Current Affairs PDF Sales

भारत की पहली प्रभाव-आधारित बाढ़ पूर्वानुमान प्रणाली प्राप्त करने के लिए UK स्पेस एजेंसी के साथ जम्मू और कश्मीर की साझेदारी

AffairsCloud YouTube Channel - Click Here

AffairsCloud APP Click Here

J&K-joins-hands-with-UK-space-agency-for-impact-based-flood-forecastingजम्मू और कश्मीर (J & K) के UT ने ‘प्रभाव-आधारित बाढ़ पूर्वानुमान प्राप्त करने के लिए पृथ्वी अवलोकन (EO) आधारित सूचना’ पर यूनाइटेड किंगडम स्पेस एजेंसी (UKSA) के साथ एक संयुक्त परियोजना का उपयोग करते हुए भारत की पहली प्रभाव-आधारित बाढ़ पूर्वानुमान प्रणाली प्राप्त करने के लिए साझेदारी की है।

  • यह परियोजना नेशनल स्पेस इनोवेशन प्रोग्राम (NSIP) के तहत आती है, जो UK संगठनों और अंतर्राष्ट्रीय भागीदारों के बीच संयुक्त परियोजनाओं का समर्थन करने के लिए UK स्पेस एजेंसी द्वारा स्थापित एक नया कार्यक्रम है।
  • प्रभाव आधारित पूर्वानुमान परियोजना HR वालिंगफोर्ड द्वारा ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय, सायर्स एंड पार्टनर्स (SPL), और D-Orbit (UK) के सहयोग से की जाएगी।
  • जम्मू-कश्मीर सरकार को इस परियोजना पर कोई खर्च नहीं उठाना पड़ेगा

इम्पैक्ट-बेस्ड फ्लड फोरकास्टिंग क्या है?

एक प्रभाव-आधारित बाढ़ पूर्वानुमान तंत्र लोगों, उनके घरों, फसलों, पशुधन और परिवहन मार्गों पर प्रभाव डालता है जो सरकार द्वारा बाढ़ की घटनाओं के दौरान आने वाली चुनौतियों को कम करने के लिए उपयोग किया जाएगा।

  • यह फ्लुवियल फ्लड रिस्क, जानमाल के नुकसान की आशंका, लोगों को चोट, इंफ्रास्ट्रक्चर में गड़बड़ी और आर्थिक नुकसान की भविष्यवाणी करता है।

J & K को इससे कैसे फायदा होगा?

i.क्षेत्र में किसी भी घटना के लिए योजनाबद्ध, सुव्यवस्थित और त्वरित प्रतिक्रिया के लिए पूर्वानुमान का उपयोग किया जाएगा।

  • जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल, मनोह सिन्हा ने कहा है कि प्रभाव-आधारित पूर्वानुमान, बाढ़ पूर्वानुमान सेवाओं का अगला चरण है।
  • इस ढांचे को किसी भी मौजूदा या भविष्य के बाढ़ प्रवाह पूर्वानुमान प्रणाली से जोड़ा जा सकता है।
  • जम्मू और कश्मीर भूकंपीय क्षेत्र IV और V में आता है और इसे भूकंप का जोखिम से भारा बना देता है।

ii.सहयोग पिछली बाढ़ की घटनाओं के विश्लेषण और पूर्वानुमानित बाढ़ और उनके प्रभाव के बीच संबंधों की पहचान करने में सहायक होगा।

भारत – विश्व में तीसरा सबसे अधिक आपदाग्रस्त देश:

यूनाइटेड नेशंस ऑफिस फॉर डिजास्टर रिस्क रिडक्शन (UNDRR) की एक रिपोर्ट के अनुसार, चीन और अमरीका के बाद भारत को दुनिया में तीसरे सबसे अधिक आपदा प्रवण देश के रूप में स्थान दिया गया था। 

  • जलवायु संबंधी खतरों के कारण बाढ़ को लोगों के लिए सबसे बड़ा जोखिम माना गया।
  • भारत में कई बाढ़ पूर्वानुमान प्रणालियां हैं जो जल स्तर और प्रवाह की भविष्यवाणियां करती हैं, लेकिन प्रभाव आधारित बाढ़ पूर्वानुमान प्रणाली बहुत कम हैं।

हाल की संबंधित खबरें:

13 जनवरी 2021 को जम्मू और कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेश ने नॉर्थ ईस्ट केन एंड बैम्बू डेवलपमेंट काउंसिल (NECBDC) के साथ इस क्षेत्र में बांस की खेती और संबंधित उद्यमशीलता को बढ़ावा देने के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

जम्मू और कश्मीर के UT के बारे में:
जनजातियाँ – ब्रोकपा, ड्रोकपा, डार्ड, शिन, चांगपा, गुजर
राष्ट्रीय उद्यान (NP) – सिटी फॉरेस्ट (सलीम अली) NP, दाचीगाम NP, किश्तवार NP