गिरिराज सिंह: UMANG प्लेटफॉर्म के साथ e-GOPALA ऐप के एकीकरण की घोषणा

गिरिराज सिंह, केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री ने विश्व दुग्ध दिवस (1 जून 2021) के एक भाग के रूप में आयोजित आभासी कार्यक्रम के दौरान UMANG(यूनिफाइड मोबाइल एप्लीकेशन फॉर न्यू-ऐज गवर्नेंस) प्लेटफॉर्म के साथ e-GOPALA ऐप(जनरेशन ऑफ़ वेल्थ थ्रू प्रोडक्टिव लाइवस्टॉक) के एकीकरण की घोषणा की।

  • UMANG प्लेटफॉर्म के साथ e-GOPALA ऐप का एकीकरण UMANG प्लेटफॉर्म के 3.1 करोड़ उपयोगकर्ताओं को e-GOPALA ऐप तक पहुंच प्राप्त करने में सक्षम बनाएगा।

राष्ट्रीय पुरस्कार:

i.केंद्रीय मंत्री ने गोपाल रत्न पुरस्कार, मवेशी और डेयरी क्षेत्र के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार भी लॉन्च किए हैं।

ii.पुरस्कार 3 श्रेणियों के तहत प्रस्तुत किए गए

  • सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान
  • सर्वश्रेष्ठ आर्टिफीसियल इनसेमिनेशन टेक्निशियन (AIT)
  • सर्वश्रेष्ठ डेयरी सहकारी / दुग्ध उत्पादक कंपनी / FPO

iii.पुरस्कारों के विजेताओं की घोषणा 31 अक्टूबर 2021 को की जाएगी।

भारत का दूध उत्पादन:

i.भारत दुग्ध उत्पादक देशों का वैश्विक नेता है, जिसने 2019-20 के दौरान 198.4 मिलियन टन दूध का उत्पादन किया है।

ii.भारत में दुग्ध उत्पादन पिछले 6 वर्षों में 6.3% प्रति वर्ष की औसत वार्षिक वृद्धि दर से बढ़ा है और विश्व दुग्ध उत्पादन 1.5% प्रति वर्ष की दर से बढ़ रहा है।

iii.दूध की प्रति व्यक्ति उपलब्धता 2013-2014 में प्रति व्यक्ति 307 ग्राम से बढ़कर 2019-2020 में प्रति व्यक्ति 406 ग्राम हो गई है।

UMANG ऐप क्या है?

एक मोबाइल ऐप यूनिफाइड मोबाइल एप्लीकेशन फॉर न्यू-ऐज गवर्नेंस(UMANG) जो केंद्र और राज्य सरकार की सेवाओं तक पहुंच के लिए भारत सरकार द्वारा इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की एक डिजिटल इंडिया पहल है।

ऐप भारत के सभी नागरिकों के लिए लक्षित है और भुगतान, पंजीकरण, सूचना खोज और आवेदन फॉर्म सहित सैकड़ों सेवाएं प्रदान करता है।

गोपाला ऐप क्या है?

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 10 सितंबर 2020 को किसानों के लिए प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना (PMSY) के तहत E Gopala ऐप लॉन्च किया है। ऐप किसानों को बिचौलियों से मुक्ति देगा और मवेशियों के लिए उत्पादकता, स्वास्थ्य और आहार से संबंधित सभी जानकारी प्रदान करेगा।

हाल के संबंधित समाचार:

7 अप्रैल 2021 को, AYUSH मंत्रालय के नेशनल मेडिसिनल प्लांट्स बोर्ड(NMPB) ने पशु चिकित्सा विज्ञान के उपयोग के लिए औषधीय जड़ी बूटियों का उपयोग करके नई दवाओं के निर्माण के लिए पशुपालन और डेयरी विभाग के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

मिशन फॉर फिशरीज, एनिमल हसबेंडरी एंड डैरीइंग के बारे में:

केंद्रीय मंत्री– गिरिराज सिंह (निर्वाचन क्षेत्र: बेगूसराय, बिहार)
राज्य मंत्री– डॉ संजीव कुमार बाल्यान (निर्वाचन क्षेत्र: मुजफ्फरनगर, उत्तर प्रदेश), प्रताप चंद्र सारंगी (निर्वाचन क्षेत्र: बालासोर, ओडिशा)





error: Alert: Content is protected !!