Current Affairs Hindi – October 25 2018

हैलो दोस्तों, affairscloud.com में आपका स्वागत है। हम यहां आपके लिए 25 अक्टूबर,2018  के महत्वपूर्ण करंट अफेयर्स  को विभिन्न अख़बारों जैसे द हिंदू, द इकोनॉमिक टाइम्स, पीआईबी, टाइम्स ऑफ इंडिया, इंडिया टुडे, इंडियन एक्सप्रेस, बिजनेस स्टैंडर्ड,जागरण से चुन करके एक अनूठे रूप में पेश करते हैं । हमारे Current Affairs से आपको बैंकिंग, बीमा, यूपीएससी, एसएससी, सीएलएटी, रेलवे और अन्य सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

Click here to Read Current Affairs Today in Hindi – 24 October 2018Current Affairs October 25 2018

राष्ट्रीय समाचार

24 अक्टूबर, 2018 को कैबिनेट स्वीकृतियां:Cabinet Approvals on 24th October, 2018i.प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने रायबरेली (उत्‍तर प्रदेश), गोरखपुर (उत्‍तर प्रदेश), बठिंडा (पंजाब), गुवाहाटी (असम), बिलासपुर (हिमाचल प्रदेश) और देवघर (झारखंड) में स्थित प्रत्‍येक नए एम्‍स के लिए 2,25,000 रुपये (निर्धारित) के मूल वेतनमान में निदेशक के एक पद के सृजन को मंजूरी दे दी है। इसके अलावा, निदेशक को गैर-प्रैक्टिस भत्‍ता (एनपीए) भी मिलेगा, लेकिन कुल राशि 2,37,500 रुपये से ज्‍यादा नहीं होगी। निदेशक संबंधित संस्‍थान का मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी होगा और इसके साथ ही वह संस्‍थान के समग्र प्रशासन का प्रभारी होगा। निदेशक ही संबंधित संस्‍थान के अधिकारियों एवं कर्मचारियों की ड्यूटी तय करेगा।
ii.प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में मंत्रिमंडल ने सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी) मॉडल के जरिए देश के विभिन्‍न स्‍थानों में भारतीय कौशल संस्‍थान स्‍थापित करने की मंजूरी दे दी है। उपलब्‍ध आधारभूत संरचना और मांग के आधार पर ऐसे केन्‍द्र खोले जाने की संभावनाओं का पता लगाया जाएगा। कौशल विकास संस्‍थान, के जरिए उच्‍च गुणवत्‍ता वाले कौशल प्रशिक्षण, अनुसंधानपरक शिक्षा तथा उद्योग जगत से व्‍यावहारिक तरीके से सीधे जुड़ने का अवसर उपलब्‍ध कराते हुए भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था के मुख्‍य क्षेत्रों को वैश्विक प्रतिस्‍पर्धा में टिके रहने में सक्षम बनाएंगे। यह देश भर में आकांक्षी युवाओं को अत्‍यधिक कुशल प्रशिक्षण उपलब्‍ध कराने के साथ ही उद्योग जगत के साथ सीधे जुड़ने का अवसर भी देगा, ताकि वे वैश्विक स्‍तर पर सभी क्षेत्रों में प्रतिस्‍पर्धी बन सकें।
iii.प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बेनामी संपत्ति लेन-देन निषेध अधिनियम (पीबीपीटी), 1988 के तहत निर्णयन प्राधिकरण के गठन और अपीलीय न्‍यायाधिकरण की स्‍थापना को स्‍वीकृति दे दी है। पीबीपीटी अधिनियम के तहत तीन अतिरिक्‍त खंडपीठों के साथ निर्णयन प्राधिकरण का गठन किया जाएगा और अपीलीय न्‍यायाधिकरण की स्‍थापना की जाएगी। निर्णयन प्राधिकरण, इस प्राधिकरण की खंडपीठों और अपीलीय न्‍यायाधिकरण को अधिकारीगण एवं कर्मचारीगण उपलब्‍ध कराये जायेंगे। आयकर विभाग/केन्‍द्रीय प्रत्‍यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) में समान स्‍तर/रैंक वाले वर्तमान पदों का उपयोग अन्‍यत्र करके यह काम पूरा किया जाएगा। निर्णयन प्राधिकरण और अपीलीय न्‍यायाधिकरण दिल्‍ली के राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीटीडी) में ही अवस्‍थित होंगे। निर्णयन प्राधिकरण की खंडपीठ कोलकाता, मुम्‍बई और चेन्‍नई में अवस्थित हो सकती है।
iv.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने सम्बद्ध लक्ष्यों के साथ निरंतर विकास लक्ष्यों (एसडीजी) की निगरानी के लिए राष्ट्रीय संकेतक ढांचे (एनआईएफ) की समय-समय पर समीक्षा और उसमें सुधार के लिए एक उच्च स्तरीय प्राकलन समिति के गठन को मंजूरी दे दी है।
-विकास संबंधी चुनौतियों का सामना करने के लिए वर्तमान राष्ट्रीयों, कार्यक्रमों और रणनीतिक कार्य योजनाओं में मुख्य निरंतर विकास लक्ष्यों के उपाय करना।
-एनआईएफ के सांख्यिकीय संकेतक राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर एसडीजी की निगरानी की रीढ़ होंगे और विभिन्न एसडीजी के अंतर्गत लक्ष्यों को हासिल करने की नीतियों के परिणामों का वैज्ञानिकों तरीके से मूल्यांकन करेंगे।
-सांख्यिकी संकेतक के आधार पर, एमओएसपीआई एसडीजी के कार्यान्वयन पर राष्ट्रीय रिपोर्ट लाएगी। यह रिपोर्ट प्रगति के आकलन को सरल बनाने, चुनौतियों की पहचान करने और राष्ट्रीय स्तर पर आगे कार्य करने के लिए सिफारिशें देगी।
-आंकड़ा स्रोत मंत्रालय/विभाग आवश्यक अंतरालों पर इन संकेतकों के बारे में और एसडीजी के राष्ट्रीय और उप-राष्ट्रीय प्रतिवेदन के लिए एमओएसपीआई को नियमित और अलग-अलग जानकारी प्रदान करेगा।
-निकट से और प्रभावी निगरानी के लिए आत्याधुनिक उपकरणों का इस्तेमाल किया जाएगा।
v.प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में आर्थिक मामलों पर कैबिनेट समिति (सीसीईए) ने विशेष मत्‍स्‍य पालन एवं जलीय कृषि (एक्‍वाकल्‍चर) अवसंरचना विकास कोष (एफआईडीएफ) बनाने को अपनी मंजूरी दे दी है। इस मंजूरी के तहत कोष में अनुमानित राशि 7,522 करोड़ रुपये होगी जिनमें से 5266.40 करोड़ रुपये प्रमुख ऋणदाता निकायों (एनएलई) द्वारा जुटाये जायेंगे, जबकि इसमें लाभार्थियों का योगदान 1316.6 करोड़ रुपये का होगा और भारत सरकार से बजटीय सहायता के रूप में 939.48 करोड़ रुपये प्राप्‍त होंगे। ‘नीली क्रांति’ के तहत वर्ष 2020 तक के लिए निर्धारित 15 मिलियन टन का लक्ष्‍य प्राप्‍त करने और 8-9 प्रतिशत की सतत वृद्धि दर हासिल करने के लिए मछली उत्‍पादन बढ़ाया जायेगा। एफआईडीएफ के तहत ऋण 2018-19 से लेकर 2022-23 तक के पांच वर्षों की अवधि के दौरान दिये जायेंगे और अधिकतम अदायगी 12 वर्षों की अवधि में होगी जिसमें मूलधन के भुगतान पर दो वर्षों का ऋण स्‍थगन भी शामिल है।
vi.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति ने 2018-19 से 2019-20 के लिए आशा सहायिकाओं का निरीक्षण शुल्क अक्टूबर, 2018 से (नवंबर, 2018 से भुगतान) 250 रुपये प्रति दौरे से बढ़ाकर 300 रुपये प्रति दौरा करने की मंजूरी दे दी है। आशा सहायिकाएं प्रति माह करीब 20 निरीक्षण दौरे कर सकेंगी। 1000 रुपये की प्रस्तावित वृद्धि से आशा सहायिकाओं को 5000 रुपये प्रति माह की बजाय 6000 रुपये प्रति माह मिलेंगे। इस प्रस्ताव से 46.95 करोड़ रुपये का अतिरिक्त खर्च होने का अनुमान है, जिसमें से 15.65 करोड़ रुपये 2018-19 के दौरान (6 महीने के लिए) और 2019-20 के दौरान केन्द्रीय हिस्से के रूप में 31.30 करोड़ रुपये शामिल हैं।
vii.प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों की समिति ने उत्‍तर प्रदेश के बहराइच और खलीलाबादके बीच नई रेल लाइन को मंजूरी दे दी है। यह रेल लाइन भींगा, श्रावस्‍ती, बलरामपुर, उतरौला, डुमरियागंज, मेहदावलऔर बंसी से होकर गुजरेगी।इस बड़ी लाइन की कुल लम्‍बाई 240.26 किलोमीटर होगी। रेल परियोजना की अनुमानित लागत 4939.78 करोड़ रुपये है। उत्‍तर-पूर्वी रेलवे का हिस्‍सा बनने जा रही यह रेल लाइन 2024-25 तक बनकर तैयार हो जाएगी। नीति आयोग द्वारा चिन्हित किए गए 115 आकांक्षी जिलों में से 4 इस परियोजना क्षेत्र में हैं। इन जिलों में बहराइच, बलरामपुर, श्रावस्‍ती और सिद्धार्थ नगर शामिल है।

24 अक्टूबर, 2018 को दुसरे देशों के साथ कैबिनेट स्वीकृतियां:Cabinet Approvals with Foreign Countries on 24th October, 2018i.24 अक्टूबर, 2018 को, प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में मंत्रिमंडल ने भारत और मलावी के बीच प्रत्‍यर्पण संधि किए जाने और उसके अनुमोदन को मंजूरी दे दी है। इस संधि के जरिए भारत और मलावी के बीच आतंकवादियों, आर्थिक भगौड़ों और अन्‍य अपराधियों के प्रत्‍यर्पण के लिए एक कानूनी ढांचा तैयार किया जा सकेगा।
ii.प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में मंत्रिमंडल ने ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के बीच सामाजिक और श्रम क्षेत्र में सहयोग के करार को पूर्व प्रभाव से मंजूरी दे दी है। इन देशों के बीच 3 अगस्‍त, 2018 को ब्रिक्‍स देशों के श्रम और रोजगार मंत्रियों की बैठक के दौरान एक समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए गए थे। समझौता ज्ञापन के जरिए भारत सहित सभी प्रतिभागी देशों ने श्रम कानून बनाने और उन्‍हें लागू करने तथा असुरक्षित श्रमिक वर्ग का खास ध्‍यान रखते हुए सभी श्रमिकों के अधिकारों का संरक्षण करने, रोजगार और श्रम बाजार नीतियों, रोजगारोन्‍मुख शिक्षा, कौशल विकास और प्रशिक्षण तथा सामाजिक सुरक्षा के क्षेत्र में आपसी सहयोग पर सहमति जताई है।
iii.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने भारत और सिंगापुर के बीच फिन टैक पर संयुक्त कार्य समूह (जेडब्ल्यूजी) गठित करने पर जून, 2018 में हस्ताक्षर किए गए समझौता ज्ञापन को पूर्व प्रभाव से अपनी मंजूरी दे दी है। भारत और सिंगापुर के बीच फिन टैक पर संयुक्त कार्य समूह का गठन दोनों देशों के बीच फिन टैक के क्षेत्र में सहयोग के लिए किया गया है। भारत और सिंगापुर के बीच सहयोग से दोनों देशों को एप्लीकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफेसेज (एपीआई), रेग्यूलेटरी सैंडबॉक्स, भुगतान में सुरक्षा और डिजिटल नगद प्रवाह, इलैक्ट्रॉनिक हस्तांतर के लिए रुपे-नेटवर्क (एनईटीएस) के समेकन, यूपीआई फास्ट पेमेंट लिंक, आसियान क्षेत्र में आधार स्टैक और ई-केवाईसी तथा नियमों में सहयोग, वित्तीय बाजारों और बीमा क्षेत्र तथा सैंडबॉक्स मॉडलों के लिए समाधानों के विकास के क्षेत्र में उत्कृष्टता हासिल करने में लाभ मिलेगा।
iv.24 अक्टूबर, 2018 को, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) और सर्टिफाइड प्रोफेशनल एकाउंटेंट्स अफगानिस्तान (सीपीए अफगानिस्तान) के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर को मंजूरी दे दी है। इससे ‘अफगानिस्तान एकाउंटेंसी बोर्ड (एएबी)’ के क्षमता निर्माण, आईटी क्षमता को मजबूत बनाने और ज्ञान के हस्तांतरण में तेजी लाकर अफगानिस्तान में गुणवत्ता सुनिश्चित करने; छात्रों और सदस्यों के आदान-प्रदान कार्यक्रमों; सेमिनार, सम्मेलन और दोनों पक्षों के आपसी फायदे के लिए संयुक्त गतिविधियां कराने के क्षेत्रों में आपसी सहयोग स्थापित हो सकेगा।
v.प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में मंत्रिमंडल ने ब्रिक्‍स देशों के बीच पर्यावरण के क्षेत्र में सहयोग के लिए समझौता ज्ञापन को पूर्व प्रभाव से मंजूरी दे दी है। इस समझौता ज्ञापन पर जुलाई 2018 में दक्षिण अफ्रीका के जोहन्‍सबर्ग में आयोजित 10वें ब्रिक्‍स शिखर सम्‍मेलन के दौरान हस्‍ताक्षर किए गए थे। समझौता ज्ञापन के जरिए निम्‍नलिखित क्षेत्रों में सहयोग पर जोर दिया गया है: वायु की गुणवत्‍ता; जल; जैव विविधता; जलवायु परिवर्तन; कचरा प्रबंधन; सतत विकास और सतत विकास लक्ष्‍यों की प्राप्ति के लिए 2030 का एजेंडा लागू करने तथा प्रतिभागियों द्वारा आम सहमति वाले अन्‍य क्षेत्रों में सहयोग।
vi.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने ताइपे में भारत-ताइपे एसोसिएशन (आईटीए) और भारत में ताइपे आर्थिक और सांस्कृतिक केन्द्र (टीईसीसी) के बीच द्विपक्षीय निवेश समझौते (बीआईए) पर हस्ताक्षर को मंजूरी दे दी है। समझौते से दोनों पक्षों के बीच निवेश का प्रवाह बढ़ने की उम्मीद है। समझौते से आईटीए और टीईसीसी के बीच परस्पर आधार पर निवेश को उपयुक्त संरक्षण प्रदान किया जा सकेगा। इससे भारत को तरजीही विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (एफडीआई) स्थल के रूप में पेश करने में मदद मिलेगी।

गोवा में उपराष्ट्रपति द्वारा 3 दिवसीय सागर व्याख्या 2.0 का उद्घाटन किया गया:3-day SAGAR Discourse 2.0 inaugurated by Vice President in Goai.24 अक्टूबर, 2018 को उपराष्ट्रपति एम.वेंकैया नायडू ने पणजी, गोवा में 3 दिवसीय सागर व्याख्या 2 सम्मेलन का उद्घाटन किया।
ii.समुद्री सम्मेलन सागर व्याख्या 2.0, फोरम फॉर इंटीग्रेटेड नेशनल सिक्योरिटी द्वारा आयोजित किया गया है।
iii.इसका उद्देश्य अंतरिक्ष और अनुसंधान के साथ तकनीकी, आर्थिक और विकासात्मक अवसरों को उजागर करना है।
iv.सम्मेलन में लगभग 15 देशों के वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं ने भाग लिया।
गोवा:
♦ मुख्यमंत्री: मनोहर पर्रिकर
♦ गवर्नर: श्रीमती मृदुला सिन्हा

यूनेस्को एमजीआईईपी, आंध्र प्रदेश सरकार टेक 2018 आयोजित करेंगे:UNESCO MGIEP, Government of Andhra Pradesh to organize TECH 2018i.यूनेस्को महात्मा गांधी इंस्टीट्यूट फॉर पीस एंड सस्टेनेबल डेवलपमेंट (एमजीआईईपी) ने आंध्र प्रदेश सरकार के सहयोग से 15-17 नवंबर 2018 को नोवेलटेल, विजाग सिटी, आंध्र प्रदेश में एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन टेक 2018 आयोजित करने की घोषणा की है।
ii.इस सम्मेलन का लक्ष्य शांतिपूर्ण और टिकाऊ समाजों को विकसित करने के लिए संचरणशील शिक्षाविदों से परिवर्तनीय शिक्षाविदों में बदलाव लाने में गेम और डिजिटल सीखने की भूमिका का प्रदर्शन करना है।
iii.इसका उद्देश्य शिक्षा, वरिष्ठ नीति निर्माताओं, शिक्षा प्रौद्योगिकी विशेषज्ञों, शिक्षकों, पाठ्यक्रम डिजाइनरों, शोधकर्ताओं, शिक्षार्थियों, छात्रों, खेल डिजाइनरों और एड-टेक प्रदर्शकों के मंत्रियों के लिए समग्र मंच के रूप में कार्य करना है।
iv.टेक 2017 की सफलता के बाद, यूनेस्को एमजीआईईपी अगले 4 वर्षों तक सालाना टेक आयोजित करेगा।
यूनेस्को एमजीआईईपी के बारे में:
♦ निदेशक – डॉ अनंत के.दुराईप्पा
♦ स्थान – नई दिल्ली

टीपीसीआई के साथ व्यापार वार्ता के लिए दिल्ली में उच्च स्तरीय वियतनामी प्रतिनिधिमंडल:
i.24 अक्टूबर 2018 को, वियतनाम के कृषि और ग्रामीण विकास मंत्रालय के एक उच्च स्तरीय वियतनामी प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली में भारतीय व्यापार संवर्धन परिषद (टीपीसीआई) प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की।
ii.वियतनामी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व श्री ट्रान थान नाम, कृषि और ग्रामीण विकास मंत्रालय, वियतनाम के उपमंत्री ने किया गया। इसमें कृषि क्षेत्र के वरिष्ठ सरकारी अधिकारी और व्यवसायी शामिल थे। भारत के लिए वियतनामी राजदूत श्री फाम संह चौ ने भी इसमें भाग लिया।
iii.टीपीसीआई प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व टीपीसीआई अध्यक्ष मोहित सिंगला ने किया था।
iv.व्यापार के अवसरों और प्रचार के बीच द्विपक्षीय व्यापार और भविष्य के सहयोग को बढ़ाने पर चर्चाएं आयोजित की गईं।
भारतीय व्यापार संवर्धन परिषद (टीपीसीआई) के बारे में:
♦ अध्यक्ष – मोहित सिंगला
♦ मंत्रालय – वाणिज्य मंत्रालय
♦ उद्देश्य – कृषि और भोजन, शिक्षा, आईटी और मनोरंजन और रसायन, प्लास्टिक और दूरसंचार क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करने के साथ व्यापार को बढ़ावा देना और सुविधा देना

लौह और इस्पात उद्योग को बढ़ावा देने के लिए भारत ने 5 अरब डॉलर के समझौते पर हस्ताक्षर किए:India signs $5 billion-worth of MoUs to give impetus to iron and steel industryi.23 अक्टूबर 2018 को, लोहे और इस्पात उद्योग के लिए पूंजीगत वस्तुओं के निर्माण को बढ़ाने के लिए 20 प्रौद्योगिकी प्रदाताओं, पूंजीगत वस्तुओं के निर्माताओं और इस्पात उत्पादकों के बीच $ 5 अरब डॉलर के 38 समझौते पर हस्ताक्षर किए गए।
ii.भुवनेश्‍वर में आयोजित सम्‍मेलन में इन सहमति पत्रों पर हस्‍ताक्षर किए गए। इस सम्‍मेलन का आयोजन भारत सरकार के इस्‍पात मंत्रालय ने भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) और मेकॉन के सहयोग से किया।
iii.समझौतो का आदान-प्रदान करने वाली 20 कंपनियों में से लगभग 12 विदेशी कंपनियां हैं।
iv.समझौतो पर हस्ताक्षर करने वाली कुछ कंपनियां थीं: चीन स्थित एसीआरई, इटली स्थित सीएसएम, लक्समबर्ग मुख्यालय वाली पॉल वुर्थ, डैनियल कोरस, सेल, जेएसडब्ल्यू, भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड, मेकॉन लिमिटेड, हेवी इंजीनियरिंग कॉर्पोरेशन लिमिटेड।
v.कोक ओवन, समूह, विस्फोट भट्टियां, इस्पात बनाने, रोलिंग मिलों, ऊर्जा में अपशिष्ट और लौह अयस्क कोल्हू और लाभप्रदता के लिए समझौतो पर हस्ताक्षर किए गए थे।
vi.भारत का लक्ष्य 2030-31 तक वर्तमान कच्चे स्टील की क्षमता को 300 मिलियन टन तक बढ़ाने का लक्ष्य है जो वर्तमान में 134 मिलियन टन से है।

एनसीईआरटी प्रोफेसर के नेतृत्व में विशेषज्ञों का समूह स्कूलबैग का वजन घटाने पर नीति तैयार करेगा:
i.22 अक्टूबर, 2018 को, केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने स्कूलबैग के वजन को कम करने के लिए एक मसौदा नीति तैयार करने के लिए एक विशेषज्ञ समूह का गठन किया है।
ii.इसकी अध्यक्षता नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (एनसीईआरटी) की प्रोफेसर रंजना अरोड़ा द्वारा की जाएगी।
iii.एमएचआरडी ने 2006 के बच्चों के स्कूल बैग (वजन पर सीमा) विधेयक के आधार पर स्कूलबैग पर एक नीति तैयार करने के लिए 5 अक्टूबर को एक आदेश जारी किया।
iv.यह मद्रास उच्च न्यायालय न्यायाधीश एन.किरुबाकरन के फैसले के बाद गठित किया गया जिसने 29 मई को केंद्र को कानून लागू करने के लिए कहा था।
v.महाराष्ट्र और तेलंगाना में पहले से ही स्कूल बैग के वजन को बताते हुए एक नीति है जो छात्रों के शरीर के वजन का 10% से अधिक नहीं है।
मानव संसाधन और विकास मंत्रालय (एमएचआरडी):
♦ केंद्रीय मंत्री: श्रीमान प्रकाश जावेडकर।
♦ राज्य मंत्री: श्री उपेंद्र कुशवाह, डॉ सत्य पाल सिंह।

अंतरराष्ट्रीय समाचार

एच -1 बी वीजा के लिए विदेशी श्रम प्रमाणन प्राप्त करने के लिए शीर्ष 10 फर्मों में टीसीएस: यूएसTCS among top 10 firms to get foreign labour certification for H-1B visas: USi.24 अक्टूबर, 2018 को टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज 30 सितंबर को खत्म होने वाले वित्तीय वर्ष 2018 के लिए एच -1 बी वीजा के लिए विदेशी श्रम प्रमाणन प्राप्त करने के लिए शीर्ष 10 फर्मों में से एकमात्र भारतीय कंपनी है।
ii.श्रम के विदेश श्रम प्रमाणन कार्यालय द्वारा इसकी घोषणा की गई थी।
iii.श्रम कार्यालय के विदेशी श्रम प्रमाणन विभाग ने एच -1 बी के लिए 654,360 आवेदन संसाधित किए जिनमें से 599,782 प्रमाणित किए गए थे, 8,627 अस्वीकार कर दिए गए थे और 45,951 वापस ले लिए गए थे।
iv.प्रमाणित पदों में से, सॉफ़्टवेयर डेवलपर्स और एप्लिकेशन कंप्यूटर सिस्टम विश्लेषकों, कंप्यूटर व्यवसाय, सॉफ्टवेयर डेवलपर, सिस्टम सॉफ़्टवेयर, एकाउंटेंट और ऑडिटर और कंप्यूटर प्रोग्रामर शामिल हैं।
v.कैलिफ़ोर्निया ने अधिकतम एच -1 बी श्रम प्रमाणन प्राप्त करने के लिए राज्यों की सूची में शीर्ष स्थान हासिल किया, इसके बाद टेक्सास, न्यूयॉर्क, न्यू जर्सी, इलिनोइस, वाशिंगटन और पेंसिल्वेनिया है।
vi.कंपनियों में, लंदन के मुख्यालय अर्नेस्ट एंड यंग, ​​एक बहुराष्ट्रीय पेशेवर सेवा फर्म, प्रमाणन प्राप्त करने के लिए शीर्ष नियोक्ता के रूप में उभरा है।
vii.यह सभी विदेशी श्रम प्रमाणीकरण के 12.4 प्रतिशत के लिए जिम्मेदार है।
vii.इसके बाद डेलोइट परामर्श, कॉग्निजेंट टेक्नोलॉजी कॉर्प, एचसीएल, के फोर्स इंक, ऐप्पल है।
अमेरिका:
♦ राजधानी: वाशिंगटन डी सी
♦ मुद्रा: यूएस डॉलर
टीसीएस:
♦ मुख्यालय: मुंबई।
♦ स्थापित: 1968।
♦ अध्यक्ष: नटराजन चंद्रशेखरन।

भारत, ईरान, अफगानिस्तान ने चाबहार बंदरगाह परियोजना पर पहली त्रिपक्षीय बैठक आयोजित की:India, Iran, Afghanistan hold first trilateral on Chabahar port projecti.23 अक्टूबर, 2018 को, भारत, अफगानिस्तान और ईरान ने ईरान के तेहरान में चाबहार बंदरगाह परियोजना पर अपनी पहली त्रिपक्षीय बैठक आयोजित की।
ii.बैठक में चाबहार बंदरगाह के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय पारगमन और परिवहन के लिए त्रिपक्षीय समझौते के पूर्ण संचालन पर विचार-विमर्श किया गया।
iii.त्रिपक्षीय बैठक में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व टी.एस.तिरुमुर्ती, सचिव (आर्थिक संबंध) ने किया था।
iv.भारत में 2019 की पहली छमाही में समन्वय परिषद की अगली बैठक आयोजित करने का निर्णय लिया गया।
पृष्ठभूमि:
मई 2016 में, भारत, ईरान और अफगानिस्तान ने चाबहार बंदरगाह का उपयोग क्षेत्रीय केंद्रों में से एक के रूप में तीन देशों के बीच एक पारगमन और परिवहन गलियारे की स्थापना के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।
ईरान:
♦ राजधानी: तेहरान।
♦ मुद्रा: ईरानी रियल।
अफगानिस्तान:
♦ राजधानी: काबुल।
♦ मुद्रा: अफगान अफगानी।

आर्थिक सहयोग पर भारत चेक गणराज्य संयुक्त आयोग का 11 वां सत्र प्राग में आयोजित हुआ:
i.22 और 23 अक्टूबर 2018 को, आर्थिक सहयोग पर भारत चेक गणराज्य संयुक्त आयोग का 11 वां सत्र प्राग, चेक गणराज्य में आयोजित किया गया था।
ii.भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व केन्द्रीय वाणिज्य एवं उद्योग तथा उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण राज्यमंत्री व नागौर सांसद सीआर चौधरी ने किया था।
iii.चेक गणराज्य के प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व चेक गणराज्य के उद्योग और व्यापार मंत्री मिस मार्टा नोवाकोवा ने किया था।
iv.सी आर चौधरी ने श्री मार्टिन त्लापा, उप मंत्री, विदेश मामलों, चेक गणराज्य से मुलाकात की। उन्होंने सीधी उड़ान, दीर्घकालिक अध्ययन वीज़ा, आपसी व्यापार और निवेश संबंधों को सुदृढ़ करने जैसे मुद्दों पर चर्चा की।
v.भारत-चेक गणराज्य के 11 वें सत्र की तकनीकी बैठक भी प्राग में आयोजित की गई थी।
vi.सी आर चौधरी और चेक गणराज्य के व्यापार और उद्योग मंत्री मार्टा नोवाकोवा द्वारा एक प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर किए गए।
vii.बेंगलुरु में चेक गणराज्य के नए मानद वाणिज्य दूतावास की घोषणा की गई। इसके अलावा, चेन्नई में चेक गणराज्य का मानद वाणिज्य दूतावास स्थापित किया जा रहा है।
viii.चेक गणराज्य बेंगलुरू के पास चेक इंडस्ट्रियल क्लस्टर (सीआईसी) नामक एक परियोजना विकसित कर रहा है, जो चेक कंपनियों के लिए एक केंद्र के रूप में काम करेगा जो भारत में बसने की इच्छा रखते हैं।

लक्षद्वीप में कोरल रीफ्स की स्थिति और संरक्षण पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन (STAPCOR – 2018) आयोजित किया गया:
i.22 से 24 अक्टूबर 2018 को, कोरल रीफ्स (STAPCOR – 2018) की स्थिति और संरक्षण पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन लक्षद्वीप के बंगाराम कोरल द्वीप पर आयोजित किया गया था।
ii.सम्मेलन का उद्घाटन केन्द्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने किया था।
iii.सम्मेलन के लिए विषय ‘जीवन के लिए रीफ’। भारत और अन्य देशों के लगभग 150 प्रतिनिधियों ने इसमें भाग लिया।
iv.जूलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया, आईयूसीएन, ईएनवीआईएस के तकनीकी सहयोग से पर्यावरण और वन विभाग, केंद्र शासित लक्षद्वीप प्रशासन ने इस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया।
v.लक्षद्वीप के के प्रशासक फारूक खान ने घोषणा की कि एक अंतरराष्ट्रीय एटोल रिसर्च सेंटर, जल्द ही लक्षद्वीप में स्थापित किया जाएगा, कोरल पर वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए विश्व स्तर के बुनियादी ढांचे के साथ।
लक्षद्वीप के बारे में:
♦ राजधानी – कवारत्ती
♦ प्रशासक – फारूक खान

बैंकिंग और वित्त

तनावग्रस्त परिसंपत्तियों को हल करने के लिए स्थापित छह सदस्यीय ओवरसीइंग कमेटी (ओसी):
i.तनावग्रस्त परिसंपत्तियों के समाधान के लिए अंतर-लेनदेन समझौते (आईसीए) के तहत बनाई गई ओवरसीइंग कमेटी (ओसी) में 6 सदस्य होंगे।
ii.ओसी के सदस्यों में शामिल हैं: जंकी बल्लभ (पूर्व अध्यक्ष, भारतीय स्टेट बैंक), एमबीएन राव (पूर्व अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, केनरा बैंक), एम दमोदरन (पूर्व अध्यक्ष, सेबी) और एचआर खान (पूर्व उप राज्यपाल, आरबीआई)।
iii.ओसी में बिजली क्षेत्र से एक वरिष्ठ टाटा समूह के कार्यकारी और बॉम्बे हाईकोर्ट के न्यायाधीश भी शामिल होंगे।
iv.ओसी भारतीय बैंक संघ (आईबीए) के प्रशासन के तहत स्थापित है। यह लीड उधारदाताओं द्वारा जमा की गई तनावग्रस्त परिसंपत्तियों के लिए संकल्प योजनाओं को मंजूरी देगी।
v.सुनील मेहता (पंजाब नेशनल बैंक के गैर-कार्यकारी अध्यक्ष) पुनर्गठन की पुनर्वितरण पर समिति ने सभी कॉर्पोरेट उधारकर्ताओं के लिए ओसी की सिफारिश की जिन्होंने कंसोर्टियम ऋण / एकाधिक बैंकिंग व्यवस्था के तहत 50 करोड़ रुपये या उससे अधिक का ऋण लिया है।

व्यापार और अर्थव्यवस्था

‘एआई इन हेल्थकेयर फॉर रेडियोलॉजी, अल्ट्रासाउंड एंड ओन्कोलॉजी’: फिलिप्स ने स्वास्थ्य देखभाल में एआई के लिए पहला स्टार्ट-अप कार्यक्रम शुरू किया
i.23 अक्टूबर 2018 को, फिलिप्स ने अपने पहले वैश्विक स्टार्ट-अप सहयोग कार्यक्रम ‘एआई इन हेल्थकेयर फॉर रेडियोलॉजी, अल्ट्रासाउंड एंड ओन्कोलॉजी’ के लिए 19 स्टार्ट-अप कंपनियों का चयन किया।
ii.कार्यक्रम 12 सप्ताह तक आयोजित किया जाएगा और यह स्वास्थ्य देखभाल में कृत्रिम बुद्धि (एआई) के एप्लीकेशन पर ध्यान केंद्रित करेगा।
iii.यह 19 एआई स्टार्ट-अप कंपनियों को फिलिप्स की स्वास्थ्य प्रौद्योगिकी विशेषज्ञता और ज्ञान भागीदारों के पारिस्थितिक तंत्र तक पहुंच प्रदान करेगा।
iv.कार्यक्रम एआई-आधारित नैदानिक ​​निर्णय समर्थन उपकरण जैसे छवि व्याख्या, विश्लेषण और एकीकरण और वर्कफ़्लो उपकरण जैसे रेडियोलॉजी, अल्ट्रासाउंड और ऑन्कोलॉजी के लिए बुद्धिमान उपचार योजनाओं के अनुप्रयोग पर ध्यान केंद्रित करेगा।
v.यह कार्यक्रम बेंगलुरू, कैम्ब्रिज (यूएस), आइंडहोवेन (नीदरलैंड्स) और शंघाई (चीन) में फिलिप्स के नवाचार केंद्रों में आयोजित किया जाएगा।
फिलिप्स इनोवेशन कैंपस, भारत के बारे में:
♦ सीईओ – श्रीनिवास प्रसाद
♦ स्थान -बेंगलुरू

पुरस्कार और सम्मान

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को 2018 सियोल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा:Prime Minister Narendra Modi to be awarded the 2018 Seoul Peace Prizei.सियोल शांति पुरस्कार समिति ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को 2018 सियोल शांति पुरस्कार प्रदान करने का निर्णय लिया है।
ii.प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को अंतरराष्ट्रीय सहयोग, वैश्विक आर्थिक विकास, भारत के लोगों के मानव विकास, विश्व की सबसे तेजी से बढ़ती बड़ी अर्थव्यवस्था में आर्थिक विकास और भ्रष्टाचार विरोधी और सामाजिक एकीकरण प्रयासों के माध्यम से लोकतंत्र के विकास में उनके प्रयासों को मान्यता देने के लिए इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।
iii.उन्हें दुनिया भर से 1300 से अधिक नामांकित व्यक्तियों में से चुना गया था। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी इस पुरस्कार के 14 वें प्राप्तकर्ता हैं।
iv.उन्होंने पुरस्कार स्वीकार कर लिया है। पुरस्कार पारस्परिक रूप से सुविधाजनक समय पर सियोल शांति पुरस्कार फाउंडेशन द्वारा प्रस्तुत किया जाएगा।
सियोल शांति पुरस्कार के बारे में:
♦ स्थापित – 1990
♦ उद्देश्य – सियोल, दक्षिण कोरिया में आयोजित 24 वें ओलंपिक खेलों की सफलता का जश्न मनाने के लिए।
♦ सम्मानित – उन व्यक्तियों के लिए द्विपक्षीय रूप से जिन्होंने मानव जाति के सद्भाव में योगदान दिया है, राष्ट्रों और विश्व शांति के बीच सुलह किया है।

इन्वेस्ट इंडिया ने सतत विकास में निवेश को बढ़ावा देने में उत्कृष्टता के लिए संयुक्त राष्ट्र पुरस्कार जीता:Invest India wins UN award for excellence in promoting investments in sustainable developmenti.22 अक्टूबर 2018 को, भारत के निवेश संवर्धन निकाय इन्वेस्ट इंडिया ने सतत विकास में निवेश को बढ़ावा देने में उत्कृष्टता के लिए संयुक्त राष्ट्र पुरस्कार जीता।
ii.यह पुरस्कार आर्मेनियाई राष्ट्रपति आर्मेन सर्किसियन ने जेनेवा के विश्व निवेश फोरम में इन्वेस्ट इंडिया के सीईओ दीपक बागला को प्रस्तुत किया था।
iii.कार्यक्रम में 6,000 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया था। यह व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन द्वारा आयोजित किया गया था।
iv.पुरस्कार के अन्य विजेता थे: बहरीन आर्थिक विकास बोर्ड और लेसोथो राष्ट्रीय विकास कार्पोरेशन।
इन्वेस्ट इंडिया के बारे में:
♦ सीईओ – दीपक बागला
♦ स्थान – नई दिल्ली
♦ औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग, वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के तहत एक गैर-लाभकारी उद्यम

नियुक्तियां और इस्तीफे

आलोक कुमार वर्मा और राकेश अस्थाना को सीबीआई के निदेशक और विशेष निदेशक के पद से हटा दिया गया, एम नागेश्वर राव सीबीआई के अंतरिम निदेशक के रूप में नियुक्त किए गए:
i.24 अक्टूबर 2018 को, सीबीआई के निदेशक आलोक कुमार वर्मा (केंद्रीय जांच ब्यूरो) और राकेश अस्थाना, सीबीआई के विशेष निदेशक को उनकी भूमिका से वंचित कर दिया गया।
ii.सीबीआई के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं द्वारा एक दूसरे के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद भारत सरकार ने आलोक कुमार वर्मा और राकेश अस्थाना को उनके पदों से हटा दिया है। केंद्रीय निगरानी सतर्कता आयोग (सीवीसी) जांच दोनों पर लंबित है।
iii.जनवरी 2017 में आलोक कुमार वर्मा को सीबीआई के 27 वें निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था। वह 1979 बैच के भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) अधिकारी हैं।
iv.राकेश अस्थाना गुजरात कैडर के 1984 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। अक्टूबर 2017 में उन्हें सीबीआई का विशेष निदेशक नियुक्त किया गया था।
v.मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने तत्काल प्रभाव से सीबीई के अंतरिम निदेशक के रूप में एम नागेश्वर राव की नियुक्ति को मंजूरी दे दी है।
vi.एम नागेश्वर राव एक भारतीय पुलिस सेवा अधिकारी (आईपीएस) हैं। वह वर्तमान में सीबीआई के संयुक्त निदेशक के रूप में काम कर रहे हैं।
सीबीआई (केंद्रीय जांच ब्यूरो) के बारे में:
♦ प्रकार – भारत की प्रमुख जांच एजेंसी
♦ मुख्यालय – नई दिल्ली

विज्ञान व प्रौद्योगिकी

‘मैं नही हम’ पोर्टल और ऐप लॉन्च हुआ:“Main Nahin Hum” Portal and App launchedi.24 अक्टूबर 2018 को, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘मैं नही हम’ पोर्टल और ऐप को लॉन्च किया।
ii.‘सेल्‍फ फॉर सोसायटी’ की थीम पर काम करने वाला यह पोर्टल आईटी क्षेत्र से जुड़े कारोबारियों और संगठनों को सामाजिक सरोकारों और समाज सेवा से जुड़े उनके प्रयासों को एक साथ लाने का मंच प्रदान करेगा।
iii.यह प्रौद्योगिकी के माध्यम से समाज के कमजोर वर्गों की सेवा के प्रति सहयोग को बढ़ाएगा।
iv.लॉन्च के बाद, प्रधान मंत्री ने एक टाउनहाल शैली प्रारूप में वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से भारत भर में लगभग 100 स्थानों से आईटी और इलेक्ट्रॉनिक विनिर्माण पेशेवरों से बातचीत की।

‘खुशी’: एआई संचालित ग्राहक सेवा ऐप पीएनबी मेटलाइफ द्वारा लॉन्च की गई"Khushi": AI powered customer service app launched by PNB Metlife i.24 अक्टूबर, 2018 को, लाइफ इंश्योरेंस पीएनबी मेटलाइफ ने ‘खुशी’ नामक एआई संचालित ग्राहक सेवा ऐप लॉन्च किया।
ii.इसे सिंगापुर में पीएनबी मेटलाइफ के नवाचार केंद्र-लूमर लैब द्वारा डिजाइन किया गया है।
iii.यह बीमा संबंधित जानकारी के लिए किसी भी समय, कहीं भी वन-स्टॉप शॉप बनने के लिए डिज़ाइन किया गया है।
iv.यह शब्द और भाषण के माध्यम से ग्राहकों के साथ बातचीत करेगा।
v.कुल मिलाकर यह एक ग्राहक सहायक के रूप में काम करेगा और न्यूनतम बैंडविड्थ का उपयोग करेगा।
पीएनबी मेटलाइफ:
♦ एमडी और सीईओ: आशीष श्रीवास्तव।
♦ मुख्यालय: मुंबई।

निधन

रंगमंच अनुभवी ना.मुथुस्वामी की 82 वर्ष की उम्र में मौत:
i.24 अक्टूबर 2018 को, लोकप्रिय रंगमंच अनुभवी ना.मुथुस्वामी का चेन्नई, तमिलनाडु में निधन हो गया।
ii.वह 82 वर्ष के थे। उन्होंने 1977 में अवंत-गार्डे थिएटर समूह ‘कुथू-पी-पतरराई’ की स्थापना की।
iii.उन्हें 1999 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार और 2012 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था।