद्घाटन किया। इसका समापन 19 जनवरी, 2019 को होगा।
ii.शिखर सम्मेलन का आयोजन परमार्थ निकेतन, हरिजन सेवक संघ और ग्लोबल इंटरफेथ डब्ल्यूएएस एलायंस द्वारा किया गया था।
iii.राष्ट्रपति ने कस्बे में महर्षि भारद्वाज की प्रतिमा का भी अनावरण किया।
iv.श्री कोविंद ने अरिल के परमार्थ निकेतन में विश्व शांति यज्ञ में भाग लिया।
कुंभ मेला 2019 के बारे में:
i.15 जनवरी 2019 को कुंभ मेला उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में संगम पर शुरू हुआ।
ii.भक्तों द्वारा इस्तेमाल किया गया नारा ‘चलो कुंभ चले’ है।
iii.यूपी सरकार ने कुंभ मेला 2019 के लिए 4,200 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं।
iv.’कुंभ मेला मौसम सेवा’ नाम का एक मोबाइल ऐप भी कुंभ मेले के दौरान मौसम के बारे में जानकारी देने के लिए विकसित किया गया है।
v.कुंभ मेले में पहली बार, एक ट्रांसजेंडर आश्रम, किन्नर अखाड़ा, जिसका नेतृत्व मुंबई से अधिकार कार्यकर्ता लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी ने किया, को शामिल किया गया और पहली बार तीन महिला पुलिस स्टेशन भी बनाए गए।
उत्तर प्रदेश:
♦ मुख्यमंत्री: योगी आदित्यनाथ।
♦ राज्यपाल: राम नाईक।
♦ राष्ट्रीय उद्यान: दुधवा राष्ट्रीय उद्यान, पीलीभीत टाइगर रिजर्व।

वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु ने मुंबई में इंडिया रबर एक्सपो-2019 के 10 वें संस्करण का उद्घाटन किया:10th edition of the India Rubber Expo – 2019 in Mumbaii.17 जनवरी, 2019 को, केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री, सुरेश प्रभु ने मुंबई में बॉम्बे प्रदर्शनी केंद्र में तीन दिवसीय 10 वें भारत रबर एक्सपो-2019 का उद्घाटन किया।
ii.उन्होंने घोषणा की कि 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के भारत के प्रयासों को सक्षम करने वाले क्षेत्र की उत्पादकता में सुधार के लिए जल्द ही एक राष्ट्रीय रबर नीति बनाई जाएगी।
iii.भारत रबर एक्सपो एशिया का सबसे बड़ा रबर एक्सपो है। यह आयोजन भारतीय कंपनियों को विदेशी कंपनियों के साथ मिलने और सहयोग करने का एक अनूठा अवसर प्रदान करता है।

नई दिल्ली में 10 दिवसीय भारतीय पैनोरमा फिल्म महोत्सव का आयोजन हुआ:Indian Panorama Film Festival held in New Delhii.13 जनवरी, 2019 को, 10 दिवसीय भारतीय पैनोरमा फिल्म महोत्सव, जिसका उद्घाटन सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के सचिव, श्री अमित खरे द्वारा किया गया था, नई दिल्ली में सिरी फोर्ट ऑडिटोरियम II में संपन्न हुआ, यह 4 जनवरी, 2019 को शुरू हुआ था।
ii.यह फिल्म समारोह निदेशालय, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा आयोजित किया गया था।
iii.उत्सव की शुरूआती फीचर फिल्म ‘ओलू’ थी, जिसका निर्देशन श्री शाजी एन करुण ने किया था।
iv.श्री आदित्य सुहास जम्भले द्वारा निर्देशित, महोत्सव की शुरुआती गैर-फीचर फिल्म ‘खारवास’ थी।
v.इस फेस्टिवल में 26 फ़ीचर फ़िल्में और 21 नॉन फ़ीचर फ़िल्में दिखाई गईं।
vi.इसके अलावा, भारत के 49 वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में भारतीय पैनोरमा खंड के तहत चयनित सभी फिल्मों को महोत्सव के दौरान प्रदर्शित किया गया था।
सूचना और प्रसारण मंत्रालय:
राज्य मंत्री: श्री राज्यवर्धन राठौर।

 ‘सांझी- मुझ में कलाकार’ का दूसरा चरण संगीत नाटक अकादमी द्वारा शुरू किया गया:
i.16 जनवरी, 2019 को नेशनल एकेडमी ऑफ म्यूजिक, डांस एंड ड्रामा, संगीत नाटक अकादमी ने वेबकैंप के दूसरे चरण ‘सांझी- मुझ में कलाकार’को लॉन्च किया।
ii.इस अभियान का उद्देश्य देश की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत और विविध सांस्कृतिक परंपराओं में प्रत्यक्ष जन-भागीदारी को बढ़ावा देना है।
iii.सांझी शब्द का शाब्दिक अर्थ है ‘साझा करना’ और ‘भागीदार बनाना’।
iv.इस अभियान का दूसरा चरण, ‘सांझी- मुझ में कलाकार’, मुख्य रूप से जैसे- लोक, पारंपरिक, प्रथागत, सामाजिक घटनाओं और कर्मकांडों के कला रूपों में केंद्रित होगा।
v.यह दूसरा चरण जनवरी के फसल त्योहार के मौसम के समय पर केंद्रित होगा, जिसे मकर संक्रांति, पोंगल, लोहड़ी, भोगली बिहू, तोरग्य, उत्तरायण, अट्टुकल चोंगल आदि जैसे कई नामकरणों से जाना जाता है।
vi.यह यूनेस्को के तहत आईसीएच की सुरक्षा के कन्वेंशन के अनुसार अमूर्त सांस्कृतिक विरासत के डोमेन को एकीकृत करेगा। वो निम्नलिखित हैं:
-मौखिक परंपरा और अभिव्यक्ति,
-अमूर्त सांस्कृतिक विरासत के एक वाहन के रूप में भाषा सहित,
-कला प्रदर्शन,
-सामाजिक प्रथाओं, अनुष्ठानों और उत्सव की घटनाओं,
-प्रकृति और ब्रह्मांड के विषय में ज्ञान और अभ्यास,
-पारंपरिक शिल्पकारी।
vii.इस अभियान का पहला चरण नवंबर 2018 के महीने में दिवाली के त्योहार के मौसम के दौरान शुरू किया गया था।
संगीत नाटक अकादमी के बारे में:
संगीत नाटक अकादमी संस्कृति मंत्रालय, सरकार की नोडल एजेंसी है। यह भारत की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत और विभिन्न यूनेस्को परंपराओं से संबंधित सांस्कृतिक विविधता और देश की सांस्कृतिक परंपराओं को बढ़ावा देने से संबंधित है।
संस्कृति मंत्रालय:
♦ राज्य मंत्री: डॉ महेश शर्मा।

अंतरराष्ट्रीय समाचार

14 वीं ग्लोबल रिक्स रिपोर्ट का 2019 का संस्करण, विश्व आर्थिक मंच द्वारा जारी किया गया: Global Risks Report, the 2019 editioni.16 जनवरी, 2019 को, वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम ने अपना वार्षिक ग्लोबल रिस्क रिपोर्ट 2019, 14 वां संस्करण जारी किया।
रिपोर्ट के बारे में:
i.रिपोर्ट के निष्कर्ष वार्षिक वैश्विक जोखिम परिकल्पना सर्वेक्षण पर आधारित हैं, जो फोरम, व्यापार, सरकार, नागरिक समाज और विचारशील नेताओं से हमारे विश्व के सामने आने वाले जोखिमों का पता लगाने के लिए कहता है।
ii.रिपोर्ट में जोखिमों को 2 भागों में विभाजित किया गया है:
संभावना द्वारा शीर्ष 10 जोखिम और प्रभाव द्वारा शीर्ष 10 जोखिम।
iii.इसके अलावा जोखिमों को 5 श्रेणियों में बांटा गया: आर्थिक, पर्यावरणीय, भू राजनीतिक, सामाजिक, तकनीकी।
iv.यह मार्श मैक्लेनन कंपनी और ज्यूरिख बीमा समूह के साथ साझेदारी में किया गया।
v.दावोस में विश्व आर्थिक मंच की वार्षिक बैठक से पहले रिपोर्ट जारी की गई।
रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएं:
i.प्रमुख-शक्ति राजनीतिक टकराव के जोखिम आसन्न हैं।
ii.जोखिम तेज होने के साथ, उनसे निपटने की सामूहिक इच्छाशक्ति की कमी है।
iii.तीसरे वर्ष के लिए सूची में पर्यावरणीय खतरे हावी हैं – प्रभाव और संभावना दोनों के संदर्भ में।
iv.‘जलवायु-परिवर्तन शमन और अनुकूलन की विफलता’ – संभावना और प्रभाव दोनों की सूची में दूसरे स्थान पर है।
v.साइबर-अटैक दोनों में शीर्ष 10 में, संभावना के लिए नंबर पांच पर और प्रभाव के लिए सात पर हैं, जबकि डेटा धोखाधड़ी संभावना के लिए चौथे नंबर पर है, प्रौद्योगिकी के रूप में एक समग्र प्रवृत्ति को दर्शाते हुए जोखिम परिदृश्य को आकार देता है।
vi.सामाजिक जोखिम के संदर्भ में, पानी की कमी, उपलब्ध गुणवत्ता और ताजे पानी की मात्रा को महत्वपूर्ण गिरावट के रूप में परिभाषित किया गया है, जिसके परिणामस्वरूप मानव स्वास्थ्य और आर्थिक गतिविधि पर हानिकारक प्रभाव भी पड़ा है।
vii.रिपोर्ट 2019 में आगे बढ़ने वाले व्यापक आर्थिक जोखिमों की चेतावनी भी देती है।
विश्व आर्थिक मंच:
♦ मुख्यालय: जिनेवा, स्विट्जरलैंड।
♦ संस्थापक और कार्यकारी अध्यक्ष: श्री क्लॉस श्वाब।

बैंकिंग और वित्त

एसबीआई की अगुवाई में बैंकों ने नागपुर-मुंबई समृद्धि कॉरिडोर के लिए सहमति व्यक्त की:
i.17 जनवरी, 2019 को, मुंबई में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कार्यालय ने घोषणा की कि एसबीआई अन्य बैंकों के साथ नागपुर-मुंबई ‘समृद्धि कॉरिडोर’ एक्सप्रेसवे परियोजना के लिए वित्त प्रदान करने के लिए सहमत हो गया है।
ii.बैंकों के संघ के बीच, एसबीआई उच्चतम राशि प्रदान करेगा जो 8,500 करोड़ रु हैं।
iii.अन्य पार्टियों में शामिल हैं: पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ महाराष्ट्र और साथ ही भारतीय जीवन बीमा निगम।
परियोजना के बारे में:
i.महाराष्ट्र राज्य सड़क विकास निगम द्वारा बनाई जा रही परियोजना की अनुमानित लागत लगभग 50,000 करोड़ है।
ii.इसमें से लगभग 26,000 करोड़ रुपये एक्सप्रेसवे के निर्माण के लिए आवश्यक हैं।
iii.गलियारे में 25 टोल प्लाज़ा होंगे, और टोल 40 वर्षों के लिए एकत्र किया जाएगा।

आरबीआई ने सरकारी प्रतिभूतियों की खरीद के माध्यम से 10,000 करोड़ रुपये सिस्टम में निवेश किए:
i.16 जनवरी, 2019 को, भारतीय रिजर्व बैंक ने घोषणा की कि वह खुले बाजार के संचालन (ओएमओ) के माध्यम से तरलता बढ़ाने के लिए 10,000 करोड़ रुपये की व्यवस्था करेगा।
ii.ऑफ़र को आरबीआई कोर बैंकिंग सॉल्यूशन (ई-कुबेर) प्रणाली पर इलेक्ट्रॉनिक प्रारूप में प्रस्तुत करने का निर्देश दिया गया है।
iii.इसने जनवरी 2019 में 50,000 करोड़ रुपये के लिए ओएमओ के तहत तरलता के निवेश की योजना बनाई है।
iv.केंद्रीय बैंक ने अब तक जनवरी 2019 में ओएमओ के माध्यम से 20,000 करोड़ रुपये निवेश किए है।

आरबीआई ने नए फ्रेमवर्क को लॉन्च करके बाहरी वाणिज्यिक उधार के मानदंडों को आसान बनाया:RBI eased norms for external commercial borrowings by launching new Frameworki.16 जनवरी, 2019 को आरबीआई ने नए बाहरी वाणिज्यिक उधार (ईसीबी) ढांचे की घोषणा की।
ii.इस कदम का उद्देश्य व्यापार करने में आसानी को बढ़ावा देना हैं।
iii.घोषणा के अनुसार, कुछ बदलाव किए गए हैं। वो निम्नलिखित हैं:
-आरबीआई ने विदेशी ऋण लेने के मानदंडों को युक्तिसंगत बनाया है,
-जिसमें वर्ष में 750 मिलियन वर्ष की एक समान उधार सीमा की अनुमति दी गई है।
iv.ईसीबी ढांचे के तहत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश प्राप्त करने के लिए पात्र सभी संस्थाओं को सक्षम करने के लिए पात्र उधारकर्ताओं की सूची का विस्तार किया गया है।
v.कोई भी संस्था जो किसी ऐसे देश का निवासी है जो एफएटीएफ है, को एक मान्यता प्राप्त ऋणदाता के रूप में माना जाएगा। इस अवधि में उधारदाताओं के लिए ऋण देने के विकल्प बढ़ जाते हैं।
vi.सभी ईसीबी के लिए न्यूनतम औसत परिपक्वता अवधि (एमएमपी) 3 वर्ष पर रखी गई है, भले ही उधार की राशि के बावजूद, उधारकर्ताओं को विशेष रूप से कम अवधि के लिए उधार लेने के लिए परिपत्र में अनुमति दी गई हो।
vii.ईसीबी ढांचे के तहत निर्धारित रिपोर्टिंग में देरी के लिए एक देर से जमा शुल्क पेश किया गया है।

आरबीआई ने बैंक ऑफ महाराष्‍ट्र पर 1 करोड़ का जुर्माना लगाया:RBI fined Bank of Maharastra with 1 Crore i.16 जनवरी, 2019 को, भारतीय रिज़र्व बैंक ने नो-योर कस्टमर दिशानिर्देशों और धोखाधड़ी-वर्गीकरण मानदंडों का पालन न करने के लिए राज्य के स्वामित्व वाले बैंक ऑफ महाराष्ट्र पर 1 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया।
ii.आरबीआई द्वारा जारी नियमों और विनियमन का पालन करने में बैंक की विफलता पर जुर्माना लगाया गया है।
iii.आरबीआई ने वर्ष 2018 में खातों में धोखाधड़ी का पता लगाने और रिपोर्ट करने के लिए बैंक की ओर से देरी के कारण बैंक ऑफ महाराष्‍ट्र पर 1 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया था।

व्यापार और अर्थव्यवस्था

सेबी ने कमोडिटी इंडेक्स के लिए मसौदा मानदंड जारी किया:
i.16 जनवरी 2019 को, भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने कमोडिटी इंडेक्स के लिए ड्राफ्ट मानदंड जारी किया, जो कि कमोडिटी-इंडेक्स-आधारित फ्यूचर्स में व्यापार की अनुमति देता है।
ii.केवल व्यक्तिगत कमोडिटी फ्यूचर्स और उस पर विकल्पों की अनुमति दी गई थी,केवल कुछ शर्तों के अनुपालन वाले अनुबंधों को सूचकांकों का हिस्सा बनने दिया जाएगा।
iii.सेबी ने एक घटक के लिए अधिकतम 20% और न्यूनतम 1% का प्रस्ताव दिया।
iv.ड्राफ्ट मानदंडों के अनुसार, अनुबंधों को पिछले 12 महीनों में कम से कम 90% व्यापारिक दिनों के लिए कारोबार करना चाहिए और उनके पास दैनिक औसत कारोबार होना चाहिए,कृषि और कृषि-प्रसंस्कृत वस्तुओं के लिए टर्नओवर कम से कम 75 करोड़ रुपये और अन्य सभी वस्तुओं के लिए 500 करोड़ रुपये होना चाहिए।
v.किसी अनुक्रमणिका को फिर से संतुलित करने से पहले संबंधित अनुबंधों को कम से कम 12 महीनों के लिए विशेष विनिमय में व्यापार करना चाहिए।
vi.शुरू में अनुबंधों का कार्यकाल कम से कम 5 लाख रुपये के अनुबंध के साथ छह महीने का हो सकता है।
vii.मसौदा मानदंड 3 साल पहले सेबी द्वारा निर्धारित कमोडिटी डेरिवेटिव्स एडवाइजरी कमेटी (सीडीएसी) द्वारा की गई सिफारिशें हैं।
कमोडिटी इंडेक्स के बारे में:
कमोडिटी इंडेक्स एक निवेश वाहन है जो अपनी कीमत और निवेश रिटर्न प्रदर्शन को मापने के लिए वस्तुओं की एक टोकरी को ट्रैक करता है। ये सूचकांक निवेशकों को वायदा बाजार में प्रवेश किए बिना आसानी से निवेश पहुंच प्राप्त करने की अनुमति देते हैं और अक्सर एक्सचेंजों पर कारोबार करते हैं।
सेबी:
♦ मुख्यालय: मुंबई, महाराष्ट्र
♦ अध्यक्ष: अजय त्यागी
♦ गठित: 12 अप्रैल 1992

सेबी ने डेरिवेटिव में म्यूचुअल फंड निवेश के लिए मानदंड जारी किए:
i.16 जनवरी, 2019 को, बाजार नियामक सेबी ने म्यूचुअल फंड योजनाओं (इंडेक्स फंड्स और ईटीएफ को छोड़कर) को केवल निफ्टी 50 और सेंसेक्स सूचकांकों के घटक शेयरों के लिए एक कवर कॉल रणनीति के तहत कॉल विकल्प लिखने की अनुमति दी।
ii.घोषणा में निम्नलिखित शामिल हैं:
-किसी योजना द्वारा लिखे गए कॉल विकल्पों का कुल संवैधानिक मूल्य उस योजना में रखे गए इक्विटी शेयरों के कुल बाजार मूल्य का 15 प्रतिशत से अधिक नहीं होगा।
-कॉल विकल्प में अंतर्निहित शेयरों की कुल संख्या योजना में आयोजित किसी विशेष कंपनी के शेयरों के 30 प्रतिशत से अधिक नहीं होनी चाहिए।
-अंतर्निहित इक्विटी शेयरों को पकड़े बिना कोई भी योजना कॉल विकल्प नहीं लिखेगी।
-लिखित विकल्प को दैनिक रूप से बाजार में चिह्नित किया जाना चाहिए और संबंधित लाभ या हानि को संबंधित योजना के दैनिक शुद्ध संपत्ति मूल्य में विभाजित किया जाना चाहिए जब तक कि स्थिति बंद या समाप्त नहीं हो जाती।
-उसी के जोखिम और लाभ का खुलासा योजना सूचना दस्तावेज में किया जाना चाहिए।
कॉल विकल्प बारें में:
♦ आम तौर पर, कॉल विकल्प एक समझौते को संदर्भित करते हैं जो एक खरीदार को किसी विशेष समय अवधि के भीतर एक निर्दिष्ट मूल्य पर संपत्ति खरीदने का अधिकार देता है। वर्तमान में, म्यूचुअल फंड योजनाओं को इक्विटी डेरिवेटिव में लेनदेन करने की अनुमति है, लेकिन एम्बेडेड लिखित विकल्पों के साथ विकल्प या खरीद उपकरण नहीं लिख सकते हैं।
सेबी:
♦ मुख्यालय: मुंबई
♦ अध्यक्ष: श्री अजय त्यागी

वित्त वर्ष 2020 में जीडीपी विकास दर की 7.5% से अधिक होने की संभावना:GDP growth likely to be tad higher at 7.5% in FY20i.17 जनवरी 2019 को एक फिच समूह की कंपनी इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च ने अनुमान लगाया कि वित्त वर्ष 2019-20 में भारत की जीडीपी वृद्धि 7.5% पर ‘उच्चतर’ होगी। इससे पहले वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान यह 7.2% थी।
ii.केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) द्वारा अनुमानित पिछले वर्ष के 6.7% के मुकाबले अर्थव्यवस्था ने चालू वित्त वर्ष में 7.2% की वृद्धि दर देखी।
iii.भारत की रेटिंग के अनुसार निवेश धीमा है, लेकिन वित्त वर्ष 2016 में सकल स्थिर पूंजी निर्माण के साथ स्थिर लाभ 12.2% बढ़ रहा है और वित्त वर्ष 2015 में 10.3% बढ़ने का अनुमान है।
iv.फिच रेटिंग के अनुसार चालू वित्त वर्ष में विमुद्रीकरण और जीएसटी (गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स) के बाद तेज रिकवरी देखी गई है।
फिच रेटिंग कंपनी के बारे में:
♦ मुख्यालय: न्यूयॉर्क
♦ संस्थापक: जॉन नोल्स फिच

पुरस्कार और सम्मान

डब्ल्यूएचओ सद्भावना राजदूत योही सासाकावा ने 2018 के लिए गांधी शांति पुरस्कार प्राप्त किया:Yohei Sasakawa received Gandhi Peace Prize for 2018i.17 जनवरी, 2019 को, योही ससाकावा को 2018 के लिए गांधी शांति पुरस्कार प्राप्त करने के लिए नामित किया गया था, जो कुष्ठ उन्मूलन के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन के सद्भावना राजदूत हैं।
ii.यह पुरस्कार 1995 में भारत सरकार द्वारा महात्मा गांधी की 125 वीं जयंती के उपलक्ष्य में स्थापित किया गया था।
iii.इस खिताब के विजेताओं को 1 करोड़ रुपये का नकद पुरस्कार दिया जाएगा।
iv.भारत सरकार ने 1995 में गैर-हिंसा और अन्य गांधीवादी तरीकों के माध्यम से सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक परिवर्तन के लिए उनके योगदान के लिए व्यक्तियों और संस्थानों को सम्मानित करने के लिए पुरस्कार की स्थापना की थी।
v.प्रधानमंत्री श्री नरेंद्रमोदी की अध्यक्षता में समिति में भारत के मुख्य न्यायाधीश, न्यायमूर्ति रंजन गोगोई (45 वें मुख्य न्यायाधीश), लोक सभा अध्यक्ष श्रीमती सुमित्रा महाजन, लोकसभा में सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी के नेता श्री मल्लिकार्जुनकार्ज और संसद सदस्य श्री एल.के. आडवाणी ने विशिष्ट क्षेत्रों में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए संगठन और व्यक्तियों का चयन करने का निर्णय लिया।
vi.पुरस्कार के पहले प्राप्तकर्ता 1995 में तंजानिया के पूर्व राष्ट्रपति जूलियस के न्येरे थे।
vii.चार साल के अंतराल के बाद विजेताओं की सूची की घोषणा की गई है। निम्नलिखित वर्षों के लिए विजेताओं के रूप में चुना गया है:
-विवेकानंद केंद्र, कन्याकुमारी ने 2015 के लिए पुरस्कार जीता। यह ग्रामीण विकास, शिक्षा और प्राकृतिक संसाधनों के विकास में अपने योगदान के लिए विजेता के रूप में हकदार है।
-2016 के लिए, अक्षयपात्र फाउंडेशन को भारत भर में बच्चों के लिए मध्याह्न भोजन और सुलभ इंटरनेशनल को भारत में स्वच्छता सुविधाओं के सुधार और मैनुअल मैला ढोने वालों से मुक्ति के लिए योगदान के लिए सम्मानित किया गया।
-एकलव्य ट्रस्ट को ग्रामीण और आदिवासी बच्चों, ग्रामीण सशक्तिकरण और लिंग और सामाजिक समानता के लिए शिक्षा के क्षेत्र में अपने काम के लिए वर्ष 2017 का पुरस्कार मिला।

भारत में जन्मे, डॉ रतन लाल को ‘जैविक उत्पादन, पारिस्थितिकी’ में उनके योगदान के लिए 2019 जापान पुरस्कार से सम्मानित किया गया:Dr. Rattan Lal honoured with 2019 Japan Prizei.16 जनवरी, 2019 को, जापान पुरस्कार फाउंडेशन ने भारत के प्रोफेसर डॉ रतन लाल को ‘जैविक उत्पादन, पारिस्थितिकी’ के क्षेत्र में 2019 जापान पुरस्कार के प्राप्तकर्ता के रूप में उनके नाम की घोषणा की।
ii.डॉ योशियो ओकामोटो को ‘सामग्री और उत्पादन’ क्षेत्र पर 2019 जापान पुरस्कार के प्राप्तकर्ता के रूप में घोषित किया गया था।
iii.प्रत्येक पुरस्कार विजेता को मान्यता प्रमाणपत्र और स्मारक स्वर्ण पदक प्राप्त होगा।
iv.प्रत्येक पुरस्कार क्षेत्र में 50 मिलियन जापानी येन का नकद पुरस्कार भी दिया जाएगा।
पुरस्कार के बारे में:
जापान पुरस्कार अत्यधिक प्रतिस्पर्धी है: नामांकन प्रक्रिया फरवरी में समाप्त होती है, और, हर साल मार्च से नवंबर तक, फाउंडेशन दुनिया भर के 15,000 प्रमुख वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं के नामांकन पर विचार करता है। 2020 जापान पुरस्कार ‘इलेक्ट्रॉनिक्स, सूचना और संचार’ और ‘जीवन विज्ञान’ के क्षेत्रों पर केंद्रित होगा।
जापान:
♦ राजधानी: टोक्यो।
♦ मुद्रा: जापानी येन।

नियुक्तिया और इस्तीफे 

राष्ट्रपति कोविंद ने न्यायमूर्ति संजीव खन्ना, न्यायमूर्ति दिनेश माहेश्वरी की सर्वोच्च न्यायालय में पदोन्नति को मंजूरी दी:President Kovind approved elevation of Justice Sanjiv Khanna, Justice Dinesh Maheshwari to Supreme Courti.16 जनवरी, 2019 को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति दिनेश माहेश्वरी को सर्वोच्च न्यायालय में पदोन्नति की मंजूरी दी।
ii.जस्टिस खन्ना वर्तमान में दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश हैं।
iii.जस्टिस माहेश्वरी कर्नाटक उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश हैं।
iv.भारत के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति रंजन गोगोई की अध्यक्षता में उच्चतम न्यायालय के कॉलेजियम की सिफारिशों के तहत उन्नयन किया गया।
v.दो जजों की नियुक्तियों ने सुप्रीम कोर्ट में जजों की कुल संख्या को 28 कर दिया।

राष्ट्रपति ने वरिष्ठ वकील संजय जैन को सुप्रीम कोर्ट में अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल नियुक्त किया:
i.16 जनवरी, 2019 को, राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने वरिष्ठ अधिवक्ता संजय जैन को सुप्रीम कोर्ट के लिए भारत के अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल के रूप में नियुक्त किया। वह 30 जून, 2020 तक इस पद पर रहेंगे। ।
ii.कानून अधिकारी अधिनियम 1987 के तहत नियुक्त अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल, केंद्र सरकार का तीसरा सबसे बड़ा कानून अधिकारी है।
iii.भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वरिष्ठ अधिवक्ता के.एम.नटराज को भारत के सर्वोच्च न्यायालय में अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल (एएसजी) के रूप में नियुक्त किया। उनका कार्यकाल भी 30 जून, 2020 को समाप्त हो जाएगा।
अन्य समाचार:
एडवोकेट माधवी दीवान को सुप्रीम कोर्ट में एएसजी (एडिशनल सॉलिसॉर जनरल) नियुक्त किया गया और सुप्रीम कोर्ट में एएसजी (एडिशनल सॉलिसिटर जनरल) बनने वाली तीसरी महिला बनीं।

विज्ञान  और प्रौद्योगिकी

इंटरनेशनल ऑब्जर्वेटरी ऑफ ह्यूमन राइट्स ने मानव अधिकारों के लिए समर्पित दुनिया का पहला टेलीविजन चैनल लॉन्च किया:
i.16 जनवरी, 2019 को, मानवाधिकारों के लिए समर्पित दुनिया का पहला टेलीविज़न चैनल इंटरनेशनल ऑब्ज़र्वेटरी ऑफ़ ह्यूमन राइट्स द्वारा लंदन में लॉन्च किया गया।
ii.यह एक वेब-आधारित चैनल होगा जो यूरोप, लैटिन अमेरिका और मध्य पूर्व के 20 से अधिक देशों में दर्शकों के लिए मानवाधिकार मुद्दों को लाएगा।
iii.स्वाभाविक रूप से कार्यक्रम अंग्रेजी में प्रसारित किए जाएंगे लेकिन फारसी, तुर्की, अरबी और रूसी सहित अन्य भाषाओं को भविष्य में शामिल किया जाएगा।
iv.इसके अलावा, चैनल के लिए एक मोबाइल ऐप लॉन्च किया जाएगा।
 इंटरनेशनल ऑब्ज़र्वेटरी ऑफ़ ह्यूमन राइट्स:
♦ मुख्यालय: लंदन।
♦ निर्देशक: वैलेरी पीय।

खेल

स्टीफन कॉन्स्टेंटाइन ने भारतीय फुटबॉल टीम के कोच के पद से इस्तीफा दिया:Stephen Constantine steps down as coach of Indian football teai.15 जनवरी, 2019 को, स्टीफन कॉन्स्टेंटाइन ने 2019 एएफसी (एशियन फुटबॉल कन्फेडरेशन) एशियन कप से टीम के बाहर होने के बाद भारतीय फुटबॉल टीम के मुख्य कोच के पद से इस्तीफा दिया।
ii.2005 के बाद भारत के हेड कोच के रूप में यह कॉन्स्टेंटाइन का दूसरा कार्यकाल था।

निधन

वैनगार्ड समूह के संस्थापक जॉन सी बोगल का निधन हुआ:Vanguard Group Founder John C. Bogle passed awayi.16 जनवरी, 2019 को, जॉन सी बोगल, जिन्होंने 1974 में वैनगार्ड ग्रुप ऑफ इन्वेस्टमेंट कंपनीज की स्थापना की और प्रबंधन के तहत संपत्ति में $ 4.9 ट्रिलियन के साथ एक विशाल साम्राज्य का निर्माण किया, का 89 वर्ष की आयु में निधन हो गया।
ii.बोगल एक सबसे अधिक बिकने वाले लेखक भी थे,स्टे द कोर्स: द स्टोरी ऑफ़ वैनगार्ड और इंडेक्स रेवोल्यूशन उनके द्वारा लिखे गए हालिया और अंतिम मास्टर पीस हैं।