Current Affairs PDF Sales

ओडिशा मंत्रिमंडल ने विश्व बैंक से सहायता के साथ ‘REWARD’ परियोजना के कार्यान्वयन को मंजूरी दी

AffairsCloud YouTube Channel - Click Here

AffairsCloud APP Click Here

Odisha to implement REWARD project9 फरवरी, 2021 को राज्य के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की अध्यक्षता में ओडिशा मंत्रिमंडल ने ‘रीजुवनेटिंग वाटरशेड्स फॉर एग्रीकल्चरल रीजिलिएंस थ्रू इनोवेटिव डेवलपमेंट (REWARD)’ परियोजना को लागू करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी। परियोजना के लिए अनुमानित खर्च 500 करोड़ रु हैं, जिसमें विश्व बैंक 350 करोड़ रु की सहायता प्रदान करेगा।

परियोजना को कुशल जल प्रबंधन और उन्नत फसल क्षेत्र सुनिश्चित करने के लिए कार्यान्वित किया जा रहा है।

  • परियोजना की कार्यान्वयन अवधि अप्रैल, 2021 से शुरू होने वाले 6 साल की है।
  • ‘REWARD’ प्रोजेक्ट्स के कारण 10,000 भूमिहीन लोगों सहित लगभग 1.9 लाख लोग लाभान्वित होंगे।
  • इसे ओडिशा के 7 जिलों – संबलपुर, ढेंकनाल, नयागढ़, देवगढ़, कोरापुट, नबरंगपुर और सुंदरगढ़ में लागू किया जाएगा।
  • ओडिशा का कृषि और किसान सशक्तिकरण विभाग मृदा संरक्षण और वाटरशेड प्रबंधन निदेशालय की सहायता से परियोजना को लागू करेगा।

‘REWARD’ परियोजना:

i.उद्देश्य:

  • चयनित वाटरशेड में भूमि और जल संरक्षण और जलवायु के लचीलेपन में सुधार करना
  • प्रभावी विज्ञान-आधारित वाटरशेड विकास कार्यक्रमों को वितरित करने के लिए राष्ट्रीय और राज्य संस्थानों की क्षमता को मजबूत करना।

ii.यह भूमि संसाधन विभाग, भारत सरकार और विश्व बैंक की एक पहल है।

iii.इस परियोजना को 70:30 अनुपात में वित्त पोषित किया जाएगा, जहां 70% विश्व बैंक द्वारा और 30% राज्य सरकार द्वारा वित्त पोषित किया जाएगा।

iv.यह भारतीय राज्यों कर्नाटक, आंध्र प्रदेश में लागू किया जा रहा है

v.परियोजना के लिए कुल आवंटन ~ 250 मिलियन डॉलर (~ INR 1,821.25 करोड़) है, जिसमें से विश्व बैंक से 178.5 मिलियन डॉलर के अंतर्राष्ट्रीय पुनर्निर्माण और विकास बैंक (IBRD) ऋण है और शेष राशि भारत सरकार और राज्य सरकारों द्वारा वित्त पोषित है।

अपेक्षित परिणाम:

  • किसानों की उत्पादकता और शुद्ध आय में वृद्धि
  • मिट्टी अपवाह को रोकना
  • प्राकृतिक वनस्पति का पुनर्जनन
  • बारिश के पानी का संग्रहण
  • भूजल स्तर का रीचार्ज
  • मल्टी-क्रॉपिंग और विविध कृषि आधारित गतिविधियों की शुरूआत करने में सक्षम बनाना 

हाल की संबंधित खबरें:

5 सितंबर, 2020 को, कर्नाटक के राज्य मंत्रिमंडल ने विश्व बैंक (WB) सहायता के साथ 600 करोड़ रु की परियोजना को मंजूरी दी।

ओडिशा के बारे में:
जनजातियाँ – बोंडा (जिसे बोंडो के नाम से भी जाना जाता है), गदाबस, सोरा (जिसे सायोरा के नाम से भी जाना जाता है)
पर्वत और चोटियाँ – महेंद्रगिरि (पर्वत), देवमाली (पर्वत शिखर), मलयागिरी (पर्वत शिखर)

विश्व बैंक के बारे में:
अध्यक्ष- डेविड रॉबर्ट मलपास
मुख्यालय- वाशिंगटन, D.C., अमेरिका