अनुसंधान पर भारत का GERD असंतोषजनक : UNESCO विज्ञान रिपोर्ट 2021

UNESCO द्वारा जारी ‘UNESCO साइंस रिपोर्ट 2021: द रेस अगेंस्ट टाइम फॉर स्मार्टर डेवलपमेंट‘ में कहा गया है कि अनुसंधान में भारत का निवेश असंतोषजनक है। भारत का ग्रॉस डोमेस्टिक एक्सपेंडिचर ऑन रिसर्च & डेवलपमेंट(GERD) कई वर्षों तक सकल घरेलू उत्पाद का 0.7% रहा।

  • BRICS (ब्राजील, रूस, भारत, चीन, दक्षिण अफ्रीका) देशों में भारत का GERD/GDP अनुपात सबसे कम है।

UNESCO विज्ञान रिपोर्ट

  • UNESCO की विज्ञान रिपोर्ट 2021 UNESCO की विज्ञान रिपोर्ट की श्रृंखला की सातवीं रिपोर्ट है।
  • यह 1993 में लॉन्च होने के बाद से हर 5 साल में प्रकाशित होता है।
  • 2021 रिपोर्ट के भारतीय अध्याय को सेंटर फॉर डेवलपमेंट स्टडीज (CDS), तिरुवनंतपुरम, केरल के निदेशक सुनील मणि ने लिखा है।

अनुसंधान में भारत का निवेश

2014 के बाद से भारत की अनुसंधान तीव्रता में गिरावट आ रही है।

  • 2003 की प्रौद्योगिकी नीति के विज्ञान ने 2007 तक सकल घरेलू उत्पाद का 2% अनुसंधान और विकास (R&D) को समर्पित करने की सीमा तय की। R&D पर GDP के 2% की लक्ष्य तिथि 2018 और बाद में 2022 तक निर्धारित की गई थी।
  • अंत में, 2020 में भारत की नई विज्ञान और प्रौद्योगिकी नीति का मसौदा तैयार करने वाली टास्क फोर्स ने 2030 तक R&D के लिए GDP पर 2% का लक्ष्य निर्धारित किया था।

अनुसंधान एवं विकास में लगे वैज्ञानिकों/इंजीनियरों का घनत्व

भारत में अनुसंधान एवं विकास में लगे वैज्ञानिकों/इंजीनियरों का घनत्व 2018 में 11 (श्रम बल के प्रति 10,000) था। वहीं, चीन में यह अनुपात 50, जापान में 130 और दक्षिण कोरिया में 180 रहा।

सरकारी क्षेत्र में अनुसंधान एवं विकास की गिरावट

रिपोर्ट में 2015 के बाद से सरकारी क्षेत्र के अनुसंधान एवं विकास में लगातार गिरावट पर प्रकाश डाला गया है। हालांकि निजी व्यावसायिक उद्यमों में अनुसंधान एवं विकास की हिस्सेदारी बढ़कर 42% हो गई है।

  • R&D मुख्य रूप से फार्मास्यूटिकल्स, ऑटोमोटिव और सूचना प्रौद्योगिकी जैसे क्षेत्रों पर केंद्रित है।
  • विदेशी बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा R&D में निवेश में वृद्धि हुई है, 2019 में R&D में निजी क्षेत्र के निवेश का 16% जितना अधिक है।

सकारात्मक पहलुओं

i.नवीनतम तकनीकों पर भारत के शोधकर्ताओं द्वारा वैज्ञानिक प्रकाशनों की संख्या 2011 में 80,458 से बढ़कर 2019 में 1.61 लाख हो गई है।

ii.भारत ने उद्योग, बुनियादी ढांचे और नवाचार से संबंधित सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल (SDG) लक्ष्यों की दिशा में भी ‘सॉलिड प्रोग्रेस’ की है।

बेहतर लिंकेज की आवश्यकता

  • UNESCO की विज्ञान रिपोर्ट विदेशी और स्थानीय अनुसंधान फर्मों के बीच प्रभावी बातचीत के लिए ‘नीति पुलों’ की आवश्यकता पर प्रकाश डालती है।
  • यह उन क्षेत्रों में तकनीकी विकास को बढ़ावा देने के लिए स्टार्ट-अप पारिस्थितिकी तंत्र और निर्माताओं के बीच बेहतर संबंधों का भी आह्वान करता है जिनमें भारत की वैश्विक उपस्थिति है।

UNESCO के बारे में

महानिदेशक – ऑड्रे अज़ोले
मुख्यालय – पेरिस, फ्रांस





error: Alert: Content is protected !!