Current Affairs PDF

RDSO ‘वन नेशन वन स्टैंडर्ड’ मिशन के तहत BIS द्वारा SDO घोषित होने वाला भारत का पहला संस्थान बन गया

AffairsCloud YouTube Channel - Click Here

AffairsCloud APP Click Here

RDSO becomes the FIRST Institution to be declared SDO under one One Nation One Standard24 मई 2021 को, रिसर्च डिसाइन्स & स्टैंडर्ड्स आर्गेनाइजेशन(RDSO) ब्यूरो ऑफ़ इंडियन स्टैंडर्ड्स (BIS) SDO मान्यता योजना के तहत एक स्टैंडर्ड डेवलपिंग आर्गेनाइजेशन (SDO) के रूप में मान्यता प्राप्त होने वाला पहला भारतीय संस्थान बन गया। SDO मान्यता भारत के “वन नेशन वन स्टैंडर्ड” मिशन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

i.RDSO लखनऊ (UP) में स्थित रेल मंत्रालय का एकमात्र R&D विंग है। यह अब रेलवे क्षेत्र में उत्पादों के निर्माण के लिए विश्व स्तरीय मानकों को विकसित करने के लिए जिम्मेदार है।

ii.BIS SDO मान्यता प्रति क्षेत्र एक संस्थान के लिए स्वीकृत है, जो विश्व व्यापार संगठनों (WTO)-TBT “कोड ऑफ गुड प्रैक्टिस” के अनुसार वैश्विक सर्वोत्तम मानकों को बनाए रखता है।

iii.मान्यता 3 साल के लिए वैध है और वैधता अवधि पूरी होने के बाद नवीनीकरण की आवश्यकता होगी।

वन नेशन वन स्टैंडर्डक्या है?

उद्देश्य – सेक्टर विशिष्ट उत्पादों के लिए एक समान राष्ट्रीय मानक तैयार करना, जिसे सेक्टर के तहत संगठनों के लिए अनिवार्य किया जाएगा।

  • कार्यान्वयन एजेंसी – ब्यूरो ऑफ़ इंडियन स्टैंडर्ड्स (BIS)

i.किसी विशेष क्षेत्र के विभिन्न संगठनों के डोमेन विशिष्ट विशेषज्ञ भारत में निर्मित उत्पादों के लिए मानक तैयार करेंगे।

ii.“वन नेशन वन स्टैंडर्ड” मिशन ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम का एक हिस्सा है, जिसे भारतीय उत्पादों को वैश्विक बाजार में अनुकूल बनाने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

हाल के संबंधित समाचार:

5 जनवरी 2021 को, केंद्रीय मंत्री पीयूष वेदप्रकाश गोयल, रेल मंत्रालय, ने व्यापार करने में आसानी के आधार पर अपनी तरह का पहला भारतीय रेलवे समर्पित फ्रेट पोर्टल “फ्रेट बिजनेस डेवलपमेंट पोर्टल” लॉन्च किया। यह पोर्टल ग्राहकों को उनकी माल की आवश्यकता की स्थिति जानने में सक्षम बनाता है।

ब्यूरो ऑफ़ इंडियन स्टैंडर्ड्स (BIS) के बारे में:

BIS उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण में भारत का राष्ट्रीय मानक निकाय है
स्थापित – 1986
महानिदेशक – प्रमोद कुमार तिवारी
मुख्यालय – नई दिल्ली

भारतीय रेल के बारे में:

अध्यक्ष और CEO – सुनीत शर्मा
स्थापित – 16 अप्रैल 1853
PNR – भारतीय रेलवे की ट्रेन के टिकट में 10 अंकों की संख्या होती है। इस नंबर को पैसेंजर नेम रिकॉर्ड (PNR) कहा जाता है।