स्मृति ईरानी ने बैरकपुर, WB में जूट बीज वितरण योजना और जूट किसानों की जागरूकता कार्यशाला का इ-उद्घाटन किया

15 फरवरी 2021 को, केंद्रीय मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी, कपड़ा और महिला & बाल विकास मंत्रालय ने इम्प्रूव्ड कल्टीवेशन एंड एडवांस्ड रीटिंग एक्सरसाइज फॉर जूट(ICARE-जूट) पहल पर प्रमाणित जूट बीज वितरण योजना और जूट किसान जागरूकता कार्यशाला का इ-उद्घाटन किया।

i.कार्यशाला का आयोजन इंडियन कौंसिल ऑफ़ एग्रीकल्चरल रिसर्च(ICAR)-सेंट्रल रिसर्च इंस्टिट्यूट फॉर जूट एंड अलाइड फाइबर्स(CRIJAF) संस्थान बैरकपुर, पश्चिम बंगाल (WB) में किया गया था।

ii.कपड़ा मंत्रालय द्वारा अपने क्षेत्र कार्यालयों के माध्यम से दोनों कार्यक्रम आयोजित किए गए थे अर्थात, जूट आयुक्त का कार्यालय, राष्ट्रीय जूट बोर्ड (NJB), भारतीय जूट निगम (JCI) और ICAR-CRJJAF।

प्रमाणित जूट बीज वितरण योजना के बारे में:

यह योजना वित्त वर्ष 22 में 1 हजार मीट्रिक टन (MT) प्रमाणित जूट बीज के वितरण के लिए 2020 में जूट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया और नेशनल सीड्स कॉरपोरेशन के बीच हस्ताक्षरित MoU की तर्ज पर शुरू की गई थी।

प्रमाणित जूट के बीज कैसे फायदेमंद होंगे?

i.यह लगभग 5 लाख जूट किसानों के आय में लगभग 10,000 / हेक्टेयर और उत्पादकता में 15% की वृद्धि करेगा।

ii.यह जूट की गुणवत्ता में सुधार करने के साथ-साथ इसके उत्पादन को भी बढ़ाएगा जिससे बांग्लादेश से आयात पर निर्भरता कम होगी।

क्वालिटी जूट को बढ़ावा देने में केंद्र सरकार के प्रयास किस तरह से समाज को लाभ पहुंचा रहे हैं?

ICARE: 2015 में, ICARE-जूट को केवल 60 MT प्रमाणित जूट बीज के वितरण के साथ लॉन्च किया गया था, जो कि 2017 में 600 MT से अधिक हो गया है।

ICARE कार्यक्रम के माध्यम से सरकार ने 2.60 लाख किसानों को सब्सिडी दरों पर 100% प्रमाणित बीज प्रदान करके और वैज्ञानिक जूट की खेती के तरीकों के बारे में जागरूकता बढ़ाकर समर्थन किया है।

रोजगार: जूट सामग्री में अनिवार्य पैकेजिंग के बारे में केंद्र के फैसले से लगभग 40 लाख कृषि आधारित घरों सहित 4 लाख से अधिक किसानों को लाभ हो रहा है।

जूट-जियो-टेक्सटाइल्स: सरकार ने एक तकनीकी कपड़ा मिशन को मंजूरी दी है जिसमें जूट जियो-टेक्सटाइल्स (JGT) शामिल है।

i.JGT सबसे महत्वपूर्ण विविध जूट उत्पाद है।

ii.प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना (PMGSY) के तहत लगभग 195 ग्रामीण सड़कों को JGT के उपयोग से पूरे देश में स्वीकृत किया गया है।

-सरकार ने जूट के लिए MSP को 2014-15 में 2400 रुपये से बढ़ाकर 2020-21 में 4225 रुपये कर दिया।

-केंद्र सरकार ने जूट किसानों की उत्पादकता, गुणवत्ता और आय बढ़ाने के लिए 46000 रीटिंग टैंकों के निर्माण को भी मंजूरी दी है।

हाल के संबंधित समाचार:

i.27 जनवरी 2021 को, टेक्सटाइल कमेटी, कपड़ा मंत्रालय, भारत सरकार ने कपड़ा और परिधान (T&A) के निर्यात को जापान बाजार में बढ़ाने के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से M/s निसेनकेन क्वालिटी इवैल्यूएशन सेंटर, जापान के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

ii.5 जनवरी 2021 को, एक अंतर-मंत्रालयीय पहल, टॉयकाथॉन 2021, केंद्रीय मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी,महिला एवं बाल विकास मंत्री (MoWCD), कपड़ा मंत्रालय और केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’, शिक्षा मंत्रालय(MoE) द्वारा संयुक्त रूप से नई दिल्ली में लॉन्च इवेंट के दौरान टॉयकाथन पोर्टल(https://toycathon.mic.gov.in.) के साथ शुरू किया गया था।

कपड़ा मंत्रालय के बारे में:
स्मृति ईरानी संविधान-अमेठी, उत्तर प्रदेश
मुख्यालय- नई दिल्ली





error: Alert: Content is protected !!