Current Affairs PDF Sales

Current Affairs Hindi – May 1 2019

हैलो दोस्तों, affairscloud.com में आपका स्वागत है। हम यहां आपके लिए 1 मई ,2019 के महत्वपूर्ण करंट अफेयर्स को विभिन्न अख़बारों जैसे द हिंदू, द इकोनॉमिक टाइम्स, पीआईबी, टाइम्स ऑफ इंडिया, इंडिया टुडे, इंडियन एक्सप्रेस, बिजनेस स्टैंडर्ड,जागरण से चुन करके एक अनूठे रूप में पेश करते हैं। हमारे Current Affairs से आपको बैंकिंग, बीमा, यूपीएससी, एसएससी, सीएलएटी, रेलवे और अन्य सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

Click here to Read Current Affairs Today in Hindi – 30 April 2019

INDIAN AFFAIRS

पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम को लागू करने के लिए एक समिति का गठन किया:
i.पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (एमओंईएफसीसी) ने राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम (एनसीएपी) को लागू करने के लिए एक समिति का गठन किया है। इसका उद्देश्य कम से कम 102 शहरों में 2024 तक पीएम (पार्टिकुलेट मैटर) 2.5 और पीएम 10 संकेंद्रण को 20% से 30% तक कम करना है। इस समिति की अध्यक्षता केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय के सचिव करेंगे। समिति का मुख्यालय नई दिल्ली में होगा।
ii.समिति के अन्य सदस्य विद्युत मंत्रालय के संयुक्त सचिव (थर्मल), महानिदेशक, ऊर्जा संसाधन संस्थान (टीईआरई) और प्रोफेसर सचिदानंद त्रिपाठी, आईआईटी कानपुर होंगे।
iii.केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीबीसीबी) द्वारा 23 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 102 शहरों की पहचान की जाएगी। चयन मानदंड 2011 और 2015 के बीच उनके महत्वाकांक्षी वायु गुणवत्ता डेटा पर आधारित होगा। एनसीएपी को प्रथम वर्ष के रूप में 2019 के साथ पंचवर्षीय कार्य योजना के रूप में बनाया गया है। हर पांच साल में एक समीक्षा होगी।
केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीबीसीबी) के बारे में:
♦ मुख्यालय: नई दिल्ली
♦ अध्यक्ष: एस.पी.सिंह परिहार

INTERNATIONAL AFFAIRS

इंडो-फ्रेंच नौसेनाएँ 1 मई से 10 मई, 2019 तक गोवा-तट से अपना संयुक्त अभ्यास करेंगी:
i.भारत और फ्रांस अपने द्विपक्षीय नौसैनिक अभ्यास, वरुण 19.1 राबिया सागर, को 1 मई से 10 मई, 2019 तक गोवा तट से आयोजित करेंगे।
ii.इंडो-फ्रेंच नौसैनिक अभ्यास के इस 17 वें संस्करण में, प्रतिभागी निम्नलिखित हैं:
-फ्रांसीसी नौसेना का विमानवाहक पोत एफएनएस चार्ल्स डी गॉल
-2 विध्वंसक, एफएनएस फोरबिन, एफएनएस प्रोवेंस
-फ्रिगेट एफएनएस लाटूचे-ट्रेविले
-टैंकर एफएनएस मार्ने
-एक परमाणु पनडुब्बी
-भारतीय पक्ष से, विमान वाहक आईएनएस विक्रमादित्य
-विध्वंसक आईएनएस मुंबई
-टेग-क्लास फ्रिगेट, आईएनएस तरकश
-द शीशुमार- क्लास पनडुब्बी, आईएनएस शंकुल
-दीपक- क्लास फ्लीट टैंकर, आईएनएस दीपक
iii.अभ्यास 2 चरणों में आयोजित किया जाएगा, जो निम्नानुसार है:
-बंदरगाह चरण: यह अभ्यास गोवा में आयोजित किया जाएगा और इसमें क्रॉस-विज़िट, पेशेवर वार्ता, खेल कार्यक्रम और चर्चाएं शामिल होंगी।
-समुद्री चरण: इस अभ्यास में समुद्री अभियानों के विभिन्न अभ्यास शामिल होंगे।
iv.नौसेना अभ्यास का दूसरा भाग, वरुण 19.2, जिबूती में मई के अंत में आयोजित किया जाएगा।
‘वरुण’ के बारे में:
♦ द्विपक्षीय नौसैनिक अभ्यास की शुरुआत 1983 में हुई और इसे 2001 में ‘वरुण’ नाम दिया गया।
♦ यह भारत-फ्रांस रणनीतिक साझेदारी का एक बड़ा हिस्सा है और भारत और फ्रांस के बीच मजबूत संबंधों के प्रतीक को दिखाता है।
हिंद महासागर क्षेत्र में भारत-फ्रांसीसी सहयोग की संयुक्त सामरिक दृष्टि पर मार्च 2018 में राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन की भारत यात्रा के दौरान हस्ताक्षर किए गए थे।

पाक द्वारा 27 फरवरी को भारत के खिलाफ की गई इसकी जवाबी कार्रवाई को ‘ऑपरेशन स्विफ्ट रिटॉर्ट’ का नाम दिया गया:
i.पाकिस्तान वायु सेना ने घोषणा की कि वे 27 फरवरी को भारतीय वायु सेना की बालाकोट हमले के खिलाफ अपनी जवाबी कार्रवाई को ‘ऑपरेशन स्विफ्ट रिटॉर्ट’ के रूप में मानेंगे।
ii.26 फरवरी को बालाकोट आतंकी शिविर में भारतीय हवाई हमला पुलवामा में आत्मघाती हमलावर द्वारा पाकिस्तान आधारित जैश-ए-मोहम्मद (जेएम) हमले के जवाब में किया गया था, जिसमें 40 सीआरपीएफ जवान मारे गए थे।
iii.भारतीय हमले के जवाब में, पाकिस्तान वायु सेना (पीएएफ) ने जवाबी कार्रवाई की और आईएएफ विंग कमांडर अभिनंदन वर्थमान को पकड़ लिया, जिन्हें 1 मार्च को पाकिस्तान ने रिहा कर दिया था।
पाकिस्तान के बारे में:
♦ राजधानी: इस्लामाबाद
♦ मुद्रा: पाकिस्तानी रुपया

BANKING & FINANCE

बचत खातों और अल्पकालिक ऋणों के लिए एसबीआई के नए नियम 1 मई से प्रभावी होंगे:
i.भारत के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने 1 लाख रुपये से अधिक के बैलेंस वाले बड़ी बचत जमा खाता पर और अल्पकालिक ऋणों जैसे ओवरड्राफ्ट और कैश क्रेडिट पर एक नई ब्याज दर व्यवस्था को शुरू किया है। मार्च 2019 में, एसबीआई ने घोषणा की है कि वह अपनी ब्याज दर को बड़े बचत जमा खातो और अल्पकालिक ऋण पर आरबीआई की रेपो दर से जोड़ेगा जो 1 मई, 2019 से प्रभावी होगा।
ii.इस कदम से, एसबीआई देश का पहला बैंक बन गया जिसने जमा खाता और अल्पकालिक ऋणों को बाहरी बेंचमार्क से जोड़ा।
iii.वर्तमान में, रेपो दर 6% है। इसलिए बाहरी बेंचमार्किंग फॉर्मूले के अनुसार, 1 लाख रुपये से अधिक के बैलेंस वाले बड़े बचत खाते में छोटे बचत खाते की तुलना में कम ब्याज दर होती है। हालांकि, यदि रेपो दर बढ़ती है और 6.25% से अधिक हो जाती है तो बड़े बचत खाते में छोटे बचत खाते की तुलना में अधिक ब्याज दर अर्जित होगी।
एसबीआई के बारे में:
♦ मुख्यालय: मुंबई
♦ टैगलाइन: आपके साथ पूरे रास्ते, शुद्ध बैंकिंग और कुछ नहीं, हम पर राष्ट्र निर्भर है।

BUSINESS & ECONOMY

नैसकॉम, जीई हेल्थकेयर हेल्थ-टेक इनोवेशन के लिए रणनीतिक भागीदार बने:
i.आईटी उद्योग निकाय, द नेशनल एसोसिएशन ऑफ सॉफ्टवेयर एंड सर्विसेज कंपनीज (नैसकॉम) ने जीई हेल्थकेयर के साथ रणनीतिक साझेदारी की है। इसका उद्देश्य डिजिटल हेल्थकेयर समाधानों को बाजार में लाना है। नैसकॉम ने अपने सेंटर ऑफ एक्सीलेंस-इंटरनेट ऑफ थिंग्स (सीओई-आईओंटी) के माध्यम से इस साझेदारी की घोषणा की है।
ii.यह साझेदारी देश में स्वास्थ्य-तकनीक स्टार्ट-अप पारिस्थितिकी तंत्र को विकसित करने में भी मदद करेगी जो जल्दी पता लगाने, उत्पादकता समाधान और रिमोट और कनेक्टेड देखभाल के बीच डिजिटल अनुप्रयोगों के क्षेत्रों में वास्तविक-विश्व स्वास्थ्य देखभाल चुनौतियों के लिए सह-निर्माण समाधानों में मदद करेगी।
सेंटर ऑफ एक्सीलेंस-इंटरनेट ऑफ थिंग्स (सीओई-आईओंटी) के बारे में:
इसे नैसकॉम द्वारा विकसित किया गया है। यह स्टार्ट-अप के लिए एक नवाचार केंद्र है। यह सहयोगी नवाचार के लिए एक मंच प्रदान करता है।
नैसकॉम के बारे में:
♦ मुख्यालय: नोएडा, यू.पी.
♦ अध्यक्ष: केशव आर. मुरुगेश

भारतीय नौसेना के लिए आठ एएसडब्ल्यूएसडब्ल्यूसी का निर्माण करेगा जीआरएसई:Eight ASWSWCs for Indian Navyi.गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स (जीआरएसई) लिमिटेड ने 6311.30 करोड़ रुपये की लागत से भारतीय नौसेना के लिए आठ एंटी-सबमरीन वारफेयर शेलो वाटर क्राफ्ट्स (एएसडब्ल्यूएसडब्ल्यूसी) बनाने के लिए रक्षा मंत्रालय के साथ एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं।
ii.पहले जहाज को भारतीय नौसेना में 42 महीनों में पहुंचाया जाएगा और बाद में, प्रति वर्ष वितरित करने के लिए दो जहाजों की आवश्यकता होगी और परियोजना के पूरा होने का समय 84 महीने होगा।
iii.इन जहाजों में 750 टन का गहरा विस्थापन और 25 समुद्री मील की गति होगी और तटीय जल की पूर्ण पैमाने पर उप सतह निगरानी में भी सक्षम होंगे। यह तटीय जल में उप सतह के लक्ष्यों को नष्ट करने में भी सक्षम होंगे।
iv.जहाज एक अत्याधुनिक एकीकृत प्लेटफॉर्म प्रबंधन प्रणाली से लैस होंगे जिसमें प्रोपल्शन मशीनरी, बिजली उत्पादन, सहायक मशीनरी, वितरण मशीनरी और क्षति नियंत्रण मशीनरी आदि शामिल हैं। ये जहाज अंतरराष्ट्रीय समुद्री संगठन (आईएमओं) के नवीनतम समुद्री प्रदूषण (मार्पोल) मानकों और समुद्र में जीवन की सुरक्षा (एसओंएलएएस) के भी अनुरूप होंगे।।
अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन के बारे में:
♦ मुख्यालय: लंदन, यूनाइटेड किंगडम
♦ महासचिव: किटैक लिम

डीसीआईएल ने भविष्य की परियोजनाओं की संयुक्त रूप से पहचान करने के लिए वैपकोस के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए:DCIL signed MoU with WAPCOSi.ड्रेजिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (डीसीआईएल) ने वाटर एंड पॉवर कंसल्टेंसी सर्विसेज (वैपकोस) लिमिटेड के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमऔयू) पर हस्ताक्षर किया है, जो जल संसाधन, नदी विकास और गंगा कायाकल्प मंत्रालय के तहत एक मिनी रत्न पीएसयू है। उद्देश्य संयुक्त रूप से उपयुक्त भविष्य की परियोजनाओं को पहचानना और जल संसाधन, बिजली और बुनियादी ढांचे, बंदरगाह और बंदरगाह ड्रेजिंग जैसे क्षेत्रों में भू-तकनीकी जांच और इंजीनियरिंग परामर्श करना है।
ii.अन्य क्षेत्र जो संयुक्त परियोजनाओं में शामिल किए जा सकते हैं, वे हैं कम पानी में ड्रेजिंग, समुद्र तट पोषण, झील पुनर्वास, बाढ़ प्रबंधन, कटाव नियंत्रण, नदी आकृति विज्ञान आदि।
डीसीआईएल के बारे में:
♦ मुख्यालय: विशाखापट्नम, आंध्र प्रदेश
♦ प्रबंध निदेशक: राजेश त्रिपाठी
वैपकोस लिमिटेड के बारे में:
♦ मुख्यालय: नई दिल्ली
♦ अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक: आर के गुप्ता

AWARDS & RECOGNITIONS

2019 में, गोल्डमैन एनवायर्नमेंटल प्राइज ने प्रकृति की रक्षा में उनके अनुकरणीय कार्य के लिए 6 जमीनी स्तर के पर्यावरण कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया:Goldman Environmental Prizei.गोल्डमैन एनवायर्नमेंटल फाउंडेशन ने 2019 के 6 प्राप्तकर्ता को, ज़मीनी स्तर के पर्यावरण कार्यकर्ताओं के लिए दुनिया के प्रतिष्ठित पुरस्कार, गोल्डमैन पर्यावरण पुरस्कार या एनवायर्नमेंटल प्राइज से सम्मानित किया।
ii.यह पुरस्कार हर साल वैश्विक 6 बसे हुए महाद्वीपों में से प्रत्येक से पर्यावरण कार्यकर्ताओं को प्रदान किया जाता है।
iii.गोल्डमैन एनवायर्नमेंटल प्राइज को ग्रीन नोबेल पुरस्कार के रूप में भी जाना जाता है और यह $ 200,000 का नकद पुरस्कार प्रदान करता है।
iv.यह पुरस्कार दिवंगत परोपकारी और नागरिक नेताओं, रोडा और रिचर्ड गोल्डमैन द्वारा 1989 में सैन फ्रांसिस्को, कैलिफोर्निया में जमीनी स्तर के पर्यावरणविदों का जश्न मनाने के लिए स्थापित किया गया था। वर्ष 2019 में पुरस्कार की 30 वीं वर्षगांठ है।
v.अब तक, पुरस्कार ने 89 विभिन्न देशों के 194 विजेताओं को सम्मानित किया है।
vi.पुरस्कार विजेताओं को गोपनीय नामांकन से एक अंतरराष्ट्रीय जूरी द्वारा चुना जाता है, गोपनीय नामांकन व्यक्तियों और पर्यावरण संगठनों के वैश्विक नेटवर्क द्वारा प्रस्तुत किया जाता है।
vii.इस वर्ष, पुरस्कार विजेताओं को सैन फ्रांसिस्को ओपेरा हाउस में एक निमंत्रण-केवल समारोह में पुरस्कार प्रदान किया गया था। पूर्व उपराष्ट्रपति और दिग्गज पर्यावरण चैंपियन, अल गोर ने समारोह में मुख्य भाषण दिया था।
2019 के पुरस्कार विजेता इस प्रकार हैं:

प्राप्तकर्ता का नाम देश पर्यावरण संबंधी कार्य
बयार्जर्गल अगवंतसेरन मंगोलिया बयार्जर्गल अगवंतसेरन ने 1.8 मिलियन एकड़ टोस्ट तोसोंबुम्बा नेचर रिज़र्व (दक्षिण गोबी रेगिस्तान में) बनाने में मदद की जो संवेदनशील हिम तेंदुए के लिए एक महत्वपूर्ण निवास स्थान है। उन्होंने मंगोलियाई सरकार को भी रिज़र्व के भीतर खनन के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए राजी किया।
अल्फ्रेड ब्राउनेल लाइबेरिया पर्यावरण वकील अल्फ्रेड ब्राउनेल ने पाम तेल बागान डेवलपर्स द्वारा लाइबेरिया के उष्णकटिबंधीय जंगलों को साफ करने से रोका। उनके प्रभावी
अभियान से 5,13,500 एकड़ प्राथमिक जंगल को बचाने में मदद मिली। वह पूरे महान अभियान के दौरान हिंसक खतरों से घिरे हुए थे और अब अपनी सुरक्षा के लिए वह संयुक्त राज्य अमेरिका में अस्थायी निर्वासन में रह रहे है।
एना कोलोविक लेसोस्का उत्तर मैसेडोनिया एना कोलोविक लेसोस्का ने लगभग विलुप्त हो चुके बाल्कन लिनेक्स (पीले-भूरे रंग के फर वाली एक जंगली बिल्ली, जो ज्यादातर उत्तरी अमेरिका और यूरेशिया के उत्तरी अक्षांश में पाई जाती है) के निवास स्थान की रक्षा की, जिसके लिए उत्तर मेसिडोनिया के मावरोवो राष्ट्रीय उद्यान के अंदर निर्माण किए जाने वाले 2 बड़े जलविद्युत संयंत्रों के लिए अंतरराष्ट्रीय फंडिंग बंद करने का 7 साल का अभियान चला।
अल्बर्टो क्यूरामिल चिली अल्बर्टो क्यूरामिल (उनकी पर्यावरणीय सक्रियता के कारण 2018 में जेल में बंद) ने चिली में काटन नदी पर 2 पनबिजली परियोजनाओं के निर्माण को रोकने के लिए उनके मापुचे समुदाय का नेतृत्व किया।  परियोजनाओं द्वारा हर दिन लाखों गैलन पानी को डायवर्ट किया जाता और सूखे की स्थिति को बदतर करके पारिस्थितिकी तंत्र को भारी नुकसान पहुंचाया जाता।
जैकलीन इवांस कुक द्वीपसमूह जैकलिन इवांस ने कुक आइलैंड्स समुद्री जैव विविधता की रक्षा के लिए 5 साल का अभियान चलाया। सक्रियता में उसकी दृढ़ता की वजह से, कुक आइलैंड्स ने 13 जुलाई 2017 को ‘मारा मोना’ (बनाया गया एक बहु-उपयोग वाला समुद्री संरक्षित क्षेत्र) बनाने के लिए एक नया कानून पारित किया, जिससे सभी 15 द्वीपों के आसपास समुद्री संरक्षित क्षेत्र का निर्माण कर राष्ट्र के समुद्री क्षेत्र का 763,000 वर्ग मील का प्रबंधन और संरक्षण किया जा सके।
लिंडा गार्सिया संयुक्त राज्य अमेरिका लिंडा गार्सिया ने उत्तर अमेरिका के सबसे बड़े तेल टर्मिनल, टेसोरो सैवेज तेल निर्यात टर्मिनल को वैंकूवर, वाशिंगटन में निर्मित होने से रोका, इस प्रकार उत्तरी डकोटा से वाशिंगटन तक प्रति दिन 11 मिलियन गैलन कच्चे तेल के प्रवाह को रोक दिया गया।

 

APPOINTMENTS & RESIGNS

सम्राट अकिहितो 200 वर्षों में पद छोड़ने वाले सबसे पहले जापानी सम्राट बने:Emperor Akihito Of Japan Celebrates His 81st Birthdayi.30 अप्रैल 2019 को, जापान के 125 वें सम्राट, अकिहितो ने स्वास्थ्य और उम्र से संबंधित समस्याओं के कारण 30 साल के शासन के बाद 85 वर्ष की उम्र में पद छोड़ दिया। उनके शासन को हीसी के नाम से जाना जाता था। जबकि उनके बेटे सम्राट नरुहितो, 59 वर्षीय, 1 मई 2019 को क्रिसेंटहेम सिंहासन पर अपनी जगह लेंगे, और रीवा युग की शुरुआत करेंगे। जापान के आधुनिक इतिहास में यह पहली बार है जब देश में सम्राट और सम्मानपूर्वक सेवामुक्त होने वाले सम्राट दोनों हैं।
ii.टोक्यो, जापान के इंपीरियल पैलेस के एक राज्य के कमरे में ‘पद छोड़ने की विधि’ आयोजित की गई। समारोह में प्रधान मंत्री शिंजो आबे, क्राउन प्रिंस नरुहितो और क्राउन प्रिंसेस मासाको उपस्थित थे।
सम्मानपूर्वक सेवामुक्त होने वाले सम्राट अकिहितो के बारे में:
i.1817 में कोकाकू के बाद अकिहितो सिंहासन छोड़ने वाले पहले जापानी सम्राट है।
ii.उनका जन्म जापान के टोक्यो में 23 दिसंबर 1933 को हुआ था।
iii.30 वर्षीय लंबा हीसी युग 8 जनवरी 1989 को शुरू हुआ।
iv.अकिहितो (85 वर्ष, 121 दिन) वर्तमान में उम्र के हिसाब से आठवें सबसे उम्रदराज सेवारत राज्य नेता हैं।
जापान के बारे में:
♦ राजधानी: टोक्यो
♦ मुद्रा: जापानी येन

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भारतीय तीरंदाजी संघ के प्रमुख बी.वी.पी राव ने पद छोडा:
i.1 मई 2019 को, भारतीय तीरंदाजी संघ (एएआई) के अध्यक्ष बी.वी.पी. ने दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा नियुक्त प्रशासक एसवाई कुरैशी द्वारा खेल की राष्ट्रीय निकाय के संशोधित संविधान को सुप्रीम कोर्ट द्वारा रद्द किए जाने के बाद इस्तीफा दे दिया। एएआई के नए चुनाव की चार सप्ताह के भीतर होने की उम्मीद है।
ii.जस्टिस एएम खानविल्कर और अजय रस्तोगी ने आदेश दिया कि चार सप्ताह के भीतर भारतीय तीरंदाजी संघ के लिए नए चुनाव कराए जाएं।
iii.10 जून से होने वाली मार्की वर्ल्ड चैंपियनशिप से पहले नई भारतीय तीरंदाज प्रशासनिक समिति के गठन की उम्मीद है।
iv.22 दिसंबर, 2018 को, कुरैशी की देखरेख में हुए चुनावों के माध्यम से राव को एएआई का अध्यक्ष चुना गया था। उन्होंने विजय कुमार मल्होत्रा ​​का स्थान लिया था।
भारतीय तीरंदाजी संघ के बारे में:
♦ स्थापित: 8 अगस्त 1973
♦ खेल: तीरंदाजी
♦ संबद्धता: विश्व तीरंदाजी संघ
♦ सचिव: महा सिंह
♦ कोच: लिम्बा राम

SCIENCE & TECHNOLOGY

आईसीआरआईएसएटी के नेतृत्व वाली टीम ने बीजीआई-शेनज़ेन के साथ मौसम की अनियमित स्थितियों के लिए प्रतिरोधी चने के आनुवंशिक कोड का विकास करने के लिए सहयोग किया:
i.इंटरनेशनल क्रॉप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर द सेमी-एरिड ट्रॉपिक्स (आईसीआरआईएसएटी) टीम ने बीजीआई-शेन्ज़ेन, चीन के साथ भागीदारी की, जिसमें दुनिया भर के 21 शोध संस्थानों के 39 वैज्ञानिक शामिल थे, और सूचित किया है कि वैज्ञानिकों ने विभिन्न चरम कारकों के लिए प्रतिरोधी जीनों की पहचान करने के लिए 45 देशों से 429 चनो का अनुक्रमण करके, चने के पूरे-जीनोम पुन: अनुक्रमण के सबसे बड़े अभ्यास को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है। यह अध्ययन नेचर जेनेटिक्स में शीर्षक ’45 देशों के 429 चनो का पुन: अनुक्रमण जीनोम विविधता, प्राणिपालन और कृषि संबंधी लक्षणों में अंतर्दृष्टि प्रदान करता है’ के साथ ऑनलाइन प्रकाशित किया गया है।
ii.कृषि समुदाय के लिए इस अनुक्रमण का उद्देश्य बेहतर और बड़े पैमाने पर उत्पादन के साथ नई किस्म के चने के सफल विकास को पूरा करेगा, एक ऐसी उपज के साथ, जो रोग, कीट, सूखा, गर्मी (38 डिग्री सेल्सियस तक) और परिवर्तनशील मौसम की स्थिति के प्रति सहनशील है। इस प्रकार यह विकासशील देशों में कृषि विकास की स्थिरता में योगदान देगा।
iii.शोध अध्ययन ने इस तथ्य की पुष्टि की कि अफगानिस्तान के माध्यम से भूमध्य के उपजाऊ अर्धचन्द्राकार से चना भारत आया था।
iv.शोध में यह भी कहा गया है कि भारत, वैश्विक स्तर पर दालों का सबसे बड़ा उपभोक्ता (2016 में भारत ने दुनिया के कुल चने का 64% उत्पादन किया) को उत्पादन के बढ़ते अंतर का सामना करना पड़ रहा है, इस प्रकार, नए अध्ययन से भारत को दलहन उत्पादन के अपने पिछले स्तर को प्राप्त करने में मदद मिल सकती है।
अतिरिक्त जानकारी:
i.दक्षिण एशिया में 90% से अधिक चने (सिसर एरीटिनम) की खेती होती है।
ii.चना एक ठंडी मौसम की फसल है और यह उच्च तापमान की स्थिति में उपज में कमी का सामना करती है। यह 70 ° से 80 ° F दिन के समय के तापमान और 64 ° से 70 ° F रात के समय के तापमान में उत्कृष्ट प्रदर्शन करती हैं।
iii.दुनिया भर में, सूखे और गर्मी से चने की 70% से अधिक उपज की हानि होती है।
iv.ठंडी-मौसम की फसल होने के कारण, भारत में चना सितंबर-अक्टूबर में बोया जाता है और जनवरी-फरवरी में काटा जाता है।
v.चने को सूखी दलहनी फसल के रूप में या हरी सब्जी के रूप में खाया जाता है और बीजों में लगभग 20% प्रोटीन, 5% वसा और 55% कार्बोहाइड्रेट होते हैं। इनको उच्च प्रोटीन सामग्री के कारण पशुधन के लिए खाने के रूप में भी उपयोग किया जाता हैं। इसे चना, बंगाल चना, गर्बंजो, गर्बंजो बीन और मिस्र के मटर के नाम से भी जाना जाता है।

ENVIRONMENT

भारतीय सेना के ट्वीट ने ‘येती’ के पैरों के निशानो को देखने का दावा किया:'Yeti' footprintsi.30 अप्रैल 2019 को, भारतीय सेना के अतिरिक्त सूचना महानिदेशालय के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट ने ट्वीट किया कि एक भारतीय सेना पर्वतारोहण अभियान दल ने 09 अप्रैल 2019 को उत्तर-पूर्वी हिमालय में स्थित मकालू बेस कैंप के करीब पौराणिक हिमालयी जानवर ‘येती’ के रहस्यमयी पैरों के निशान 32X15 इंच (81 सेंटीमीटर x 38 सेंटीमीटर) देखे हैं।
ii.येती को एबोमिनेबल स्नोमैन या एशियन बिगफुट के रूप में भी जाना जाता है, यह दक्षिण एशियाई लोककथाओं के अनुसार एक विशालकाय प्राणी है। माना जाता है कि 6 फीट से अधिक की ऊंचाई वाले येती का 91 से 181 किलोग्राम के बीच वजन होता है।
iii.नेशनल ज्योग्राफिक में एक रिपोर्ट के अनुसार, ब्रिटिश खोजकर्ता एरिक शिप्टन ने 1951 में येती के पदचिह्नों को पहली बार देखा था। यह मेनलींग ग्लेशियर पर पाया गया था जो कि मकालू बरुन राष्ट्रीय उद्यान के पास नेपाल-तिब्बत सीमा पर स्थित है।

OBITUARY

अमेरिकी न्यायाधीश और नागरिक अधिकार आइकॉन डेमन जे.कीथ का 96 वर्ष की आयु में निधन हो गया:Icon Damon J. Keithi.28 अप्रैल 2019 को, संयुक्त राज्य अमेरिका के छठे सर्किट के न्यायाधीश, डेमन जेरोम कीथ, दासों के एक पौत्र, का 96 वर्ष की आयु में डेट्रोइट में निधन हो गया, इस शहर में प्रमुख वकील को 1967 में अमेरिकी जिला न्यायालय में नियुक्त किया गया था। उन्होंने छठे सर्किट में 40 से अधिक वर्षों तक सेवा की।
ii.उनका जन्म 4 जुलाई 1922 को अमेरिका के मिशिगन के डेट्रोइट में हुआ था।
iii.कीथ ने संघीय न्यायालयों में 50 से अधिक वर्षों की सेवा की, और उनकी मृत्यु से पहले सिनसिनाटी में छठे यू.एस सर्किट कोर्ट ऑफ अपील्स में एक वर्ष में लगभग चार बार मामलों की सुनवाई की।

BOOKS & AUTHORS

राष्ट्रपति भवन की वास्तु-कला और भू-दृश्य पर कॉफी टेबल बुक को यूएई के सहिष्णुता मंत्री को प्रस्तुत किया गया:
i.राजदूत नवदीप सूरी ने ‘सौंदर्य का कार्य: राष्ट्रपति भवन की वास्तु-कला और भू-दृश्य’ पर कॉफी टेबल बुक को यूएई के सहिष्णुता मंत्री शेख नाहयान मुबारक अल नाहयान को प्रस्तुत किया। इसे प्रकाशन विभाग, सूचना और प्रसारण मंत्रालय द्वारा प्रकाशित किया गया है।
ii.इस किताब को राष्ट्रपति सचिवालय और इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (आईजीएनसीए), संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा कमीशन किया गया था।
iii.संयुक्त अरब अमीरात के मंत्री ने अबू धाबी अंतर्राष्ट्रीय पुस्तक मेला 2019 के भारत मंडप का दौरा किया था। भारत पुस्तक मेले में ‘गेस्ट ऑफ ऑनर’ है।

IMPORTANT DAYS

1 मई को अंतर्राष्ट्रीय श्रम दिवस मनाया गया:International Labour Day 2019i.अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस या श्रमिक दिवस 1 मई को प्रतिवर्ष मनाया जाता है। इसे मई दिवस के रूप में भी जाना जाता है। इस दिन को अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक आंदोलन, समाजवादियों और कम्युनिस्टों द्वारा बढ़ावा दिया गया था। अंतर्राष्ट्रीय श्रम दिवस 2019 का विषय ‘सभी के लिए स्थायी पेंशन: सामाजिक भागीदारों की भूमिका’ है।
ii.भारत में, पहला मजदूर दिवस 1 मई, 1923 को मद्रास में लेबर किसान पार्टी ऑफ़ हिंदुस्तान द्वारा मनाया गया था। श्रमिक दिवस को भारत में अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस या कामगर दिवस भी कहा जाता है।
iii.श्रमिक दिवस 4 मई, 1886 को शिकागो में हेयमार्केट अफेयर (हेयमार्केट नरसंहार) की याद में मनाया जाता है।
iv.समाजवादी और कम्युनिस्ट राजनीतिक दलों के एक अखिल राष्ट्रीय संगठन द सेकेंड इंटरनेशनल ने 1891 में 1 मई को मजदूर दिवस के रूप में मनाया था।
लेबर किसान पार्टी ऑफ़ हिंदुस्तान के बारे में:
♦ संस्थापक: मलयपुरम सिंगारवेलु चेट्टियार
♦ स्थापित: 1923

STATE NEWS

महाराष्ट्र दिवस 1 मई को मराठा भाषी क्षेत्र को राज्य का दर्जा मिलने की याद में मनाया गया:
i.महाराष्ट्र दिवस हर साल 1 मई को मराठा भाषी क्षेत्र को चिह्नित करने के लिए मनाया जाता है जिसकी स्थापना 1 मई 1960 को हुई थी।
ii.इस वर्ष, महाराष्ट्र की राज्य सरकार ने मुंबई में मुख्य समारोह का आयोजन किया और इस लाल-पत्र दिवस को मध्य मुंबई के शिवाजी पार्क में मनाया।
iii.अधिकांश शैक्षणिक संस्थान जैसे स्कूल, कॉलेज, कार्यालय इस दिन बंद रहते हैं।
महाराष्ट्र दिवस कैसे मनाया जाता है?
i.यह दिन महाराष्ट्र के सार्वजनिक क्षेत्रों में प्रदर्शनियों, समारोहों और परेडों के आयोजन के साथ मनाया जाता है।
ii.निजी उत्सव भी शहर भर में होते हैं, जिनमें पारंपरिक लावणी प्रदर्शन, मराठी संतों द्वारा लिखित कविताओं का वर्णन और लोक गीत शामिल हैं।
महाराष्ट्र दिवस का इतिहास:
i.1956 में, राज्य पुनर्गठन अधिनियम बनाया गया जिसने भाषा के अनुसार भारतीय राज्य की सीमाओं को प्रतिबंधित कर दिया।
ii.जब इस अधिनियम को लागू किया गया, तो इसने बॉम्बे राज्य का निर्माण किया, जिसमें तब अलग भाषा बोली जा रही थी, जिनका नाम था, कच्छी, कोंकणी, गुजराती और मराठी।
iii.तब संयुक्ता महाराष्ट्र समिति का गठन किया गया, जिसने 2 हिस्सों में बॉम्बे राज्य के विभाजन के लिए प्रयास किया। पहले आधे हिस्से में मराठी और कोंकणी बोलने वाले लोग होते और दूसरे हिस्से में राज्य में गुजराती और कच्छी बोलने वाले लोग होंते। इसके परिणामस्वरूप बॉम्बे पुनर्गठन अधिनियम का प्रस्ताव आया।
iv.आधिकारिक प्रभाव उसी वर्ष 1960 के 1 मई को हुआ और इस तरह महाराष्ट्र ने भारत में अपना राज्य का दर्जा प्राप्त किया।

गुजरात ने 1 मई को अपना स्थापना दिवस मनाया:
i.आज गुजरात का 60 वां स्थापना दिवस है। हर साल, 1 मई को विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं को शुरू करके गुजरात के विभिन्न जिलों में मनाया जाता है।
ii.इस वर्ष, आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) के कारण कोई आधिकारिक उत्सव नहीं है।
iii.बॉम्बे पुनर्गठन अधिनियम के तहत मुंबई राज्य के विभाजन के बाद 1 मई 1960 को गुजरात राज्य अस्तित्व में आया।
iv.अहमदाबाद (गुजरात में शहर) चीन से चेंग्दू और चोंगकिंग के बाद रैंक नंबर 3 पर ‘दुनिया के सबसे तेजी से बढ़ते शहरों’ की फोर्ब्स सूची में शामिल किया गया है।
कुछ तथ्य:
♦ स्थापना दिवस: 1 मई, 1960
♦ राजधानी: गांधीनगर
♦ सबसे बड़ा शहर: अहमदाबाद
♦ जिले: 33
♦ राज्यपाल: ओम प्रकाश कोहली
♦ मुख्यमंत्री: विजय रूपानी