Current Affairs PDF

विश्व मत्स्य दिवस 2021 – 21 नवंबर

AffairsCloud YouTube Channel - Click Here

AffairsCloud APP Click Here

World Fisheries Day 2021विश्व मत्स्य दिवस प्रतिवर्ष 21 नवंबर को दुनिया भर में लाखों मछली पालकों, मछुआरे और मत्स्य व्यापार से जुड़े लोगों के योगदान को मान्यता देने के लिए मनाया जाता है।

  • विश्व मत्स्य दिवस का लक्ष्य हमारे समुद्री और मीठे पानी के संसाधनों की स्थिरता के लिए अत्यधिक मछली पकड़ने, आवास विनाश और अन्य गंभीर खतरों पर ध्यान आकर्षित करना है।

नोट – सतत विकास लक्ष्य (SDG) – 14: “पानी के नीचे जीवन”, समुद्री आबादी की सुरक्षा के लक्ष्यों से संबंधित है।

  • 2021 पांचवां विश्व मत्स्य दिवस का प्रतीक है, जिसे 2015 में पहली बार मनाया जाने के बाद से दुनिया भर में प्रतिवर्ष मनाया जाता है।

उद्देश्य – मछुआरा समुदायों के लिए मजबूत अवसर पैदा करना; मत्स्य पालन को एक व्यापार, सामाजिक जिम्मेदारी और न्याय के नैतिक आधार के रूप में प्रोत्साहित करना और मछली पकड़ने वाले समुदायों के हितों की रक्षा करना।

पृष्ठभूमि:

i.वर्ल्ड फिशरीज कंसोर्टियम के लिए एक फोरम 1997 में स्थापित किया गया था और इसे वर्ल्ड फिशरीज फोरम (WFF) कहा गया था।

ii.पहला विश्व मत्स्य दिवस 21 नवंबर, 2015 को मनाया गया था, उसी दिन, भारत ने नई दिल्ली में अंतर्राष्ट्रीय मछुआरा संगठन की स्थापना की थी।

महत्व:

i.भारत का लक्ष्य वित्तीय वर्ष 2024-25 तक समुद्री उत्पादों सहित मत्स्य पालन क्षेत्र में निर्यात से 1 लाख करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त करना है।

ii.भारत सरकार देश में नीली क्रांति के माध्यम से मछली पकड़ने के क्षेत्र को बदलने और उत्पादकता बढ़ाने, गुणवत्ता में सुधार करने और कचरे को कम करके किसानों की आय में वृद्धि की योजना बना रही है।

iii.ओडिशा भारत का चौथा सबसे बड़ा मछली उत्पादक राज्य है और यह भारतीय अर्थव्यवस्था में मत्स्य पालन क्षेत्र का कुल 2.33 प्रतिशत योगदान देता है। ओडिशा द्वारा वर्ष 2020-21 के दौरान 8.73 लाख मीट्रिक टन मछली का उत्पादन किया गया है।

मछली उत्पादन:

i.भारत चीन के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा मछली उत्पादक देश है जबकि तमिलनाडु  (2019 के अनुसार) भारत का सबसे बड़ा मछली उत्पादक राज्य है।

ii.मत्स्य पालन क्षेत्र पिछले 5 वर्षों में ओडिशा में लगभग 13 प्रतिशत की औसत वार्षिक वृद्धि दर से बढ़ा है।

iii.ओडिशा सरकार ने सूखी मछली और मछली पाउडर की शुरूआत के माध्यम से मयूरभंज जिले में आंगनवाड़ी पूरक पोषण कार्यक्रम में मछली को शामिल करने का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है।

मछली पकड़ने के क्षेत्र में सुधार के लिए सरकार के प्रयास:

i.प्रधान मंत्री मत्स्य संपदा – इस कार्यक्रम का लक्ष्य 2024-25 तक 22 मिलियन टन मछली उत्पादन प्राप्त करना है। साथ ही, इससे 55 लाख लोगों के लिए रोजगार के अवसर पैदा होने की उम्मीद है।

ii.नीली क्रांति पर ध्यानकेंद्र: केंद्र सरकार ने मत्स्य पालन के विकास और प्रबंधन की दिशा में ‘नीली क्रांति 2.0 / नील क्रांति मिशन’ की शुरुआत की है।

नोट – पहली नीली क्रांति 7वीं पंचवर्षीय योजना (1985-1990) में शुरू की गई थी।

iii.मछली किसानों को उनकी कार्यशील पूंजी को पूरा करने में मदद करने के लिए किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) का विस्तार

पुरस्कार:

विश्व मत्स्य दिवस 2021 का पुरस्कार समारोह कन्वेंशन सेंटर, ओडिशा सचिवालय, भुवनेश्वर में आयोजित किया गया है।

  • यह पुरस्कार मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय द्वारा आयोजित किया जाता है।
  • भारत सरकार ने विश्व मत्स्य दिवस 2020 पर पहली बार मत्स्य पालन क्षेत्र के पुरस्कारों की सुविधा प्रदान की।

सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्य 2020-2021


पुरस्कार राज्य 
सर्वश्रेष्ठ समुद्री राज्य आंध्र प्रदेश
सर्वश्रेष्ठ अंतर्देशीय राज्य तेलंगाना
सर्वश्रेष्ठ पहाड़ी एवं नॉर्थ ईस्ट राज्य त्रिपुरा

सर्वश्रेष्ठ समुद्री अर्धसरकारी संगठन – केरल स्टेट कोऑपरेटिव फेडरेशन फॉर फिशरीज डेवलपमेंट लिमिटेड

सर्वश्रेष्ठ अंतर्देशीय अर्ध सरकारी संगठन – उत्तर प्रदेश मत्स्य जीवी सहकारी संघ लिमिटेड

सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले जिले 2020-2021

पुरस्कार जिला
सर्वश्रेष्ठ समुद्री जिला बालासोर, उड़ीसा
सर्वश्रेष्ठ अंतर्देशीय जिला बालाघाट, मध्य प्रदेश
सर्वश्रेष्ठ पहाड़ी एवं नॉर्थ ईस्ट जिले  बोंगाईगांव, असम

उपस्थित लोग:

केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला; केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री डॉ L मुरुगन और डॉ संजीव कुमार बाल्यान; मत्स्य पालन के सचिव, जतिंद्र नाथ स्वैन।

मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय के बारे में:

केंद्रीय मंत्री – पुरुषोत्तम रूपला
राज्य मंत्री – डॉ संजीव कुमार बाल्यान और डॉ L मुरुगन