IRDAI ने स्टैंडर्ड वेक्टर बॉर्न डिजीज हेल्थ पॉलिसी पर दिशानिर्देश जारी किए

3 फरवरी, 2021 को, इन्शुरन्स रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया(IRDAI) ने स्टैण्डर्ड वेक्टर बॉर्न डिजीज हेल्थ पॉलिसी पर दिशानिर्देश जारी किए ताकि सभी सामान्य और स्वास्थ्य बीमाकर्ताओं को इस उत्पाद की पेशकश करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके। वे इस उत्पाद को 1 अप्रैल, 2021 तक पेश कर सकते हैं।

i.उत्पाद एक वर्ष (12 महीने) की पॉलिसी अवधि प्रदान करेगा।

ii.उत्पाद का नामकरण बीमा कंपनी के नाम पर होना चाहिए, जिसके बाद “मशक रक्षक” होगा।

उद्देश्य– जनता के लिए वेक्टर बोर्न रोग विशिष्ट स्वास्थ्य बीमा उत्पाद उपलब्ध कराना

वेक्टर बॉर्न डिजीज क्या हैं?

ये ऐसी बीमारियाँ हैं जो मनुष्यों और अन्य जानवरों को रक्त-पिलाने वाले जानवरों, जैसे कि मच्छरों, टिक, और फ्लीस द्वारा प्रसारित संक्रमण के परिणामस्वरूप होती हैं।

वेक्टर जनित रोगों में डेंगू बुखार, वेस्ट नाइल वायरस, लाइम रोग और मलेरिया शामिल हैं।

स्टैण्डर्ड वेक्टर बॉर्न डिजीज हेल्थ पॉलिसी पर दिशानिर्देश

नियम

उत्पाद IRDAI (स्वास्थ्य बीमा) विनियम, 2016, अन्य सभी लागू विनियमों और अन्य लागू दिशानिर्देशों के सभी प्रावधानों का पालन करेगा।

राशि

i.बीमाकर्ता उपरोक्त विनियमन और दिशानिर्देशों के आधार पर पॉलिसी की कीमत निर्धारित करेंगे।

ii.पॉलिसी अवधि के दौरान, दी जाने वाली कवरेज की कुल राशि का भुगतान बीमित राशि के 100% से अधिक नहीं होना चाहिए।

न्यूनतम और अधिकतम बीमा राशि

मानक उत्पाद के तहत, बीमा राशि न्यूनतम 10,000 रुपये और अधिकतम 2,00,000 रुपये होगी।

आयु वर्ग

न्यूनतम- 18 वर्ष

अधिकतम- 65 वर्ष से कम आयु का नहीं(मूल बीमित सहित सभी बीमित सदस्यों के लिए)

नामकरण

बीमाकर्ता को उस क्षेत्र के आधार पर वर्नाक्यूलर में “मशक” के अर्थ का भी उल्लेख करना होगा जहां पॉलिसी बेची जाती है।

कवरेज

i.अस्पताल में भर्ती लाभ

-जब वेक्टर-जनित रोग (नों) का सकारात्मक निदान किया जाता है, तो 72 घंटे की न्यूनतम निरंतर अवधि के लिए अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है, बीमित राशि के 100% के बराबर बीमित राशि (निदान कवर के तहत भुगतान की गई राशि को छोड़कर) का भुगतान किया जाएगा।

-बीमारियों में डेंगू बुखार, मलेरिया, फाइलेरिया (लिम्फेटिक फाइलेरियासिस), चिकुनगुनिया, जापानी इंसेफेलाइटिस और जीका वायरस शामिल हैं।

ii.निदान कवर

इस कवर के तहत, पॉलिसीधारक को प्रत्येक बीमारी के लिए पॉलिसी वर्ष में केवल एक बार भुगतान करना होगा।

iii.समाप्ति

यदि बीमा राशि के 100% पर भुगतान किया गया है, तो पॉलिसी समाप्त कर दी जाएगी।

अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

हाल के संबंधित समाचार:

15 अक्टूबर, 2020 को, इन्शुरन्स रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया(IRDAI) ने स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस प्रोडक्ट ‘सरल जीवन बीमा’ के लिए दिशानिर्देश जारी किए।

बीमा योजना को 1 जनवरी 2021 से सभी जीवन बीमा कंपनियों द्वारा अनिवार्य रूप से पेश किया जाना चाहिए।

इन्शुरन्स रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया(IRDAI) के बारे में:
अध्यक्ष– सुभाष चंद्र (C) खुंटिया
मुख्यालय– हैदराबाद, तेलंगाना





error: Alert: Content is protected !!