Current Affairs PDF

Current Affairs Hindi – July 31 2019

AffairsCloud YouTube Channel - Click Here

AffairsCloud APP Click Here

हैलो दोस्तों, affairscloud.com में आपका स्वागत है। हम यहां आपके लिए 31 जुलाई,2019 के महत्वपूर्ण करंट अफेयर्स को विभिन्न अख़बारों जैसे द हिंदू, द इकोनॉमिक टाइम्स, पीआईबी, टाइम्स ऑफ इंडिया, इंडिया टुडे, इंडियन एक्सप्रेस, बिजनेस स्टैंडर्ड,जागरण से चुन करके एक अनूठे रूप में पेश करते हैं। हमारे Current Affairs से आपको बैंकिंग, बीमा, यूपीएससी, एसएससी, सीएलएटी, रेलवे और अन्य सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

Click here to Read Current Affairs Today in Hindi – 30 July 2019

31 जुलाई 2019 को कैबिनेट की मंजूरी:Cabinet_decisionप्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 31 जुलाई, 2019 को निम्नलिखित प्रस्तावों को मंजूरी दी:
केंद्रीय सूची में अन्य पिछड़े वर्गों के भीतर उप-वर्गीकरण के मुद्दे की जांच करने के लिए संविधान के अनुच्छेद 340 के तहत गठित आयोग के कार्यकाल के विस्तार को मंजूरी:
केंद्रीय मंत्रिमंडल ने केंद्रीय सूची में अन्य पिछड़ा वर्गों में उप श्रेणियां बनाने के मसले पर विचार करने के वास्ते संविधान के अनुच्छेद 340 के अंतर्गत गठित आयोग के कार्यकाल का 31 जुलाई, 2019 से 31 जनवरी, 2020 तक विस्तार किए जाने को मंजूरी दे दी है।
लाभः
कार्यकाल में प्रस्तावित विस्तार से “आयोग” विभिन्न पक्षधारकों के साथ परामर्श के बाद ओबीसी की श्रेणियां बनाने के मसले पर व्यापक रिपोर्ट जमा करने में सक्षम हो जाएगा।

वर्ष 2019-20 के लिए फॉस्फेटिक और पोटैसिक (पीएंडके) उर्वरकों के लिए पोषक तत्व आधारित सब्सिडी (एनबीएस) दरों को मंजूरी:
वर्ष 2019-20 के लिए पीएंडके उर्वरकों के लिए पोषक तत्व आधारित सब्सिडी दरों के निर्धारण के लिए उर्वरक विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई। 31 जुलाई, 2019 से प्रभावी एनबीएस के लिए अनुमोदित दरें निम्नानुसार हैं:

प्रति किलोग्राम सब्सिडी दर (रु)
एन (नाइट्रोजन) 18.901
पी (फास्फोरस) 15.216
के (पोटाश) 11.124
एस (सल्फर) 3.562

31 जुलाई 2019 की अधिसूचना से पहले प्रति किलोग्राम सब्सिडी की दर वर्ष 2018-19 के समान ही रहेगी।
खर्च: 2019-20 के दौरान पीएंडके फर्टिलाइजर्स पर सब्सिडी जारी करने का अनुमानित खर्च 22875.50 करोड़ रुपये होगा।
पृष्ठभूमि: सरकार का उद्देश्य उर्वरकों, यूरिया और पीएंडके उर्वरकों के 21 ग्रेड किसानों को उर्वरक निर्माताओं / आयातकों के माध्यम से अनुदानित कीमतों पर उपलब्ध कराना है। पीएंडके उर्वरकों पर सब्सिडी एनबीएस योजना द्वारा 1 अप्रैल, 2010 से लागू की जा रही है। अपने किसान हितैषी दृष्टिकोण के अनुसार, किसानों को सस्ती कीमत पर पीएंडके उर्वरकों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है।

जम्मू और कश्मीर आरक्षण (दूसरा संशोधन) विधेयक 2019 को मंजूरी दी गई:
जम्मू और कश्मीर आरक्षण (दूसरा संशोधन) विधेयक, 2019 को मंजूरी दी गई थी, जो शैक्षणिक संस्थानों में आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों (ईडब्ल्यूएस) के लिए 10% तक आरक्षण का लाभ प्रदान करता है और मौजूदा आरक्षण के साथ सार्वजनिक रोजगार भी प्रदान करता है।
पृष्ठभूमि: जनवरी 2019 में केंद्र ने सरकारी नौकरियों और उच्च शिक्षा संस्थानों में सीधी भर्ती के लिए आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को 10% आरक्षण प्रदान करने के लिए एक संवैधानिक संशोधन को मंजूरी दी थी।
स्थिति: यह कोटा अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़े वर्गों के लिए 50% आरक्षण सीमा के ऊपर है। केंद्र ने 8 लाख रुपये से कम वार्षिक आय वाले लोगों को आर्थिक रूप से कमजोर के रूप में परिभाषित किया है।

उच्चतम न्यायालय के जजों की ताकत को 31 से बढ़ाकर 34 करने की मंजूरी दी गई हैं:
भारत के मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) को छोड़कर, वर्तमान में उच्चतम न्यायालय (एससी) में न्यायाधीशों की संख्या 30 से बढ़ाकर 33 करने की स्वीकृति दी गई।
वर्तमान स्थिति: उच्चतम न्यायालय सीजेआई सहित 31 की अपनी पूर्ण स्वीकृत शक्ति के साथ काम कर रहा है।
अधिनियम: सुप्रीम कोर्ट (न्यायाधीशों की संख्या) अधिनियम 1956 को आखिरी बार 2009 में संशोधित किया गया था ताकि न्यायाधीशों की शक्ति 25 से 30 (सीजेआई को छोड़कर) तक बढ़ाई जा सके। यह मूल रूप से अधिकतम 10 न्यायाधीशों (सीजेआई को छोड़कर) के लिए प्रदान किया गया था। सर्वोच्च न्यायालय द्वारा इस संख्या को बढ़ाकर 13 कर दिया गया (न्यायाधीशों की संख्या) संशोधन अधिनियम, 1960, 1977 में संख्या 17 तक, 1986 में 25 और 2009 में 30 तक कर दी गई।
पृष्ठभूमि: सीजेआई रंजन गोगोई द्वारा उच्चतम न्यायालय में जजों की संख्या बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखे जाने के कुछ दिनों बाद कैबिनेट का फैसला आया। न्यायालय में 59,331 मामले लंबित हैं और न्यायाधीशों की कमी के कारण, कानून के सवालों से जुड़े महत्वपूर्ण मामलों का फैसला करने के लिए संविधान पीठों की आवश्यक संख्या का गठन नहीं किया जा रहा था।
केंद्रीय मंत्रिमंडल के बारे में:
केंद्रीय मंत्रिपरिषद भारत में कार्यकारी प्राधिकरण का उपयोग करता है। इसमें वरिष्ठ मंत्री होते हैं जिन्हें कैबिनेट मंत्री, कनिष्ठ मंत्री जिन्हें राज्य मंत्री या उप मंत्री कहा जाता हैं। इसका नेतृत्व प्रधानमंत्री करते हैं।

31 जुलाई, 2019 को दुसरे देशो के साथ कैबिनेट की मंजूरी:Cabinet approval31 जुलाई 2019 को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल न दुसरे देशों के सहयोग के लिए समझौते ज्ञापन को मंजूरी दी:
मंत्रिमंडल ने बाह्य अंतरिक्ष अन्वेषण और उपयोग में सहयोग पर इसरो और बोलिवियाई अंतरिक्ष एजेंसी के बीच समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी:
प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने शांतिपूर्ण उद्देश्‍यों के लिए बाह्य अंतरिक्ष में अन्‍वेषण और उपयोग में सहयोग के लिए भारत और बोलिविया के मध्‍य हस्‍ताक्षरित समझौता ज्ञापन (एमओयू) को कार्योत्‍तर स्‍वीकृति प्रदान की है। इस समझौता ज्ञापन पर 29 मार्च, 2019 को भारत अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) और बोलिविया अंतरिक्ष एजेंसी ने भारत के राष्‍ट्रपति की बोलिविया यात्रा के दौरान सांता क्रूज डि ला सियरा, बोलिविया में हस्‍ताक्षर किए गए।
समझौता ज्ञापन के लाभ:
i.समझौता ज्ञापन मानवता के लाभ के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकियों के अनुप्रयोग के क्षेत्र में एक संयुक्त गतिविधि विकसित करने में मदद करेगा।
ii.यह समझौता ज्ञापन, पृथ्‍वी की रिमोर्ट सेंसिंग, उपग्रह संचार, उपग्रह आधारित नेविगेशन, अंतरिक्ष विज्ञान और ग्रह-संबंधी अन्‍वेषण, अंतरिक्षयान, अंतरिक्ष प्रणालियों और भूतल प्रणाली के उपयोग तथा अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के अनुप्रयोग सहित अंतरिक्ष विज्ञान, प्रौद्योगिकी तथा अनुप्रयोगों जैसे सहयोग के संभावित हित क्षेत्रों को समर्थ बनाएगा।
iii.यह समझौता ज्ञापन इसरो और बोलिविया अंतरिक्ष एजेंसी (एबीए) सदस्‍यों को शामिल करके एक संयुक्‍त कार्य समूह स्‍थापित करने में मदद करेगा, जो समय-सीमा और समझौता ज्ञापन कार्यान्‍वयन के तरीकों सहित कार्य-योजना भी तैयार करेगा।
पृष्‍ठभूमि:
बोलिविया अंतरिक्ष एजेंसी (एबीई) ने बोलिविया में भारत के राजदूत को दिसंबर, 2016 को लिखे पत्र में इसरो के साथ अंतरिक्ष सहयोग स्‍थापित करने की इच्‍छा जाहिर की थी। इसी की अनुवर्ती कार्यवाही में इसरो ने 5-6 जून, 2017 को दो सदस्‍यीय शिष्‍टमंडल की मेजबानी के दौरान पृथ्‍वी पर्यवेक्षण और उपग्रह संचार में संभावित सहयोग के बारे में विचार-विमर्श किया।
बोलीविया के बारे में:
♦ राजधानी: सूकर
♦ मुद्रा: बोलिवियाई बोलिवियानो
♦ राष्ट्रपति: ईवो मोरालेस

मंत्रिमंडल ने भारत और बहरीन के बीच शांतिपूर्ण उद्देश्‍यों के लिए बाह्य अंतरिक्ष में अन्‍वेषण और उपयोग में सहयोग के लिए समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी:
31 जुलाई 2019 को, प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल को शांतिपूर्ण उद्देश्‍यों के लिए बाह्य अंतरिक्ष में अन्‍वेषण और उपयोग में सहयोग के लिए भारत और बहरीन के मध्‍य समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर करने के बारे में अवगत कराया गया। इस समझौता ज्ञापन पर भारत द्वारा 11 मार्च, 2019 को बैंगलुरु में और 28 मार्च, 2019 को बहरीन द्वारा मनामा में हस्‍ताक्षर किए गए।
समझौता ज्ञापन के लाभ:
i.समझौता ज्ञापन मानवता के लाभ के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकियों के अनुप्रयोग के क्षेत्र में एक संयुक्त गतिविधि विकसित करने में मदद करेगा।
ii.यह समझौता ज्ञापन, पृथ्‍वी की रिमोर्ट सेंसिंग, उपग्रह संचार, उपग्रह आधारित नेविगेशन, अंतरिक्ष विज्ञान और ग्रह-संबंधी अन्‍वेषण, अंतरिक्षयान, अंतरिक्ष प्रणालियों और भूतल प्रणाली के उपयोग तथा अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के अनुप्रयोग सहित अंतरिक्ष विज्ञान, प्रौद्योगिकी तथा अनुप्रयोगों जैसे सहयोग के संभावित हित क्षेत्रों को समर्थ बनाएगा।
ii.यह समझौता ज्ञापन डीओएस/आईएसआरओ और बहरीन सरकार की बहरीन राष्‍ट्रीय अंतरिक्ष विज्ञान एजेंसी (एनएसएसए) से सदस्‍यों को शामिल करके एक संयुक्‍त कार्य समूह स्‍थापित करने में मदद करेगा, जो समय-सीमा और समझौता ज्ञापन कार्यान्‍वयन के तरीकों सहित कार्य-योजना भी तैयार करेगा।
पृष्‍ठभूमि:
बहरीन राष्‍ट्रीय अंतरिक्ष विज्ञान एजेंसी (एनएसएसए) के प्रमुख और बहरीन के परिवहन एवं दूरसंचार मंत्री ने अप्रैल, 2018 में भारत के राजदूत से इसरो के साथ अंतरिक्ष सहयोग करने की इच्‍छा जाहिर की थी। जुलाई, 2018 में विदेश मंत्रालय के अनुरोध पर एक अनुवर्ती कार्यवाही के रूप में भारत-‍बहरीन अंतरिक्ष सहयोग के लिए एक समझौता ज्ञापन का मसौदा तैयार करके विदेश मंत्रालय के साथ साझा किया गया। तदनुसार बहरीन के पक्ष ने अपनी सहमति दी और दोनों पक्ष हस्‍ताक्षर के लिए प्रारूप पर परस्‍पर सहमत हुए।
बहरीन के बारे में:
♦ राजधानी: मनामा
♦ मुद्रा: बहरीन दीनार
♦ प्रधान मंत्री: खलीफा बिन सलमान अल खलीफा

मंत्रिमंडल ने भारत द्वारा मध्यस्थता के परिणामस्वरूप अंतर्राष्ट्रीय सुलह समझौतों पर संयुक्त राष्ट्र संधि पर हस्ताक्षर को दी मंजूरी:
31 जुलाई 2019 को, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारतीय गणराज्य द्वारा 7 अगस्त, 2019 को सिंगापुर में या संयुक्त राष्ट्र मुख्यालयों होने वाली मध्यस्थता के परिणामस्वरूप अंतर्राष्ट्रीय समाधान समझौतों पर संयुक्त राष्ट्र संधि (यूएनआईएसए) पर हस्ताक्षर को मंजूरी दे दी है।
लाभः
संधि पर हस्ताक्षर से निवेशकों का आत्म-विश्वास बढ़ेगा और विदेशी निवेशकों को वैकल्पिक विवाद समाधान (एडीआर) पर अंतर्राष्ट्रीय प्रक्रिया के पालन की भारत की प्रतिबद्धता को लेकर सकारात्मक संदेश भेजा जा सकेगा।
पृष्ठभूमिः
संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 20 दिसंबर, 2018 को मध्यस्थता (“संधि”) के परिणामस्वरूप अंतर्राष्ट्रीय समाधान समझौतों पर संयुक्त राष्ट्र संधि को स्वीकार किया था। संधि, मध्यस्थता के परिणामस्वरूप होने वाले अंतर्राष्ट्रीय सुलह समझौतों को लागू करने के लिए एक समान और कुशल तंत्र उपलब्ध कराती है और विभिन्न पक्षों के लिए ऐसे समझौतों, मध्यस्थता फैसले देने के लिए विदेशी पंचाट फैसलों को मान्यता देने और लागू कराने पर संधि (न्यू यॉर्क, 1958) (“न्यू यॉर्क संधि”) से संबंधित तंत्र के कार्यान्वयन का मार्ग प्रशस्त करती है।
यूएनजीए के बारे में:
♦ राष्ट्रपति: तिजानी मुहम्मद-बंदे
♦ मुख्यालय: न्यूयॉर्क, संयुक्त राज्य अमेरिका
♦ स्थापित: 1945

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने मॉस्को में एक इसरो तकनीक संपर्क इकाई को दी मंजूरी:
31 जुलाई 2019 को, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने मॉस्को, रूस में एक इसरो तकनीक संपर्क इकाई (आईटीएलयू) की स्थापना को मंजूरी दे दी है।
लाभः
इससे इसरो परस्पर तालमेल कायम करने के लिए रूस और पड़ोसी देशों में अंतरिक्ष एजेंसियों/उद्योगों के साथ सहयोग में सक्षम हो जाएगा। इसरो के गगनयान कार्यक्रम को कुछ प्रमुख तकनीकों के विकास और विशेष सुविधाओं की स्थापना की जरूरत है, जो अंतरिक्ष में जीवन को सहारा देने के लिए आवश्यक हैं। रूस, अंतरिक्ष में पहुँचने वाले देशों में से एक होने के नाते, प्रासंगिकता के विभिन्न क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर रूस के साथ सहयोग करने की परिकल्पना की गई है।
पृष्ठभूमि:
अंतरिक्ष विभाग ने इससे पहले वाशिंगटन, अमेरिका और पेरिस, फ्रांस में इसरो तकनीक संपर्क इकाइयों (आईटीएलयू) की स्थापना की थी। इसका प्रमुख उद्देश्य क्रमशः अमेरिका और यूरोप में सरकार व अंतरिक्ष एजेंसियों के साथ संबंध कायम करना था। भारत और रूस के बीच अंतरिक्ष सहयोग संबंध काफी मजबूत है, जो अंतरिक्ष युग की शुरुआत के समय से ही कायम हैं। वर्तमान मे दोनों देश अंतरिक्ष कार्यक्रम के विविध क्षेत्रों में सक्रिय तौर पर संवाद कर रहे हैं। रूस के साथ भागीदारी बढ़ाने के अलावा भारत ने रूस के आसपास के देशों के साथ भी अंतरिक्ष सहयोग बढ़ाया है। इसका उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर तकनीक भागीदारी को बढ़ाने के लए समन्वय और सहयोग को बनाए रखना है।
रूस के बारे में:
♦ राजधानी: मास्को
♦ मुद्रा: रूसी रूबल
♦ राष्ट्रपति: व्लादिमीर पुतिन

संसद ने कंपनी (संशोधन) विधेयक, 2019 को कंपनी अधिनियम, 2013 में संशोधन के लिए पारित किया:Parliament passed the Companies (Amendment) Bill30 जुलाई, 2019 को, कंपनी (संशोधन) विधेयक, 2019, जो कंपनी अधिनियम, 2013 में संशोधन करना चाहता है, संसद द्वारा राज्य सभा की मंजूरी के साथ पारित किया गया है। विधेयक पहले ही लोकसभा द्वारा पारित कर दिया गया था।
i.उद्देश्य: बिल का उद्देश्य व्यापार करने में आसानी में सुधार करना है और कंपनियों, विशेष रूप से छोटे लोगों पर अनुपालन बोझ को कम करना है।
ii.कड़े नियम: विधेयक कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) के अनुपालन को कड़ा करेगा, राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण में कुछ जिम्मेदारियों को स्थानांतरित करेगा और नागरिक अपराधों के रूप में कुछ अपराधों का पुन: वर्गीकरण करेगा।
iii.बिल का प्रावधान: मूल अधिनियम के तहत, सार्वजनिक कंपनियों के कुछ वर्गों को केवल डीमैटरियलाइज्ड रूप में शेयर जारी करने की आवश्यकता होती है। विधेयक में कहा गया है कि यह असूचीबद्ध कंपनियों के अन्य वर्गों के लिए भी निर्धारित किया जा सकता है।
iv.सीएसआर: अधिनियम के तहत, जिन कंपनियों को सीएसआर के लिए प्रावधान करना है, वे पूरी तरह से धन खर्च नहीं करते हैं, उन्हें अपनी वार्षिक रिपोर्ट में खर्च न करने के कारणों का खुलासा करना चाहिए। अब, किसी भी अनिर्दिष्ट वार्षिक सीएसआर फंड को वित्तीय वर्ष के छह महीने के भीतर अधिनियम की अनुसूची 7 (जैसे, पीएम रिलीफ फंड) के तहत धन में से एक में स्थानांतरित किया जाना चाहिए।
V.कुछ अपराधों का पुन: वर्गीकरण: अधिनियम में 81 अपराध शामिल हैं (वे अपराध जहां, शिकायतकर्ता समझौता करते हैं, और आरोपियों के खिलाफ लगाए गए आरोपों को वापिस लेने के लिए सहमत होते हैं)। इन अपराधों की सुनवाई अदालतों में की जाती है। विधेयक इन अपराधों में से 16 को नागरिक चूक के रूप में फिर से वर्गीकृत करता है, जहां आसन्न अधिकारियों (केंद्र सरकार द्वारा नियुक्त) द्वारा अब दंड लगाया जा सकता है।

संसद ने मुस्लिम महिलाओं (विवाह पर अधिकारों का संरक्षण) विधेयक 2019 पारित किया:
30 जुलाई, 2019 को संसद ने मुस्लिम महिलाओं (विवाह पर अधिकारों का संरक्षण) विधेयक 2019 पारित किया। यह पक्ष में 99 मतों के साथ पारित किया गया और 84 ने इसके खिलाफ विरोध किया। यह बिल मुस्लिमों में तात्कालिक तीन तालाक का अपराधीकरण करता है और पति के लिए तीन साल की जेल अवधि का प्रावधान करता है।
प्रमुख बिंदु:
i.परिभाषा: यह तलाक को तलाक-ए-बिद्दत के रूप में परिभाषित करता है, जिसके परिणामस्वरूप तत्काल और अपरिवर्तनीय तलाक होता है। तलाक-ए-बिद्दत का तात्पर्य मुस्लिम व्यक्तिगत कानूनों के तहत है, जहां मुस्लिम व्यक्ति द्वारा अपनी पत्नी के लिए एक बार में तीन बार ‘तलाक’ शब्द का उच्चारण करने से तात्कालिक और अपरिवर्तनीय तलाक हो जाता है।
ii.लाभ: यह विवाहित मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करता है और उनके पति द्वारा तात्कालिक और अपरिवर्तनीय-तालाक-ए-बिद्दत ’की प्रथा से तलाक को रोकता है। यह निर्वाह भत्ता, ट्रिपल तालक के पीड़ितों के लिए नाबालिग बच्चों की कस्टडी अर्थात् तालक-ए-बिद्दत के अधिकार भी प्रदान करता है।
iii.जमानत: विधेयक यह प्रावधान करता है कि मजिस्ट्रेट महिला की सुनवाई करने के बाद ही आरोपी को जमानत दे सकता है (जिसके खिलाफ तलाक दिया गया है), अगर मजिस्ट्रेट संतुष्ट है कि जमानत देने के लिए उचित आधार हैं, तो जमानत दी जाएगी।
iv.भत्ता और कस्टडी: एक मुस्लिम महिला जिसे तलाक दिया गया है, वह अपने लिए और अपने आश्रित बच्चों के लिए अपने पति से निर्वाह भत्ता लेने की हकदार है, जिसका निर्धारण मजिस्ट्रेट द्वारा किया जाएगा। मुस्लिम महिलाएं अपने नाबालिग बच्चों को हिरासत में ले सकती हैं। लेकिन हिरासत का तरीका मजिस्ट्रेट द्वारा निर्धारित किया जाएगा।
v.अपराध की क्षमा: महिला के अनुरोध पर, मजिस्ट्रेट द्वारा अपराध को माफ़ किया जा सकता है।

केंद्र ने 17 आइकोनिक टूरिस्ट साइट्स की सूची की समीक्षा करने की योजना बनाई है:
केंद्रीय संस्कृति और पर्यटन मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने 17 प्रतिष्ठित पर्यटक स्थलों की सूची की समीक्षा के लिए एक पैनल गठित करने का आदेश दिया। केंद्र सरकार की आइकोनिक टूरिस्ट साइट्स को विकसित करने की योजना है।
प्रमुख बिंदु:
i.पृष्ठभूमि: जुलाई 2018 में, तत्कालीन पर्यटन मंत्री के.जे.अल्फोंस ने कहा कि साइटों को विकसित किया जाएगा। बजट 2019-20 में, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने उल्लेख किया कि सरकार अन्य पर्यटन स्थलों के लिए एक मॉडल के रूप में काम करने के लिए साइटों को विश्व स्तरीय पर्यटन स्थलों में विकसित करेगी।
ii.17 प्रतिष्ठित पर्यटक स्थल: वे उत्तर प्रदेश में ताजमहल और फतेहपुर सीकरी, महाराष्ट्र में अजंता और एलोरा, दिल्ली में लाल किला, कुतुब मीनार और हुमायूं का मकबरा, गोवा में कोलवा, राजस्थान में आमेर का किला, गुजरात में सोमनाथ और धोलावीरा, मध्य प्रदेश में खजुराहो, कर्नाटक में हम्पी, तमिलनाडु में महाबलीपुरम, असम में काजीरंगा, केरल में कुमारकोम और बिहार में महाबोधि मंदिर हैं।
iii.परिवर्तन: केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने केंद्र से ओडिशा के जगन्नाथ मंदिर और कोणार्क सूर्य मंदिर को ‘प्रतिष्ठित पर्यटक स्थलों की प्रस्तावित सूची’ में शामिल करने का आग्रह किया था।

स्वदेश दर्शन योजना के तहत जैन धर्म से जुड़े स्थलों को कवर करने वाले तीर्थंकर सर्किट के विकास के लिए सरकार ने परियोजना को मंजूरी दी:
सरकार ने वर्ष 2016-17 में स्वदेश दर्शन योजना के तीर्थंकर सर्किट विषय के तहत बिहार में वैशाली, अर्राह, मसाद, पटना, राजगीर, पवापुरी, चंपापुरी के परियोजना विकास के लिए 52.39 करोड़ की मंजूरी दी है। केंद्रीय पर्यटन और पर्यटन राज्य मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल ने लोकसभा में सवाल के जवाब में यह जानकारी दी। परियोजना क्रियान्वयन के अधीन है और मंत्रालय ने परियोजना के लिए 26.19 करोड़ रूपये जारी किए हैं।
मुख्य विचार:
i.मंत्रालय ने तीर्थंकर सर्किट की पहचान स्वदेश दर्शन योजना के तहत विकास के लिए 15 विषयगत सर्किटों में से एक के रूप में की है। जैन धर्म से संबंधित देश के सभी स्थल इस सर्किट के अंतर्गत आते हैं।
ii.इस योजना के तहत ली जाने वाली परियोजनाओं की पहचान राज्य सरकारों / संघ राज्य क्षेत्र (केंद्रशासित प्रदेश) प्रशासनों के परामर्श से की जाती है और परियोजना प्रस्तावों को प्रस्तुत करने, प्रासंगिक योजना दिशानिर्देशों का पालन करने, उपयुक्त विस्तृत परियोजना रिपोर्ट प्रस्तुत करने, धन की उपलब्धता और पहले जारी किए गए धन के उपयोग के अधीन अनुमोदित हैं।
iii.स्वदेश दर्शन के बारे में:
थीमैटिक सर्किट: 2014 में पर्यटन मंत्रालय ने योजनाबद्ध और प्राथमिकता वाले तरीके से देश भर में थीमेटिक सर्किट यानी थीम आधारित टूरिस्ट सर्किट के विकास के लिए यह फ्लैगशिप योजना शुरू की।
अवधारणा: इन पर्यटक सर्किटों को एकीकृत तरीके से उच्च पर्यटक मूल्य, प्रतिस्पर्धा और स्थिरता के सिद्धांतों पर विकसित किया जा रहा है।
फंडिंग: यह 100% केंद्र पोषित योजना है। इसमें केंद्रीय सार्वजनिक उपक्रमों (सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों) और कॉरपोरेट क्षेत्र की कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी (सीएसआर) पहल के तहत स्वैच्छिक वित्त पोषण का भी प्रावधान है।
वर्तमान स्थिति: इसके तहत विकास के लिए अब तक पहचाने गए 15 विषयगत सर्किट बौद्ध, उत्तर-पूर्वी भारत, तटीय, हिमालयी, कृष्णा, रेगिस्तान, ईको, वन्यजीव, आदिवासी, ग्रामीण, सूफी, तीर्थंकर, आध्यात्मिक, रामायण, और विरासत हैं।

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने नई दिल्ली में अटल सामुदायिक नवाचार केंद्र का शुभारंभ किया:Atal Community Innovation Centre31 जुलाई, 2019 को, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने नई दिल्ली में अटल सामुदायिक नवाचार केंद्र (एसीआईसी) का शुभारंभ किया। एसीआईसी का उद्देश्य समाज की सेवा करने के लिए समाधान-चालित डिजाइन सोच के माध्यम से नवाचार की भावना को प्रोत्साहित करना है। यह अटल इनोवेशन मिशन (एआईएम) की एक नई पहल है।
i.एसीआईसी एआईएम के माध्यम से प्रत्यक्ष धन के अलावा निजी और सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों द्वारा सीएसआर (कॉर्पोरेट सामाजिक दायित्व) के वित्तपोषण लिए एक चैनल के रूप में कार्य करेगा।
ii.एआईएम का अधिकतम अनुदान सहायता प्रपत्र 2.5 करोड़ रुपये तक होगा।
iii.एक नया लोगो, पोस्टर, ब्रोशर और वीडियो, एसीआईसी वेबसाइट और एप्लिकेशन पोर्टल भी लॉन्च किया गया।

छोटे व्यापारियों के लिए सरकार द्वारा राष्ट्रीय व्यापारी कल्याण बोर्ड घोषित किया गया:
व्यापारियों के लिए धन की उपलब्धता में सुधार और अनुपालन बोझ को कम करने के लिए, ‘राष्ट्रीय व्यापारी कल्याण बोर्ड’ की स्थापना वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय द्वारा की जानी है, जैसा कि प्रधानमंत्री ने अप्रैल 2019 में अपने चुनाव अभियान के दौरान व्यापारियों को संबोधित करते हुए कहा था।
प्रमुख बिंदु:
i.बोर्ड में उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के वरिष्ठ अधिकारी के नेतृत्व में 15 सदस्य शामिल होंगे (5 तकनीकी पहलुओं से संबंधित मामलों की विशेष जानकार और व्यापार संघ से शेष)।
ii.बोर्ड के अन्य कार्य हैं, सरकार को व्यापारियों के संबंध में कानूनों को सरल बनाने और सामाजिक सुरक्षा लाभ जैसे कि बीमा, पेंशन, स्वास्थ्य सेवा आदि के बारे में सलाह देना।
iii.25 करोड़ लोगों का जीवन घरेलू व्यापार से जुड़ा हुआ है, हर साल 15% बढ़ रहा है।
पेंशन:
श्रम मंत्रालय द्वारा खुदरा विक्रेताओं और व्यापारियों के लिए 60 वर्ष की आयु के बाद 3000 रुपये की मासिक पेंशन की घोषणा की गई थी और इस योजना से देश में 3 करोड़ स्वरोजगार श्रमिकों को लाभ होने की उम्मीद है।
डीपीआईआईटी:
औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग (डीआईपीपी) को जनवरी 2019 में उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के रूप में फिर से नामित किया गया और कल्याणकारी व्यापारियों और उनके कर्मचारियों की अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गई।
स्थापित- 1995
मंत्रालय जिम्मेदार- वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय, भारत सरकार

डीडीयूजीजेवाई प्रमुख योजना के लक्ष्य हासिल हुए:
विद्युत, नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री आर.के.सिंह ने घोषणा की कि दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना (डीडीयूजीजेवाई) योजना, जो अपने लॉन्च से चार साल पूरे कर चुकी है, ने अपने सभी लक्ष्य को प्राप्त कर लिया है जो निर्धारित किए गए थे और इसके समापन के निकट है। यह घोषणा उनके द्वारा ऑल इंडिया रेडियो (एआईआर) को दिए एक साक्षात्कार में की गई थी।
प्रमुख बिंदु:
i.भारत में 26 मिलियन घरों का विद्युतीकरण किया गया है जो समकालिक ग्रिड वाला एकमात्र देश है।
ii.बिजली चोरी को कम करने के लिए 2022 तक स्मार्ट प्रीपेड मीटर की शुरुआत की जाएगी। यह मीटर मानव हस्तक्षेप को कम करेगा।
डीडीयूजीजेवाई:
यह ग्रामीण भारत में निरंतर बिजली की आपूर्ति करने के लिए बनाई गई योजना है और यह योजना मौजूदा राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना की जगह लेगी।
लॉन्च की गई- नरेंद्र मोदी द्वारा 2015 में
जिम्मेदार मंत्रालय – बिजली मंत्रालय

ठोस अपशिष्ट के प्रसंस्करण में छत्तीसगढ़ और तेलंगाना शीर्ष पर:
पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (एमओंईएफसीसी) ने बताया कि छत्तीसगढ़ और तेलंगाना ने नवंबर 2018 तक ठोस कचरे का सबसे बड़ा प्रतिशत संसाधित किया। छत्तीसगढ़ ने कुल 601,885 एमटीपीए (मीट्रिक टन प्रति वर्ष) कचरे का उत्पादन किया और 84% संसाधित किया गया जबकि तेलंगाना में कुल 2,690,415 एमटीपीए उत्पन्न हुआ और 73% संसाधित किया गया
प्रमुख बिंदु:
i.बड़े राज्यों में, पश्चिम बंगाल और जम्मू-कश्मीर ने उनके द्वारा उत्पन्न कुल कचरे का सबसे छोटा प्रतिशत – क्रमशः 5% और 8% संसाधित किया था।
ii.महाराष्ट्र ने ठोस कचरे की सबसे बड़ी मात्रा- 8,22,38,050 एमटीपीए उत्पन्न की और इसे 44% संसाधित किया।
iii.दिल्ली, गुजरात और कर्नाटक में क्रमशः 38,32,500, 37,02,925 और 36,50,000 एमटीपीए उत्पन्न हुए और 55%, 57% और 32% संसाधित हुए।
iv.आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा 2016-17 के लिए तैयार एक वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, ठोस अपशिष्ट का उत्पादन लगभग 1,50,000 टन/ दिन थी। इसमें से 90% (1,35,000 मीट्रिक टन / दिन) एकत्र किया गया था। एकत्र कचरे में से, 20% (27,000 मीट्रिक टन / दिन) संसाधित किया गया और शेष 80% (10,8000 एमटी/ दिन) डंप साइटों पर चला गया।
V.2016-17 में, 7.17 मिलियन टन खतरनाक अपशिष्ट का उत्पादन किया गया था और 3.68 मिलियन टन (49.46%) का पुनर्नवीनीकरण किया गया था।
एमओंईएफसीसी के बारे में:
♦ मुख्यालय: नई दिल्ली
♦ स्थापित: 1985
♦ मंत्री प्रभारी: प्रकाश जावड़ेकर

INTERNATIONAL AFFAIRS

क्यूएस बेस्ट स्टूडेंट सिटीज रैंकिंग 2019 में लंदन को वर्ल्ड बेस्ट स्टूडेंट सिटी का नाम दिया गया:London named as World's Best Student Cityक्वाक्कारेली साइमंड्स (क्यूएस) द्वारा संकलित क्यूएस बेस्ट स्टूडेंट सिटीज रैंकिंग 2019 में, यूनाइटेड किंगडम (यूके) की राजधानी, लंदन, एक वैश्विक शिक्षा कंसल्टेंसी, को दूसरे वर्ष के लिए छात्रों के लिए दुनिया के सर्वश्रेष्ठ शहर के रूप में नामित किया गया था। टोक्यो और मेलबर्न को क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर रखा गया।
प्रमुख बिंदु:
i.श्रेणियाँ: रैंकिंग 6 श्रेणियों में प्रत्येक शहर के प्रदर्शन पर आधारित थी- शीर्ष रैंक वाले विश्वविद्यालयों की संख्या, छात्रों से बने शहर की आबादी का अनुपात, प्रस्ताव पर जीवन की गुणवत्ता, स्नातक के बाद नौकरी के अवसर उपलब्ध, सामर्थ्य और छात्रों की स्वयं की प्रतिक्रिया।
ii.भारतीय छात्र: लंदन में अध्ययन के लिए जाने वाले भारत के छात्रों की संख्या 2017-18 में 20% की वृद्धि दर से 2016-17 में 4,545 से बढ़कर 2017-18 में 5,455 हो गई।
iii.भारतीय शहर: बेंगलूरु 81 वें स्थान पर और मुंबई 85 वें स्थान पर, दिल्ली 113 वें स्थान पर और चेन्नई सूची में कुल 120 शहरों में से 115 वें स्थान पर रहा।
क्यूएस बेस्ट स्टूडेंट सिटीज़ रैंकिंग 2019 में टॉप 10:

रैंक सिटी
1 लंदन, यूके
2 टोक्यो, जापान
3 मेलबोर्न, ऑस्ट्रेलिया
4 म्यूनिख, जर्मनी
5 बर्लिन, जर्मनी
6 मॉन्ट्रियल, कनाडा
7 पेरिस, फ्रांस
8 ज़्यूरिख, स्विट्ज़रलैंड
9 सिडनी, ऑस्ट्रेलिया
10 सियोल, दक्षिण कोरिया

क्वाक्कारेली साइमंड्स के बारे में:
♦ स्थापित: 1990
♦ संस्थापक: नुन्जियो क्वाक्कारेली

BANKING & FINANCE

आरबीआई ने एनबीएफसी और ईसीबी के माध्यम से जुटाए गए कॉरपोरेट्स के मानदंडों को सरल किया:कॉरपोरेट्स और नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियों (एनबीएफसी) के लिए सस्ते ऑफशोर फंड जुटाने के लिए एक लाभदायक तरीके के रूप में, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने इस साल दूसरी बार बाहरी वाणिज्यिक उधार (ईसीबी) के माध्यम से उठाए गए धन के मानदंडों में ढील दी है।
एनबीएफसी और कॉरपोरेट्स के सामने समस्याएँ:
पिछले 10 महीनों में कई कॉरपोरेट्स और एनबीएफसी को इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग और फाइनेंशियल सर्विसेज (आईएल एंड एफ एस) के पतन के कारण सितंबर 2018 में तरलता की कमी का सामना करना पड़ा है। एनबीएफसी में पर्याप्त तरलता एक बहुत बड़ी समस्या बन गई है क्योंकि ऋण जोखिम की अपनी धारणा के कारण वे बहुत अधिक लागत पर पूंजी प्राप्त कर रहे हैं।
छुट:
हितधारकों के फीडबैक फॉर्म के आधार पर और ईसीबी ढांचे को उदार बनाने की दृष्टि से, अब अंत-उपयोग प्रतिबंधों में छूट दी गई है और सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों में कार्यशील पूंजी की आवश्यकताओं के लिए और रुपये के ऋणों के पुनर्भुगतान के लिए धन की अनुमति है।
ऋणों का पुनर्भुगतान:
ईसीबी की 10 वर्ष की न्यूनतम औसत परिपक्वता अवधि का उपयोग कार्यशील पूंजी और सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। उपरोक्त परिपक्वता के लिए किसी संगठन (किसी संगठन / व्यक्ति से उधार लिया गया उधार) पर उधार देना और एनबीएफसी के लिए अंतिम उपयोग की भी अनुमति है।
पूंजीगत व्यय के लिए ऋणों का पुनर्भुगतान:
पूंजीगत व्यय के लिए घरेलू तौर पर लिए गए ऋणों के पुनर्भुगतान के लिए 7 वर्ष की औसत परिपक्वता अवधि के साथ एनबीएफसी और कॉरपोरेट ईसीबी से न्यूनतम आय प्राप्त कर सकते हैं।
-विनिर्माण और अवसंरचना में पूंजीगत व्यय के लिए, कॉर्पोरेट्स को ईसीबी का उपयोग करने की अनुमति दी जाती है, अगर वे एसएमए-2 (स्पेशल मेंशन अकाउंट) या एनपीए (गैर-निष्पादित परिसंपत्ति) के रूप में वर्गीकृत किए गए ऋणों को घरेलू निपटान में चुकता करते हैं।
-ऋणदाताओं द्वारा ऋण खातों में तनाव को पहचानने के लिए स्ट्रेस एसेट्स के रिज़ॉल्यूशन के लिए आरबीआई के प्रूडेंशियल फ्रेमवर्क के अनुसार यह वर्गीकरण करना होगा।
पूंजीगत व्यय के अलावा अन्य ऋणों की चुकौती:
ऋण की चुकौती के लिए और एनबीएफसी द्वारा ऋण देने के लिए न्यूनतम परिपक्वता अवधि 10 वर्ष होनी चाहिए।
प्रमुख बिंदु:
कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट, अपेक्षाकृत स्थिर मुद्रा, और विकसित अर्थशास्त्र में कम ब्याज दरों के कारण ईसीबी मार्ग को इस समय खुला माना जाता है।

पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस ने विश्व बैंक समूह के सदस्य आईएफसी से $ 100 मिलियन (लगभग 690 करोड़ रूपये) जुटाए:PNB Housing Finance29 जुलाई,2019 को, भारतीय सार्वजनिक लिमिटेड हाउसिंग फाइनेंस कंपनी पीएनबी (पंजाब नेशनल बैंक) हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड ने आवास परियोजनाओं में खरीदारों के लिए ऋण देने के उद्देश्य से अंतर्राष्ट्रीय वित्त निगम (आईएफसी, वर्ल्ड बैंक समूह के सदस्य) से $ 100 मिलियन (लगभग 690 करोड़ रुपये) जुटाए हैं।
प्रमुख बिंदु:
i.यह पहली ईसीबी (बाहरी वाणिज्यिक उधारी) परिव्यय भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा चालू वित्त वर्ष (2019-20) के लिए स्वचालित मार्ग के तहत किया गया था।
ii.केंद्रीय बैंक ने रूट के जरिए ओवरसीज से सालाना 750 मिलियन डॉलर तक ईसीबी उधार लेने की अनुमति दी है।
iii.पीएनबी हाउसिंग द्वारा सुरक्षित क्रेडिट की लाइन तरलता को बढ़ाएगी और कंपनी की दीर्घकालिक परिसंपत्ति-देयता प्रबंधन स्थिति को संतुलित करेगी।
iv.आईएफसी के लिए, यह साझेदारी छोटे शहरों और शहरों में और विस्तार करने में मदद करेगी और कम आय वाले ग्राहकों को घर खरीदने के लिए ऋण देने और उनके जीवन स्तर को बढ़ाने में मदद करेगी।
V.आईएफसी ने पहले ही पीएनबी हाउसिंग को विदेशी मुद्रा वित्तपोषण बढ़ाने और भारत में पहली बार ग्रीन बिल्डिंग के निर्माण के लिए ग्रीन बांड जारी करने में मदद की थी।
पीएनबी हाउसिंग के बारे में:
स्थापित: 11 नवंबर 1988
मुख्यालय: नई दिल्ली
प्रबंध निदेशक: संजय गुप्ता
आईएफसी के बारे में:
मुख्यालय: वाशिंगटन, डी.सी., यूएस
स्थापित: 20 जुलाई 1956
सीईओ: फिलिप ले होउरौ

BUSINESS & ECONOMY

2018-19 में पिछले 6 वर्षों में 64.37 बिलियन डॉलर की राशि के दौरान एफडीआई प्रवाह में 79% की वृद्धि दर्ज की गई:
डिपार्टमेंट ऑफ प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री एंड इंटरनल ट्रेड (डीपीआईआईटी) की वार्षिक रिपोर्ट 2018-19 के अनुसार जो वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के अधीन है, विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (एफडीआई) प्रवाह पिछले 6 वर्षों के दौरान 2013-14 में $ 36.05 बिलियन से बढ़कर 2018-19 में $ 64.37 बिलियन हो गया, जिसमें 79% की वृद्धि दर्ज की गई।
प्रमुख बिंदु:
i.पिछले पांच वर्षों में $ 286 बिलियन का एफडीआई प्राप्त हुआ।
ii.एफडीआई प्रवाह 2014-15 में 45.14 बिलियन डॉलर, 2015-16 में 55.55 बिलियन डॉलर और 2017-18 में 60.98 बिलियन डॉलर था।

भारत के सी-17 विमानों का समर्थन करने के लिए यूएस ने $ 670 मिलियन विदेशी सैन्य बिक्री को अंतिम रूप दिया:
26 जुलाई, 2019 को, संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) ने इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में मानवीय तत्परता और आपदा राहत (एचए / डीआर) सहायता प्रदान करने के लिए परिचालन तत्परता और क्षमता बढ़ाने के लिए भारत के सी -17 सैन्य परिवहन विमान का समर्थन करने के लिए $ 670 मिलियन की विदेशी सैन्य बिक्री को मंजूरी दी।
i.प्रस्तावित बिक्री के कार्यान्वयन के लिए भारत में अमेरिकी सरकार के 1 प्रतिनिधी और 23 ठेकेदार प्रतिनिधियों के काम की आवश्यकता है।
यूएसए के बारे में:
♦ राजधानी: वाशिंगटन, डीसी
♦ मुद्रा: यूएस डॉलर
♦ राष्ट्रपति: डोनाल्ड ट्रम्प

आईआईटी खड़गपुर, टाटा मेडिकल सेंटर ने कैंसर इमेजिंग के व्यापक डिजिटल आर्काइव बनाने के लिए हाथ मिलाया:
मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एचआरडी) के राष्ट्रीय डिजिटल लाइब्रेरी पहल (एनडीएलआई) के तहत, आईआईटी खड़गपुर (भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान) ने कैंसर रोगियों के लिए एक इमेज डेटा बैंक स्थापित करने की परियोजना के लिए टाटा मेडिकल सेंटर के साथ हाथ मिलाया है। विशेष रूप से, रेडियो ऑन्कोलॉजी (एक चिकित्सा विशेषता जिसमें देश में कैंसर का इलाज करने के लिए विकिरण का नियंत्रित उपयोग शामिल है), जिसे कोम्प्रेहेंसिव डिजिटल आर्काइव ऑफ़ कैंसर इमेजिंग (छवि) कहा जाता है।
प्रमुख बिंदु:
i.छवि परियोजना इमेजिंग से संबंधित अनुसंधान को संबोधित करेगी और इमेज बैंकिंग के क्षेत्र में महत्व के चिकित्सा सवालों के जवाब देने के लिए कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) और गहन शिक्षण विधियों का उपयोग करने की दिशा में भारत का पहला कदम होगा।
ii.सफल होने के बाद इसको चिकित्सा छवियों को स्थापित करने के लिए, एक बड़े स्तर तक बढ़ाया जाएगा और यह फिर एआई के साथ संयुक्त काल्पनिक रूप से अधिक लोगों का इलाज करने के साथ-साथ व्यक्तिगत लक्षणों के आधार पर लक्षित चिकित्सा प्रदान करेगा।
iii.दोनों संस्थानों ने इस परियोजना को बढ़ाने के लिए 26 जुलाई 2019 को “स्ट्रक्चरिंग ए कॉलेबोरेटिव नेशनल इमेज बैंकिंग प्रोग्राम” नामक एक कार्यशाला का आयोजन किया।
टाटा मेडिकल सेंटर के बारे में:
गठन: मई 16, 2011
मुख्यालय: कोलकाता
एनडीएलआई के बारे में:
i.यह सूचना और संचार प्रौद्योगिकी के माध्यम से शिक्षा पर राष्ट्रीय मिशन के तत्वावधान में मानव संसाधन विकास मंत्रालय की एक परियोजना है।
ii.इस पहल का उद्देश्य देश के सभी नागरिकों को डिजिटल शिक्षा संसाधनों को उपलब्ध कराना है, ताकि वे शिक्षा को सशक्त, प्रेरित और प्रोत्साहित कर सकें। इसे आईआईटी खड़गपुर द्वारा विकसित किया गया है।

इन्फोसिस ने अपना नया साइबर डिफेंस सेंटर रोमानिया में लॉन्च किया:Cyber Defence Center in Romaniaबेंगलुरु स्थित भारतीय बहुराष्ट्रीय निगम, इंफोसिस ने अपने नए साइबर रक्षा केंद्र को बुखारेस्ट, रोमानिया में खोला है। यह केंद्र इंफोसिस डिजिटल इनोवेशन सेंटर द्वारा दी गई सेवाओं का विस्तार है, जो पहले बुखारेस्ट में खोली गई थी।
i.समर्थन: केंद्र अपने डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन ड्राइव पर यूरोपीय और वैश्विक व्यवसायों का समर्थन करने के लिए एंड-टू-एंड, रियल-टाइम, 24 * 7 साइबर सुरक्षा निगरानी और संरक्षण सेवाओं की पेशकश करेगा।
ii.सेवाएं: केंद्र द्वारा प्रमाणित और उच्च कुशल साइबर सुरक्षा पेशेवरों द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं में सुरक्षा निगरानी, ​​प्रबंधन और बचाव, खतरे को पहचानना, सुरक्षा विश्लेषण, घटना की खोज और प्रतिक्रिया शामिल हैं।
iii.विस्तार: नया केंद्र खोलने से, इन्फोसिस रोमानिया में अपनी मौजूदा टीम का विस्तार करके स्थानीय प्रतिभा आधार की भर्ती करेगा और अपने वर्तमान कर्मचारियों और नए दोनों के लिए उन्नत प्रशिक्षण में निवेश करेगा।
iv.कारण: रोमानिया यूरोपीय साइबरसिटी टैलेंट मार्केट में एक स्थापित लीडर है इसलिए इसे इन्फोसिस द्वारा इसके साइबर स्पेस रिसर्च और इनोवेशन क्षमता को विकसित करने के लिए चुना गया है।
V.लाभ: साइबर रक्षा केंद्र उन्नत साइबर हमलों को रोकने, पता लगाने और प्रतिक्रिया करने के तरीके से उद्यमों की मदद करते हैं, जिससे वे उनकी डिजिटल यात्रा में सुरक्षित रूप से बड़े पैमाने पर सक्षम हो सकें।
इन्फोसिस के बारे में:
स्थापित : 7 जुलाई 1981 को
अध्यक्ष: नंदन नीलेकणि
एमडी और सीईओ: सलिल एस.पारेख
रोमानिया के बारे में:
राजधानी: बुखारेस्ट
मुद्रा: रोमानियाई ल्यू
राष्ट्रपति: क्लाउस आयोहनीस
प्रधान मंत्री: वोरिका डांकिला

AWARDS & RECOGNITIONS

बॉलीवुड के एडवोकेट दिनेश तिवारी को सोसायटी ग्लोबल इंडियन आइकॉन अवार्ड 2019 से सम्मानित किया गया:बॉलीवुड के एडवोकेट दिनेश तिवारी को सोसाइटी मैगज़ीन द्वारा लंदन में आयोजित एक इवेंट में कानून के क्षेत्र में उनकी उत्कृष्टता के लिए ‘द सोसायटी ग्लोबल इंडियन आइकन अवार्ड 2019’ से सम्मानित किया गया। उन्हें गोपीचंद हिंदुजा द्वारा शबाना आज़मी और जावेद अख्तर की उपस्थिति में यह पुरस्कार प्रदान किया गया, जो इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे।
i.उन्होंने अपने करियर की शुरुआत वर्ष 1997 में महान राम जेठमलानी के मार्गदर्शन में की थी।
ii.उन्होंने कई उच्च प्रोफ़ाइल व्यक्तियों के साथ-साथ रिलायंस इंडस्ट्रीज, सिटी लिमोसिन, नेशनल स्पॉट एक्सचेंज लिमिटेड, हाई ग्राउंड एंटरप्राइज सहित कॉर्पोरेट संस्थाओं का प्रतिनिधित्व किया है।

विंगसूट स्काइडाइव जंप करने वाले विंग कमांडर तरुण चौधरी आईएएफ के पहले पायलट बने:Tarun Chaudhri perform Wingsuit Skydive Jump21 जुलाई, 2019 को, भारतीय वायु सेना (आईएएफ) विंग कमांडर तरुण चौधरी ने विंगसूट स्काईडाइव जम्प प्रदर्शन करने वाले पहले पायलट बनकर इतिहास रच दिया। उन्होंने कारगिल दिवस के समारोह के दौरान राजस्थान के जोधपुर में वायु सेना स्टेशन पर एमआई-17 वी5 हेलीकॉप्टर से 8500 फीट की छलांग लगाई।
i.यह पहला मौका है जब भारतीय वायुसेना के एक पायलट ने उसी हेलीकॉप्टर के साथ विंगसूट स्काईडाइव जम्प किया, जिसे उसने अभी-अभी उड़ाया है।
ii.एमआई-17 वी5: यह एक सैन्य परिवहन संस्करण है, जो आधुनिक एवियोनिक्स और ग्लास कॉकपिट इंस्ट्रूमेंटेशन से सुसज्जित है। रोटरी-विंग विमान में अत्याधुनिक नौवहन उपकरण, एवियोनिक्स, मौसम रडार हैं।
iii.कारगिल विजय दिवस हर साल 26 जुलाई को कारगिल युद्ध के नायकों के सम्मान में मनाया जाता है। कारगिल युद्ध भारत और पाकिस्तान के बीच 60 दिनों से अधिक समय तक लड़ा गया था। यह 26 जुलाई 1999 को समाप्त हुआ जहां भारत ने सफलतापूर्वक उन उच्च चौकियों की कमान संभाली जो पाकिस्तानी घुसपैठियों के कब्जे में थी।
आईएएफ के बारे में:
स्थापित: 8 अक्टूबर 1932
मुख्यालय: नई दिल्ली
वायु सेनाध्यक्ष (सीएएस): बीरेंद्र सिंह

APPOINTMENTS & RESIGNS

राजीव कुमार, झारखंड कैडर के आईएएस अधिकारी को नए वित्त सचिव के रूप में नियुक्त किया गया:Rajiv Kumarमंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति (एसीसी), भारत सरकार के अनुसार, राजीव कुमार (झारखंड कैडर के 1984 बैच के आईएएस अधिकारी) को नए वित्त सचिव के रूप में नियुक्त किया गया है। उन्होंने सुभाष चंद्र गर्ग की जगह ली है, जिन्होंने बिजली सचिव के रूप में कार्यभार संभाला है।
i.राजीव कुमार वर्तमान में वित्तीय सेवा सचिव के रूप में सेवारत हैं।
ii.उन्होंने कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग में स्थापना अधिकारी के रूप में भी काम किया।
iii.उन्होंने एसीसी द्वारा किए गए पदोन्नति और नियुक्ति प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करने सहित कई पहलों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
iv.उन्हें बैंकिंग क्षेत्र में कई सुधारों का प्रदर्शन करके और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (पीएसबी) में पूंजी जलसेक की एक रिकॉर्ड राशि प्रदान करने का श्रेय दिया जाता है।
V.उन्हें एमएसएमई (सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों) क्षेत्र के लिए ’59 मिनट में पीएसबी ऋण’ योजना शुरू करने और लागू करने के लिए जाना जाता है।
Vi.वित्त सचिव (एफएस) वित्त मंत्रालय का प्रशासनिक प्रमुख होता है। यह पद भारत सरकार के सचिव पद के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी के पास होता है।
Vii.वित्त मंत्रालय के पाँच विभागों में एफएस सबसे वरिष्ठ नौकरशाह है, जिसमें आर्थिक मामले, राजस्व, व्यय, वित्तीय सेवाएँ और निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग (डीआईपीएएम) शामिल हैं।

आईटीबीपी के डीजी एस.एस.देसवाल को एनएसजी का अतिरिक्त प्रभार दिया गया:
भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के महानिदेशक (डीजी) एस.एस.देसवाल को आतंकवाद विरोधी राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के महानिदेशक के रूप में कार्य करने का अतिरिक्त प्रभार दिया गया। वह 1984 बैच के भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारी सुदीप लखटकिया, तेलंगाना कैडर के अधिकारी, की जगह लेंगे।
i.एस.एस.देसवाल हरियाणा कैडर के 1984 बैच के भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) अधिकारी हैं।
एनएसजी के बारे में:
♦ गठित: 1984
♦ मुख्यालय: नई दिल्ली
आईटीबीपी के बारे में:
♦ मोटो: शौर्य – दृढ़ता – कर्म निष्ठा
♦ गठित: 24 अक्टूबर, 1962
♦ मुख्यालय: नई दिल्ली

दिनेश भाटिया को समवर्ती रूप से पराग्वे गणराज्य में राजदूत के रूप में नियुक्त किया गया:
अर्जेंटीना गणतंत्र में भारत के राजदूत श्री दिनेश भाटिया को पराग्वे गणराज्य के भारत के अगले राजदूत के रूप में नियुक्त किया गया है।
दिनेश भाटिया, भारतीय वन सेवा (आईएफएस) -1992 बैच के अधिकारी का आवास ब्यूनस आयर्स में स्थित होगा।
पराग्वे:
यह अर्जेंटीना, ब्राज़ील और दक्षिण अमेरिका के बोलिविया के बीच स्थित एक देश है।
राजधानी- आसीसोन
मुद्रा- परागुयण गुआरानी

SCIENCE & TECHNOLOGY

सरकार ने माइक्रोडॉट पैच के साथ वाहन चोरी को रोकने की योजना बनाई है:Govt plans to prevent vehicle theft with microdot patches24 जुलाई, 2019 को, केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (एमओंआरटीएच) ने केंद्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 में संशोधन करने के लिए एक मसौदा अधिसूचना जीएसआर 521 (ई) जारी की है। यह संशोधन मोटर वाहनों और उनके भागों के लिए यह अनिवार्य बना देगा कि उनके साथ अदृश्य सूक्ष्म डॉट्स चिपकाए जाए जिन्हें एक पराबैंगनी प्रकाश स्रोत से पहचाना जा सकता है।
प्रमुख बिंदु:
i.ये माइक्रो डॉट्स एआईएस (मोटर वाहन उद्योग मानक) 155 आवश्यकताओं का अनुपालन करते हैं।
ii.वैश्विक रूप से उपयोग की जाने वाली माइक्रोडॉट तकनीक में शरीर और वाहन या किसी अन्य मशीन पर सूक्ष्म डॉट्स का छिड़काव किया जाता है। यह एक विशिष्ट पहचान देगा और इसे क्षतिग्रस्त किए बिना वाहन या भाग से हटाया नहीं जा सकता है।
iii.इस तकनीक की मदद से, केंद्र सरकार का उद्देश्य वाहनों की चोरी का मुकाबला करना और नकली स्पेयर पार्ट्स के उपयोग पर अंकुश लगाना है।
सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के बारे में:
स्थापित: जुलाई 1942
मुख्यालय: नई दिल्ली
राज्य मंत्री: मनसुख एल.मंडाविया
केंद्रीय मंत्री: नितिन गडकरी

वैज्ञानिकों ने सुपरबग कवच में एक आणविक ढांचा तैयार किया:
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (आईआईटी) कानपुर और लखनऊ स्थित सेंट्रल ड्रग रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीडीआरआई) के शोधकर्ताओं ने सुपरबग्स (एक बैक्टीरिया जो दवाओं के लिए प्रतिरोधी है और जिसका 2050 तक दुनिया भर में 10 मिलियन लोगों को मारने का अनुमान है) को नष्ट करने के लिए एक आणविक ढांचा तैयार किया है।
i.यह ढांचा दवाओं को उनके संपर्क के बाद कीटाणुओं को प्रभावित करने में मदद करता है, इस प्रकार उन्हें गुणा करने से रोकता है।
प्रमुख बिंदु:
वैज्ञानिकों ने स्टैफिलोकोकस ऑरियस, बैक्टीरिया को नथुने ऊपरी श्वसन पथ में और लगभग 30% लोगों की त्वचा पर पाया। डिज़ाइन किए गए अणु 20 मिनट के लिए ऊर्जा उत्पादन को रोकते हैं जिससे बैक्टीरिया की विभाजित होने और गुणा होने की क्षमता रुक जाती है।
i.यह गाइरेस के उत्पादन को रोकता है जो बैक्टीरिया के अस्तित्व और गुणन के लिए आवश्यक है।
ii.गाइरेस दो प्रकार के होते हैं- गाइरेस ए और गाइरेस बी।

ENVIRONMENT

दुनिया का सबसे छोटा जीवाश्म बंदर ‘पार्विमिको मैटरदेई’ अमेज़न के जंगलों में पाया गया:
मेरिका (संयुक्त राज्य अमेरिका) में ड्यूक विश्वविद्यालय और पेरू में नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ पीयूरा के नेतृत्व में वैज्ञानिकों की एक टीम ने अमेज़ॅन के जंगलों में दुनिया के सबसे छोटे बंदर के जीवाश्मों की खोज की है। टीम को 18 मिलियन वर्ष पुराने जीवाश्म दांत मिले हैं, जो एक नई प्रजाति के छोटे बंदर से संबंधित है। टीम ने पशु को ‘पार्विमिको मैटरदेई’ नाम दिया है।
प्रमुख बिंदु:
i.दक्षिण-पूर्वी पेरू में रियो ऑल्टो माद्रे डी डिओस नदी के तट पर बलुआ पत्थर में जीवाश्म पाया गया। पत्थर से इसे अलग करने के लिए, शोधकर्ताओं ने पत्थरों के टुकड़ों को खोदकर बोरियों में डाला और उन्हें पानी में भिगोने के लिए छोड़ दिया। बाद में, पत्थरों (दांत, जबड़े, और हड्डियों के टुकड़े) में दफन जीवाश्मों को अलग कर दिया।
ii.ह्यूमन इवॉल्यूशन जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, यह जीवाश्म बहुत महत्वपूर्ण है और इसकी मदद से, बंदरों के बीच 15 मिलियन (1.5 मिलियन) वर्ष के जीवाश्म रिकॉर्ड में अंतर पाया जा सकता है।
iii.टीम को चूहे, चमगादड़ और कई अन्य जानवरों के जीवाश्म भी मिले, जिनमें बंदर के दांत भी थे, जिनका कुल वजन 2000 पाउंड (लगभग 1 किलोग्राम) था।

SPORTS

400 मीटर की बाधा दौड़ में 16 साल का रिकॉर्ड, यूएस नेशनल चैंपियनशिप के दौरान दलीला मुहम्मद ने तोडा:Dalilah Muhammad29 वर्षीय दलीला मुहम्मद ने 2019 में यूएसए ट्रैक एंड फील्ड (यूएसएटीएफ) आउटडोर चैंपियनशिप 2019 में महिलाओं की 400 मीटर बाधा दौड़ में विश्व रिकॉर्ड बनाया, जिसे 2003 में रूस की यूलिया पिकोन्किना द्वारा बनाया गया था। यह कार्यक्रम डेस मोइनेस लोआ, संयुक्त राज्य अमेरिका में ड्रेक स्टेडियम में आयोजित किया गया था।
i.उन्होंने 52.20 सेकंड में 52.34 सेकंड के पिछले रिकॉर्ड को तोड़कर जीत हासिल की।
संयुक्त राज्य अमेरिका:
राजधानी- वाशिंगटन डीसी
मुद्रा- अमेरिकी डॉलर
राष्ट्रपति- डोनाल्ड ट्रम्प
अमेरिकी विदेश मंत्री- माइक पोम्पिओ (माइकल रिचर्ड पोम्पेओ)

ऑस्ट्रेलिया की एलिसे पेरी टी 20 प्रारूप में 1000 रन और 100 विकेट तक पहुंचने वाले पहली क्रिकेटर बनी:Ellyse Perry of Australiaऑस्ट्रेलिया की ऑलराउंडर एलिस पेरी 1000 रन बनाने और टी 20 प्रारूप में 100 विकेट लेने वाली पहली क्रिकेटर बनी। उन्होंने 28 जुलाई, 2019 को महिला एशेज दौरे के दूसरे टी 20 में इंग्लैंड के खिलाफ टी 20 में 1000 रन बनाने की उपलब्धि हासिल की। ​​उन्होंने नवंबर 2018 में विश्व टी 20 फाइनल में इंग्लैंड की नेट साइवर को आउट करके 100 वां विकेट हासिल किया।

टीम इंडिया का अगला कोच चुनने के लिए कपिल देव सीएसी का नेतृत्व करेंगे:Kapil Devभारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान कपिल देव के नेतृत्व में क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) भारत की पुरुषों की क्रिकेट टीम के लिए अगले कोच का चयन करेगी। कपिल देव के साथ, पैनल में पूर्व महिला कप्तान शांता रंगास्वामी और पूर्व पुरुष कोच अंशुमान गायकवाड़ शामिल हैं।
i.वर्तमान कोच रवि शास्त्री को 3 अगस्त से 3 सितंबर, 2019 तक वेस्टइंडीज के दौरे के अंत तक विस्तार दिया गया था।
ii.तीनों को चयन की जिम्मेदारी सौंपने का निर्णय प्रशासकों की समिति (सीओए) ने लिया था।
iii.सीएसी केवल मुख्य कोच की नियुक्ति करेगा। अन्य सभी सहायक कर्मचारियों की नियुक्ति भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओं) राहुल जौहरी द्वारा की जाएगी।

आईसीसी के अनिल कुंबले की अगुवाई वाली क्रिकेट समिति विवादास्पद बाउंड्री काउंटबैक रूल से संबंधित मुद्दों पर चर्चा करेगी:
आईसीसी (इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल) के क्रिकेट के महाप्रबंधक ज्यॉफ एलार्डिस ने कहा कि अनिल कुंबले (पूर्व भारतीय क्रिकेटर) के नेतृत्व वाली आईसीसी क्रिकेट समिति 2019 विश्व कप फाइनल से संबंधित मुद्दों पर चर्चा करेगी, जिसमें विवादास्पद बाउंड्री काउंटबैक रूल भी शामिल है जिसने टूर्नामेंट के विजेता का फैसला किया। समिति 2020 की पहली तिमाही के दौरान बैठक करेगी।
प्रमुख बिंदु:
i.पृष्ठभूमि: न्यूजीलैंड ने विश्व कप का खिताब 2019 में इंग्लैंड के लिए बेहतर बाउंड्री काउंट (22 चौके और दो छक्के) के आधार पर खो दिया था जब मैच रेगुलेशन प्ले और बाद में सुपर ओवर के बाद मैच टाई में समाप्त हुआ।
ii.सुपर ओवर: इसे वन-ओवर एलिमिनेटर भी कहा जाता है जो सीमित ओवरों के क्रिकेट मैचों में उपयोग की जाने वाली एक टाई-ब्रेकिंग विधि है, जहाँ दोनों टीमें मैच की विजेता का निर्धारण करने के लिए छह गेंदों का एक अतिरिक्त खेल खेलती हैं।
आईसीसी के बारे में:
मुख्यालय: दुबई, संयुक्त अरब अमीरात
अध्यक्षता: शशांक मनोहर
सीईओ: मनु साहनी
स्थापित: 15 जून 1909

भारत के पूर्व बल्लेबाज और आंध्र प्रदेश के कप्तान वेणुगोपाल राव ने संन्यास की घोषणा की:Andhra Pradesh skipper Venugopal Raoवाई.वेणुगोपाल राव (37), भारत के पूर्व बल्लेबाज और आंध्र प्रदेश के कप्तान ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास ले लिया है।
मुख्य अंक:
i.उन्होंने 16 वनडे (एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय) में भारत का प्रतिनिधित्व किया और 2008 और 2014 के बीच इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में डेक्कन चार्जर्स, सनराइजर्स हैदराबाद, दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए 65 मैचों में भाग लिया। उन्होंने 2005 जुलाई को दम्बुल्ला में श्रीलंका के खिलाफ अपनी शुरुआत की।
ii.वह आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम से हैं। उन्होंने अपना आखिरी एकदिवसीय मैच 23 मई 2006 को वेस्ट इंडीज के खिलाफ बैसेटर में खेला था।

OBITUARY

प्रसिद्ध अर्थशास्त्री और आरबीआई के पूर्व डिप्टी गवर्नर सुबीर गोकर्ण का निधन हुआ:RBI deputy Governor SubirGokarnआरबीआई के पूर्व डिप्टी गवर्नर सुबीर विट्ठल गोकर्ण का 60 वर्ष की आयु में एक बीमारी के कारण निधन हो गया। उन्हें नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा 2015 में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के बोर्ड में कार्यकारी निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था। वह मुंबई, महाराष्ट्र के रहने वाले थे।
मुख्य अंक:
i.उन्होंने 2009 से 2012 तक आरबीआई डिप्टी गवर्नर के रूप में कार्य किया।
ii.वह उस समय आरबीआई के सबसे कम उम्र के गवर्नर थे।
iii.उन्होंने ब्रुकिंग्स इंस्टीट्यूशन इंडिया सेंटर में रिसर्च डायरेक्टर, स्टैंडर्ड एंड पुअर्स एशिया-चीफ के मुख्य अर्थशास्त्री और क्रेडिट रेटिंग इंफॉर्मेशन सर्विसेज ऑफ इंडिया लिमिटेड (क्रिसिल) के कार्यकारी निदेशक और मुख्य अर्थशास्त्री के रूप में कार्य किया।
भारतीय रिजर्व बैंक:
राज्यपाल- शक्तिकांत दास
मुख्यालय- मुंबई
स्थापित- 1 अप्रैल 1935, कोलकाता

IMPORTANT DAYS

27 जुलाई को 81 वां सीआरपीएफ स्थापना दिवस मनाया गया:
गृह राज्य मंत्री, नित्यानंद राय ने 81 वें सीआरपीएफ दिवस समारोह में भाग लिया और चाणक्यपुरी, नई दिल्ली में राष्ट्रीय पुलिस स्मारक में बल के शहीदों को श्रद्धांजलि दी।
प्रमुख बिंदु:
i.सीआरपीएफ के महानिदेशक, राजीव राय भटनागर ने सीआरपीएफ जवानों को याद किया जिन्होंने राष्ट्र के लिए अपना जीवन न्यौछावर कर दिया।
ii.शहीदों के परिवारों को वास्तविक समय पर सहायता प्रदान करने के एक तरीके के रूप में, राष्ट्रपति श्री राम नाथ गोविंद ने अप्रैल 2019 में वीर परिवार ऐप लॉन्च किया।
सीआरपीएफ:
27 जुलाई, 1939 को क्राउन प्रतिनिधि पुलिस के रूप में पहली बार अस्तित्व में आया।
मुख्यालय- नई दिल्ली
जिम्मेदार मंत्री- केंद्रीय गृह राज्य मंत्री, अमित शाह

STATE NEWS

स्कूल की फीस को विनियमित करने के लिए आंध्र प्रदेश असेंबली ने एजुकेशन रेगुलेटरी एंड मॉनिटरिंग कमीशन बिल 2019 पास किया:
29 जुलाई,2019 को, आंध्र प्रदेश (एपी) विधानसभा ने एजुकेशन रेगुलेटरी एंड मॉनिटरिंग कमीशन बिल 2019 पारित किया है, जिसका उद्देश्य स्कूल फीस को विनियमित करना है और इससे अभिभावकों पर बोझ कम होगा।
विधेयक आयोग की स्थापना प्रदान करता है जिसकी निगरानी एक सेवानिवृत्त उच्च न्यायालय के न्यायाधीश द्वारा की जाएगी ताकि स्कूली शिक्षा के मानकों, शिक्षकों की योग्यता, सूचना प्रकटीकरण, प्रभावी निरीक्षण, विद्यालयों की निगरानी, ​​आरटीई (शिक्षा का अधिकार) अधिनियम, 2009 के प्रावधानों को लागू किया जा सके।
प्रमुख बिंदु:
i.आरटीई अधिनियम के अनुसार, प्रत्येक निजी स्कूल को मुफ्त में 25% सीटें प्रदान करनी चाहिए और सरकार को उन फीस का भुगतान करना चाहिए। लेकिन राज्य में, पिछले 5 वर्षों से एक भी स्कूल में आरटीई अधिनियम को लागू नहीं किया गया था।
ii.2011 की जनगणना रिपोर्ट के अनुसार, आंध्र प्रदेश में वित्तीय बोझ के कारण 33% अशिक्षित लोग हैं, जो राष्ट्रीय औसत 26% से अधिक है।
iii.आयोग में 11 सदस्य होंगे, जो राष्ट्रीय स्तर के प्रमुख शिक्षाविद हैं जो किसी भी स्कूल में प्रवेश और शिक्षण की निगरानी करते हैं। स्कूलों की मान्यता और ग्रेडिंग आयोग के दायरे में होगी।
iv.उन्हें स्कूल प्रबंधन को चेतावनी देने, जुर्माना लगाने और यहां तक ​​कि स्कूलों को बंद करने का आदेश देने का भी अधिकार है।
आंध्र प्रदेश के बारे में:
राजधानी: अमरावती
मुख्यमंत्री: वाई एस जगनमोहन रेड्डी
राज्यपाल: बिस्वभूषण हरिचंदन

अयोध्या में भगवान राम की 251 मीटर ऊंची प्रतिमा लगाएगी यूपी सरकार जो दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा होगी:251-metre-tall statue of Lord Ram in Ayodhyaउत्तर प्रदेश (यूपी) सरकार ने अयोध्या में भगवान राम की एक 251 मीटर ऊंची प्रतिमा स्थापित करने का निर्णय लिया है, जो सरदार वल्लभभाई पटेल की गुजरात में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी (182-मीटर) द्वारा बनाए गए रिकॉर्ड को पार करते हुए दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा बन जाएगी। अयोध्या में सरयू नदी के पास 100 हेक्टेयर भूमि पर भगवान राम की प्रतिमा स्थापित की जाएगी।
i.इस उद्देश्य के लिए, उत्तर प्रदेश सरकार तकनीकी सहायता और मार्गदर्शन के लिए गुजरात सरकार के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर करेगी। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) कानपुर और नागपुर स्थित राष्ट्रीय पर्यावरण इंजीनियरिंग अनुसंधान संस्थान (एनईईआरआई) से भी सहायता मांगी जाएगी।
ii.प्रतिमा स्थापना के उद्देश्य से “राजकीय निर्माण निगम” की एक अलग इकाई स्थापित की जाएगी।
iii.भगवान राम थीम पर आधारित एक डिजिटल संग्रहालय, व्याख्या केंद्र, पुस्तकालय, पार्किंग, फूड प्लाजा आदि अयोध्या के विकास का हिस्सा होंगे।
भगवान राम की 7 फुट ऊंची प्रतिमा का अनावरण:
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भगवान राम की 7 फुट ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया, जिसमें भगवान राम के पांच अवतारों में से एक, कोदंब राम को दर्शाया गया है, जो अयोध्या में उनकी षोडश संवत संग्रहालय में यात्रा के दौरान किया गया।
i.प्रतिमा शीशम के एकल खंड से बनी है और इसे कर्नाटक से 35 लाख रूपये में खरीदा गया है।
उत्तर प्रदेश के बारे में:
♦ राजधानी: लखनऊ
♦ राज्यपाल: आनंदीबेन पटेल
♦ वन्यजीव अभयारण्य: हस्तिनापुर वन्यजीव अभयारण्य
♦ राष्ट्रीय उद्यान: दुधवा राष्ट्रीय उद्यान

आंध्र प्रदेश के पूर्व मंत्री मुकेश गौड का निधन हुआ:Andra Pradesh minister Mukesh Goudआंध्र प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व राज्य मंत्री मुकेश गौड़ का पिछले 2 वर्षों से गले के कैंसर से पीड़ित होने के बाद हैदराबाद, तेलंगाना में निधन हो गया। वह 60 वर्ष के थे। उनका जन्म हैदराबाद, तेलंगाना में हुआ था।
i.1 जुलाई, 1959 को जन्मे मुकेश ने अपने कॉलेज के दिनों में एनएसयूआई (नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया) के नेता के रूप में काम किया था और 1986 में जाम बाग से नगरसेवक के रूप में जीते थे।
ii.उन्होंने 2007 में बीसी (पिछड़ा वर्ग) कल्याण मंत्री के रूप में और फिर 2009 में गोदाम और विपणन मंत्री के रूप में कार्य किया।
iii.उन्होंने 1989 और 2004 में महाराजगंज निर्वाचन क्षेत्र से और 2009 में गोशामहल विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से विधायक (विधान सभा सदस्य) के रूप में कार्य किया था।

गुजरात के पूर्व सांसद और किसान नेता विट्ठल रादडिया का निधन हुआ:
गुजरात के पोरबंदर से पूर्व सांसद (सांसद), विट्ठलभाई हंसराजभाई रादडिया का 60 वर्ष की आयु में एक लंबी बीमारी के बाद, अहमदाबाद में उनके निवास पर निधन हो गया। उनका जन्म राजकोट, बॉम्बे प्रेसीडेंसी (वर्तमान भारतीय राज्य महाराष्ट्र) में 1958 में हुआ था।
प्रमुख बिंदु:
i.विट्ठल रादडिया ने भारतीय किसान उर्वरक सहकारी लिमिटेड (इफको) के निदेशक के रूप में भी काम किया।
ii.वह राजकोट जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष भी थे।
गुजरात:
राजधानी- गांधीनगर
मुख्यमंत्री- विजय रूपानी
राज्यपाल- आचार्य देवव्रत
राष्ट्रीय उद्यान-गिर राष्ट्रीय उद्यान, वांसदा राष्ट्रीय उद्यान, समुद्री राष्ट्रीय उद्यान, ब्लैकबक राष्ट्रीय उद्यान।