NCPCR ने COVID-19 से प्रभावित बच्चों के लिए “बाल स्वराज” पोर्टल लॉन्च किया

मई 2021 में, महिला और बाल विकास मंत्रालय के तहत एक संगठन नेशनल कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ़ चाइल्ड राइट्स(NCPCR) ने “बाल स्वराज” लॉन्च किया। बाल स्वराज उन बच्चों की रीयल-टाइम ट्रैकिंग और निगरानी के लिए एक ऑनलाइन ट्रैकिंग पोर्टल है, जिन्होंने COVID-19 में अपने माता-पिता दोनों को खो दिया है।

नोट– किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 2(14) के तहत, जिन बच्चों ने अपने माता-पिता को खो दिया है वे ऐसे बच्चे हैं जिन्हें देखभाल और सुरक्षा की आवश्यकता है।

i.बाल स्वराज पोर्टल के तहत एक लिंक “COVID-केयर” संबंधित विभागों के अधिकारियों को ऐसे बच्चों के बारे में डेटा अपलोड करने में सक्षम बनाएगा जिन्हें देखभाल की आवश्यकता है।

ii.बच्चों के चाइल्ड वेलफेयर कमिटी(CWC) पहुंचने से लेकर उनके माता-पिता या अभिभावक को पेश किए जाने तक की निगरानी पोर्टल के माध्यम से डिजिटल रूप से की जाएगी।

iii.यह डिजिटल निगरानी प्रक्रिया, विभिन्न राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में CWC के वित्तीय खर्च को नियंत्रित करेगी।

नेशनल कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ़ चाइल्ड राइट्स (NCPCR) के बारे में:

किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 109 के तहत NCPCR भारत में सभी बच्चों की निगरानी प्राधिकरण है
उद्देश्य 0-18 वर्ष के आयु वर्ग के सभी बच्चों की सुरक्षा करना
अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो
स्थापित 2007
मुख्यालय – नई दिल्ली





error: Alert: Content is protected !!